Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    उत्तर प्रदेश। उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और अखिलेश यादव के बीच जुबानी जंग, सीएम योगी को करना पड़ा हस्तक्षेप

    उत्तर प्रदेश। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव बजट सत्र के दौरान सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच सदन में जमकर घमासान मचा हुआ है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के बीच जमकर बहस हुई थी। आज एक बार फिर से अखिलेश यादव और उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के बीच जमकर भिड़ंत हुई। ‌ दोनों नेता मर्यादा पार कर गए। बात शुरू हुई गर्मी निकालने को लेकर। अखिलेश यादव ने कहा कि यूपी में बिजली गई तो सरकार की गर्मी निकल गई, एमएलसी चुनाव में बीजेपी के उम्मीदवारों को निर्दलीयों ने हराया तो बीजेपी की गर्मी निकल गई, बिजली मंत्री बदल दिए तो उनकी गर्मी निकाल गई, इसलिए गर्मी निकालना अब गलत शब्द नहीं रह गया। इस दौरान प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या की ओर इशारा करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि जनता ने इनकी भी गर्मी निकाल दी। इस पर केशव प्रसाद मौर्या ने भी जवाब दिया। 

    उन्होंने कहा कि जो 400 सीटों का दावा कर रहे थे वो 100 पर सिमट गए। वहीं कानून व्यवस्था पर भी अखिलेश यादव जमकर हमलावर नजर आए। बात यहां नहीं रुकी उसके बाद फिर अखिलेश यादव ने आजम खान का मुद्दा उठाते हुए कहा कि भाजपा सरकार ने उन पर जबरदस्ती केस लगवाएं हैं। अखिलेश ने कहा आजम खान ने आने वाली पीढ़ियों के लिए यूनिवर्सिटी बनाई। उन पर जानवर चोरी जैसे मुकदमे लगाये गए, लेकिन हमें न्यायालय से मदद मिली है। अखिलेश ने कहा कि मेरी भी सरकार थी कभी दबाव बनाकर मुकदमा नहीं कराया, उन पर झूठे मुकदमे नहीं लगाना चाहिए, सिर्फ राजनीति के लिए मुक़दमे नहीं कराए जाने चाहिए। केशव मौर्य ने कहा कि पिछली सपा सरकार के लोग सड़क, एक्सप्रेसवे जैसी बाते करते हैं। ऐसा लगता है जैसे इन्होंने सैफई बेच कर सड़क बनवाई हो, किसी के पिता जी नहीं देने आते थे वो सरकार का पैसा होता था। केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि अगले 25 साल तक समाजवादी पार्टी विपक्ष में ही बैठेगी। 

    तब अखिलेश यादव ने पलटवार करते हुए कहा, ‘तुम अपने पिता जी से पैसा लाए थे। इस पर विधानसभा में माहौल काफी गर्म हो गया। दोनों नेताओं के बीच तू तड़ाक भी शुरू हो गया। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आज जो तू-तू मैं-मैं हुई हैं, इसे सदन की कार्यवाही का हिस्सा नहीं होना चाहिए। सीएम योगी ने कहा कि विपक्ष के नेताओं को डिप्टी सीएम का सम्मान करना चाहिए। विपक्ष के नेताओं को डिप्टी सीएम को सुनना चाहिए, माहौल खराब नहीं करना चाहिए। अखिलेश यादव और केशव मौर्य के बीच हुई गरमा गरमी का वीडियो सोशल मीडिया पर भी खूब वायरल हो रहा है। बता दें कि यूपी में दूसरी बार बीजेपी की सरकार बनने के बाद ये पहला विधानसभा सत्र है। इस सत्र के दौरान कल यानी 26 मई को बजट पेश किया जाएगा।

    Initiate News Agency (INA)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.