Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    शाहजहांपुर। वरिष्ठ शायर सागर वारसी का निधन, सुपुर्दे खाक।

    शाहजहांपुर। वरिष्ठ शायर सागर वारसी का निधन हो गया। वह 84 वर्ष के थे। सोमवार की शाम को उन्हें गमगीन माहौल में सुपुर्दे खाक कर दिया गया। शहर के मोहल्ला ऐमनजई जलालनगर में रहने वाले इरशाद अहमद खां सागर वारसी पिछले 6 माह से बीमार चल रहे थे। आज सोमवार को सुबह 8.45 बजे उन्होंने अपने मकान में ही अंतिम सांस ली। वह अपने पीछे पत्नी रोशन आरा बेगम, तीन पुत्रों परवेज, गुलरेज, दिलशाद और विवाहित पुत्री फराह जबीें आदि का भरा पूरा परिवार छोड़ गए हैं। सागर वारसी का जन्म 1 अगस्त 1938 को ऐमनजई जलालनगर में जमीर अहमद खां के घर में हुआ था। 


    उन्होंने 1956 में शायरी का आगाज किया। उनके उस्ताद शायर आबिद मीनाई थे। सागर वारसी की शायरी की कई पुस्तकें प्रकाशित हुईं। जिनमें गजल संग्रह इरतिका 2002, आहंगे दिल 2006, नातिया संग्रह नगमा-ओ-नूर 2015, गजल संग्रह फिक्र की नक्काशियां 2018, दीवान तनजीमे हुरूफ 2021 आदि संग्रह शामिल हैं। इनके अलावा उन्होंने कई शायरों के गजल संग्रहों का संकलन एवं सम्पादन भी किया। उन्होंने दूरदर्शन एवं आकाशवाणी आदि के अलावा अनेक आल इंडिया मुशायरे भी पढ़े। उर्दू साहित्य की सेवा के लिए उन्हें अनेक संस्थाओं ने सम्मानित भी किया। शाम साढ़े पांच बजे उन्हें ऐमनजई जलालनगर स्थित कब्रिस्तान में गमगीन माहौल में सुपुर्दे खाक कर दिया गया। उनके निधन पर डा. खालिद हुसैन खां, जफर इकबाल, अख्तर शाहजहांपुरी, खालिद अलवी, असगर यासिर, राशिद नदीम, हमीद खिजर, वसीम मीनाई, साजिद खैराबादी, राशिद हुसैन राही, अशफाक उल्ला खां, मोहम्मद अहमद अंसारी, हाफिज फिरासत उल्ला, हाजी कमाल अहमद खां, एजाज अंसारी, इशरत सगीर, डा. तारिक कमर, शारिक अक्स, शरीफ अमीन, मो. रिजवान, राजीव गोस्वामी, राहत अंसारी, तैयब अली, अख्तर अली, अजीम शाहजहांपुरी आदि ने गहरा दुख व्यक्त किया है।

    फ़ैयाज़ उद्दीन 

    Initiate News Agency (INA) , शाहजहाँपुर

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.