Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कानपुर। असम के मुख्यमंत्री को इतिहास पढ़ने की जरूरत :-हयात ज़फर हाशमी

    कानपुर। आज एमएमए जौहरौ एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष हयात ज़फर हाशमी ने आज असम के मुख्यमंत्री हिंमत बिस्वा सरमा को शायद भारतीय इतिहास की जानकारी नहीं है तभी वो मदरसे के अस्तित्व को समाप्त करने की बात कह रहे हैं। हाशमी ने बताया कि कल दिल्ली में एक कार्यक्रम के दौरान असम प्रदेश के मुख्यमंत्री हिंमत बिस्वा सरमा ने 'मदरसा' शब्द का अस्तित्व खत्म हो जाने की बात कहकर खुद इतिहास की जानकारी ना होने की पंक्ति में खड़ा कर दिया है।

    यदि असम के मुख्यमंत्री को मदरसे और भारतीय इतिहास की जानकारी होती तो कभी ऐसा ना कहते, हयात ज़फर हाशमी ने कहा कि मदरसा उस शिक्षण संस्थान का नाम है जहां से स्वतंत्रता संग्राम सेनानी निकले, वही मदरसा है जहां से आज़ाद भारत के पहले शिक्षा मंत्री निकले, मदरसा वही है जहां से भारत को राष्ट्रीय ध्वज देने वालों ने शिक्षा ग्रहण की, मदरसा वही है जहां से सारे जहाँ से अच्छा हिन्दुस्तां हमारा, जैसा राष्ट्रीय गीत लिखने ने तालीम हासिल की, मदरसे का इतिहास यह भी है कि उसने दुनिया का सबसे बड़ा वैज्ञानिक मिसाइल मैन ए पी जे अब्दुल कलाम भारत को दिया, मदरसा वही है जिसमे शिक्षा लेने वाले आज 100 से अधिक IAS / IPS अधिकारी भारत को सेवाएं दे रहे हैं।

    हाशमी ने आगे कहा कि मदरसा शब्द का अस्तित्व कभी नही मिटेगा जब तक दुनिया रहेगी तब तक मदरसा रहेगा। देश के संवैधानिक पद पर होने के बाद असम के मुख्यमंत्री का यह बमान निंदानीय है। यदि उन्हें मदरसे के अस्तित्व को जानना है तो वो भारत का इतिहास पढ़ें।

    इब्ने हसन ज़ैदी

    Initiate News Agency (INA) , कानपुर

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.