Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    इकौना\श्रावस्ती। मुख्य विकास अधिकारी ने जनपद के कई गौशालाओं का किया निरीक्षण

    पशुओं को चारा खिलाने हेतु चरनी खुली रहने से उस पर भी छाया एवं बरसात से बचाव हेतु सेड का निर्माण कराने को कहा-

    इकौना\श्रावस्ती। जिले के विकास खण्ड इकौना के अन्तर्गत निर्माणाधीन गौआश्रय स्थल जयचन्द्रपुर कटघरा का मुख्य विकास अधिकारी अनुभव सिंह ने औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान मुख्य विकास अधिकारी ने निर्देश दिया कि गोवंशों के रहने, पशुओं को चारा खिलाने हेतु चरनी खुली होने के कारण उस पर भी छाया एवं बरसात से बचाव हेतु सेड का निर्माण कराये जाने का निर्देश दिया है। 

    ताकि गोवंशों को चरनी पर भी उन्हें छाया मिल सके तथा बरसात के दौरान भीगने से बचाया जा सके निरीक्षण के समय कार्यस्थल पर 04 श्रमिक कार्य करते हुए पाये गये। वर्तमान समय में 02 पशुशेड बीम स्तर पर निर्मित पाया गया, जिस सम्बंध में मुख्य पशु चिकित्साधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि शेड की प्लिंथ नीची है, जिससे बरसात की दिनों में जलभराव हो जायेगा, जिसे व्यवस्थित कराये जाने के निर्देश दिये गये। 02 शेड के निर्माण हेतु जमीन के बराबर में बीम की ढलाई का कार्य चल रहा है, जिसमें श्रमिकों की संख्या अत्यन्त कम है। वहीं केयर टेकर आवास का निर्माण प्लास्टर सहित पूर्ण पाया गया। मौके पर उपस्थित अवर अभियन्ता द्वारा अवगत कराया गया कि जुलाई 2021 में कार्य हेतु धनराशि प्राप्त हुई है। लगभग 11 माह व्यतीत हो जाने के बाद भी कार्य की प्रगति बहुत खराब पाई गई। वहीं निर्देश दिया गया कि जून तक चारों निर्माणाधीन पशु शेड एवं भूसा रखने हेतु गोदाम का कार्य प्रत्येक दशा में पूर्ण कराया जाए। इसके लिए कार्यदायी संस्था एवं ठेकेदार के साथ बैठक कराने के निर्देश मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को दिये गए। वहीं मुख्य विकास अधिकारी द्वारा अस्थाई गोसंरक्षण केन्द्र टड़वा महंथ गोसंरक्षण केन्द्र निरीक्षण के दौरान पशुओं की संख्या 341 बताई गई, जिसमें 04 पशु बीमार पाये गये पशुओं के लिए भूसा संरक्षित किया जा रहा है। निरीक्षण के दौरान यह अवगत कराया गया कि पशुओं के चारा बुवाई कराने वाली जमीन पर गगांव के किसी व्यक्ति का अनाधिकृत कब्जा किया है। 

    जिस पर उन्होने उप जिलाधिकारी इकौना को तत्काल अतिक्रमणमुक्त कराने के निर्देश दिए। उपायुक्त स्वतः रोजगार व खण्ड विकास अधिकारी इकौना को निर्देश दिया कि भूमि खाली होने पर तत्काल हरे चारे की बुवाई सुनिश्चित की जाए। तद्पश्चात अस्थाई गो-आश्रय स्थल अकबरपुर के निरीक्षण के दौरान ज्ञात हुआ कि गौशाला में 102 नर तथा 146 मादा कुल 248 पशुओं को संरक्षित किया गया है। इस दौरान उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि 48 पशुओं के सुर्पुदगी की कार्यवाही की जा रही है। पशुओं के लिए हरा चारा की व्यवस्था की गई है। भूसा गोदाम में एकत्र किया गया है, परन्तु इस गौशाला में भी मादा पशुओं के बच्चों को अलग रखने की व्यवस्था नहीं है, जिसे तत्काल सुनिश्चित कराने के निर्देश दिये गए हैं।  निरीक्षण के दौरान मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा.जयेन्द्र सिंह, खण्ड विकास अधिकारी इकौना रवीन्द्र नाथ चतुर्वेदी, उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी एवं डा. योगन्द्र, पशु चिकित्साधिकारी तिलकपुर उपस्थित रहें।

    Initiate News Agency (INA) ,श्रावस्ती

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.