Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    पलवल। होडल में निकाली गई भगवान परशुराम शोभा यात्रा।

    पलवल। होडल में  ब्राहम्मण समाज एवं परशुराम मेला समिति द्वारा प्राचीन देशल चौपाल पर भगवान परशुराम जन्मोत्सव हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। जिसमें शहर के अलावा आसपास के दर्जनों गावों के समाज के सैंकडों लोगों ने हिस्सा लिया। समिति द्वारा भगवान परशुराम के अलावा दर्जनों प्रकार की विभिन्न धार्मिक झांकियों द्वारा शोभा यात्रा निकाली गईं। इस अवसर पर फरीदाबाद से कांग्रेस विधायक नीरज शर्मा,अखिल भारतीय ब्राहम्मा सभा के अध्यक्ष सुरेंद्र शर्मा बबली,राधेराधे बाबूजी  सहित समाज के सैंकडों गणमान्य व्यक्तियों द्वारा  कार्यक्रम में पहुंचे सभी अतिथियों का चंदन का टीका,फूल माला और पटका पहनाकर स्वागत किया। 

    होडल में भगवान परशुराम जयंती के अवसर पर  देशल चौपाल से बैंड बाजों के साथ भगवान परशुराम,शिव परिवार,राधाकृष्ण,राम दरवार सहित कई अन्य धार्मिक झांकियां सजाई गई, जो चौपाल से शुरु होकर जगजीवनराम चौक,लक्ष्मीनारायण मंदिर व शहर की विभिन्न पटिटयों से होते हुए वापस चौपाल पर पहुंचीं, जहां शोभायात्रा में शामिल सभी अतिथियों और समाज के गणमान्य व्यक्तियों का जलपान के साथ स्वागत किया गया। शहर में निकाली गई शोभायात्रा का जगह जगह फूल मालाओं से भव्य स्वागत किया गया है। इस अवसर पर विधायक नीरज शर्मा ने कहा कि समाज द्वारा प्रत्येक वर्ष परशुराम जयंती मनाई जाती है। भगवान विष्णु के छटवें अवतार के रूप में भगवान परशुराम ने अवतार लिया था। उन्होंने कहा कि भगवान परशुराम का जन्म भले ही ब्राह्मण कुल में हुआ हो, लेकिन उनके गुण क्षत्रियों की तरह थे।   भगवान परशुराम ने प्रथ्वी पर हो रहे अन्याय, अधर्म और पाप कर्मों का विनाश किया।  भगवान शिव की कठोर साधना के कारण भगवान भोले ने प्रसन्न होकर उन्हें कई अस्त्र-शस्त्र प्रदान किए थे। जिनमें फरसा भी मुख्य हथियार था। उन्होंने भगवान परशुराम के बताए मार्ग पर चलने का आह्वन किया। नीरज शर्मा ने कहा की उन्होंने भारष्टाचार के खिलाफ आवाज उठा रखी है और  आज वह बिना सिले हुए वस्त्र पहन रहे हैं । उन्होंने कहा की जब तक सरकार भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कार्यवाही करके उनको जेल नही भेजेगी तव तक वह लड़ाई लड़ते रहेंगे। 

    वहीं इस मौके पर ब्राह्मण समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष बबली शर्मा ने कहा की सरकार को भगवान परशुराम के नाम से प्रदेश और देश के अंदर कोई मेडिकल कालेज या कोई शिक्षक संस्थान खोलना चाहिए ताकि आने वाली पीढ़ी को हमेशा उनकी याद बनी रहे।

    इस सोभा यात्रा में पहुंचे प्रसिद्ध कथा वाचक राधे राधे बाबू जी ने कहा की भगवान परशुराम एक जाति किसी एक धर्म के नही थे उन्होंने अपने काल के समय हमेशा अन्याय के खिलाफ , अत्याचार के खिलाफ लडाई लड़ी और गरीब लोगों की मदद की । वह आज भी अमर है । आज हर इंसान को उनके बताए गए रास्ते पर चलना चाहिए और उनके द्वारा दिए गए संदेश पर चलना चाहिए।

    ऋषि भारद्वाज

    Initiate News Agency (INA), पलवल 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.