Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    देवबंद। सऊदी की तरावीह में रकाअत कम करने से दारुल उलूम नाराज

    ............. संस्था के कार्यवाहक मोहतमिम मौलाना अब्दुल खालिक मद्रासी ने सऊदी हुकुमत को लिखा पत्र

    ........... बोलेः पूर्व की भांति तरावीह की नमाज में 20 रकाअत जमात के साथ पढ़ाई जाएं

    देवबंद। दुनियाभर के मुसलमानों की आस्था के केंद्र हरमेन शरीफेन (सऊदी अरब) में पवित्र रमजान माह की विशेष नमाज तरावीह की बीस रकाअत के बजाए दस रकाअत पढ़ाए जाने पर इस्लामी तालीम के सबसे बड़े केंद्र दारुल उलूम ने आपत्ति जताई है। साथ ही इस संबंध में सऊदी अरब हुकुमत को पत्र लिखकर पूर्व की भांति तरावीह की नमाज में 20 रकाअत जमात के साथ पढ़ाए जाने की मांग की है।मंगलवार को दारुल उलूम के कार्यवाहक मोहतमिम मौलाना अब्दुल खालिक मद्रासी ने मक्का और मदीना मुनव्वरा दुनियाभर के मुसलमानों की आस्था का केंद्र है। 

    इसलिए सऊदी अरब सरकार को चाहिए कि वह मुस्लिमों की आस्था और उनके अधिकारों का ख्याल रखे और कोई भी ऐसा काम न करे जिससे उनकी आस्था को ठेस पहुंचे। उन्होंने वैश्विक महामारी कोरोना के चलते पिछले दो वर्षों से सऊदी अरब के मक्का-मदीना समेत अन्य स्थानों पर नमाज-ए-तरावीह की बीस रकाअत के बजाए दस रकाअत पढ़ाई जा रही थीं। लेकिन इस वर्ष कोरोना गाइडलाइन समाप्त हो चुकी है। उसके बावजूद भी हरमेन शरीफेन में दस रकाअत नमाज-ए-तरावीह ही पढ़ाई जा रही है। जिससे हिंदुस्तान सहित पूरी दुनिया में रहने वाले मुसलमानों में रोष और बेचैनी है। मौलाना अब्दुल खालिक मद्रासी ने कहा कि दारुल उलूम ने कोरोना महामारी के समय भी सऊदी हुकुमत द्वारा उठाए गए इस तरह के कदम पर आपत्ति दर्ज कराई गई थी। उस समय भी सऊदी सरकार को पत्र लिखा गया था। उन्होंने कहा कि बिना किसी वजह तरावीह की नमाज में कटौती करना उचित नहीं है। उन्होंने सऊदी हुकुमत से तत्काल बीस रकाअत सुन्नत तरावीह जमात के साथ अदा कराए जाने का आदेश जारी करने की मांग की। 

    शिबली इकबाल

    Initiate News Agency (INA), देवबंद

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.