Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    मिश्रित\सीतापुर। अपर तहसीलदार का पद खाली, नहीं हो पा रहा है मुकदमों का समुचित निस्तारण।

    मिश्रित\सीतापुर। मिश्रित में रिक्त पड़े अपर तहसीलदार की लम्बे समय से चली आ रही रिक्तता के कारण दो कुर्सियों पर काबिज तहसीलदार राजकुमार गुप्ता जहाँ मनमानी पर उतारू हैं वहीं प्रचलित वादों का समुचित निस्तारण न होने से मुकदमों की झड़ी लगती चली जा रही है। गौरतलब है कि सुनवाई और निस्तारण के अभाव में वादकारी शोषण और परेशानी का शिकार हो रहे है, अगर यही आलम रहा तो लोगों का न्याय व्यवस्था से विश्वास ही उठने लगेगा। जानकारी के मुताबिक मिश्रित तहसील में बीते समयान्तराल मे राजकुमार गुप्ता अपर तहसीलदार बनकर आये थे उन्होंने यहाँ से स्थानांतरित हुई बिंन्दु लता की कुर्सी संभाली थी। कुछ समय तक वे यहाँ के अपर तहसीलदार रहे तभी इस तहसील से तहसीलदार का  स्थानांतरण हो गया तब जिला प्रशासन द्वारा उन्हें यहाँ का  तहसीलदार बना दिया गया जिस कारण अपर तहसीलदार का पद  रिक्त हो गया,और गुप्ता तहसीलदार के साथ ही अपर तहसीलदार के पद का भी मिश्रित मे कार्यभार देखने लगे। गुप्ता मिश्रित में 3 जून 21 को तहसीलदार बने थे तब से वे दोनों पदों की मलाई चाट रहे हैं। 

    अधिवक्ताओं का आरोप है कि उनके द्वारा मुकदमों की समुचित सुनवाई और निस्तारण नहीं किया जा रहा है जिससे वादकारियों के हिस्से में आ रहा है तारीख दर तारीख  निरर्थक दौड़ भाग का दुख और आर्थिक दोहन।जानकार सूत्र बताते है कि अपर तहसीलदार न्यायालय में भू-राजस्व अधिनियम की धारा 34 के 255 वाद लम्बे समय से निस्तारण के अभाव में लटके हुये हैं,जबकि तहसीलदार न्यायालय में भी धारा 34 के ही 283 मामले अपने निस्तारण की बाट जोह रहे हैं। जिसकी तरफ अध्यक्ष राजस्व परिषद सहित प्रदेश शासन और जिला प्रशासन को गम्भीरता से पहल करने की आवश्यकता है अन्यथा वादकारी इसी तरह होते रहेंगे अनावश्यक परेशानी का शिकार। कहना गलत न होगा कि अगर मिश्रित तहसील में हालात कुछ समय और ऐसे ही बने रहे तो लोगों का न्याय व्यवस्था से बिश्वास उठने लगेगा। 

    संदीप चौरसिया 

    Initiate News Agency (INA), तहसील मिश्रिख, सीतापुर 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.