Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अलीगढ़: संदीप हत्याकांड में "कारतूस"हुआ गिरफ्तार, साजिशकर्ताओं को नोएडा छोड़कर रात में 'कारतूस' पहुंचा था गोवा

    अलीगढ़: उत्तर प्रदेश के जनपद अलीगढ़ के कोतवाली सिविल लाइन इलाके में 27 दिसम्बर को एटा अलीगंज निवासी संदीप गुप्ता हत्याकांड में पुलिस साजिशकर्ताओ में शामिल "अनुराग उर्फ कारतूस" को गोवा से गिरफ्तार किया है। पुलिस रेकी करने वाले 3  युवकों समेत छह आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है।

    सीमेंट व्यापारी संदीप गुप्ता हत्याकांड में जहां पुलिस अब तक फॉर्च्यूनर गाड़ी की रेकी करने वाले तीन नाबालिगों समेत साजिशकर्ताओ में शामिल 6 आरोपियों को गिरफ्तार करते हुए जेल की सलाखों के पीछे भेज चुकी है। तो वही रामघाट रोड स्थित सेंटरप्वाइंट तिराहे पर बलेनो कार सवार शूटरों के द्वारा फॉर्च्यूनर कार में सवार संदीप हत्याकांड को गोलियों से भूनकर अंजाम दिया गया था। 

    हत्याकांड को अंजाम देने वाले शूटरों की तलाश में पुलिस की कई टीमें पंजाब हरियाणा गोवा चंडीगढ़ यूपी समेत कई राज्यों में कातिलों की तलाश में जुटी हुई है। तो वहीं फरार 3 आरोपियों के ऊपर अलीगढ़ एसएसपी द्वारा 25-25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया जा चुका है। जबकि उद्योगपति हत्याकांड में विवेचना में लापरवाही बरतने पर विवेचना कर रहे स्पेक्टर को भी हटाया गया।

    जानकारी के अनुसार एटा जिले के अलीगंज निवासी सीमेंट सप्लायर संदीप गुप्ता हत्याकांड में पुलिस ने एक आरोपी को गोवा से गिरफ्तार करते हुए एक और मददगार जेल भेज दिया है। अनुराग उर्फ कारतूस को पुलिस द्वारा गोवा से पकड़कर लाया गया।जबकि अनुराग उर्फ कारतूस साजिशकर्ताओं में शामिल साहिल यादव का सगा भाई है। 

    पुलिस पूछताछ में उसने एक और नाम उजागर करते हुए बताया है कि वह हत्याकांड के बाद एक साजिशकर्ता को नोएडा अपने साथ ले गया था। हत्या में शामिल उस साजिशकर्ता को नोएडा छोड़कर खुद गोवा भाग गया था।हालांकि उसे हत्या होनी है, इस बात की जानकारी उसको पहले से थी। वहीं पुलिस अब फरार साजिशकर्ताओं के गैर जमानती वारंट लेने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

    आपको बता दें,संदीप गुप्ता की हत्या अंकुश अग्रवाल ने कराई है। घटना में अंकुश के ट्रांसपोर्टर पिता राजीव अग्रवाल, दोस्त दुष्यंत चौधरी, साहिल यादव का नाम साजिशकर्ताओं में उजागर हुआ। पुलिस राजीव को जेल भेज चुकी है।बाकी साजिशकर्ता अभी फरार हैं।जहां पुलिस की टीम गोवा में डेरा डाले हुए थी। पुलिस ने वहां से साहिल यादव का भाई महुआ खेड़ा बसंत विहार का अनुराग उर्फ कारतूस हत्थे चढ़ गया।

    हालांकि कारतूस 28 दिसंबर को गोवा पहुंचा था।जिसके बाद पुलिस टीम उसे वहां से यहां ले आई।पुलिस पूछताछ में उसने खुलासा किया, वह चौंकाने वाला था। कारतूस ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि घटना में साजिशकर्ताओं के रूप में अंकुश, दुष्यंत व साहिल के अलावा एक अन्य रामघाट रोड रामसनेही विहार का उत्कर्ष चौधरी भी संदीप हत्याकांड में शामिल है। 

    घटना से पहली रात साहिल व उत्कर्ष अनुराग के साथ उत्कर्ष चौधरी के घर रुके थे। जहां संदीप गुप्ता की हत्या की बात हुई। उत्कर्ष को भी साहिल की तरह शूटरों को गाइड करने का जिम्मा था। उस रात तय हुआ था कि चूंकि अनुराग की पहले से गोवा की फ्लाइट है। इसलिए घटना के बाद ये सभी को अपने साथ नोएडा ले जाएगा। किसी को शक भी नहीं होगा। लेकिन घटना को अंजाम देने के बाद अंकुश, दुष्यंत ओर साहिल दूसरी गाड़ी से चले गए ओर वह उत्कर्ष यहां रह गया।

    जिसके अगले दिन अनुराग उत्कर्ष को भी अपने साथ नोएडा ले गया और वहां उसे छोड़ दिया। इस दौरान उत्कर्ष ने खुद सोनीपत जाने की बात कही गई। जहां दोनों अलग हो गए। उसके बाद वहां से अनुराग हवाई जहाज से अपने अन्य दोस्त ओर महिला मित्र के साथ गोवा चला गया।  वहां दोनों एक साथ एक सीसीटीवी में कैद पाए गए। इन तथ्यों के आधार पर पुलिस ने अनुराग को जेल भेजा गया है।


    Initiate News Agency(INA)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.