Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    गया\बिहार। जिला पदाधिकारी गया ने किया अधिकारियों के साथ बैठक, कई महत्वपूर्ण बिंदुओं पर लिया गया निर्णय

    गया\बिहार। भारत सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा स्वास्थ्य कार्यकर्ता (HCW), फ्रंटलाइन वर्कर (FLW) तथा 60 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों को एक "प्रिकॉशनरी डोज" दिए जाने का निर्णय लिया गया है।

    इसी परिप्रेक्ष्य में आज ज़िला पदाधिकारी, गया डॉ० त्यागराजन एसएम एवं वरीय पुलिस अधीक्षक, गया  आदित्य कुमार द्वारा संयुक्त रूप से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ज़िले के सभी अनुमंडल पदाधिकारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी, प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, बाल विकास परियोजना पदाधिकारी तथा थानाध्यक्ष के साथ बैठक कर कल दिनांक 10 जनवरी, 2022 से स्वास्थ्य कार्यकर्ता (HCW), फ्रंटलाइन वर्कर (FLW) तथा 60 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों को "प्रिकॉशनरी डोज" के संबंध में विचार विमर्श किया गया। 

    वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में जिला पदाधिकारी ने बताया कि स्वास्थ्य कार्यकर्ता (HCW), फ्रंटलाइन वर्कर (FLW) तथा 60 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों को एक "प्रिकॉशनरी डोज"देने हेतु विशेष टीकाकरण कैंप की शुरुआत की जाएगी, जिसमें स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं, फ्रंटलाइन वर्कर, जिनके द्वारा कोविड-19 टीका का दोनों खुराक ले लिया गया है एवं दूसरे खुराक लिए जाने के 9 माह या इससे अधिक हो गए, उन्हें ही प्रिकॉशनरी डोज दिया जाएगा। जिलाधिकारी ने सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक को निर्देश दिया कि जो भी लोग उक्त श्रेणी के प्रिकॉशनरी डोज लेने के लिए टीकाकरण सत्र स्थल पर आते हैं, उनके ड्यू डेट अवश्य जांच कर ले कि उनका दूसरा खुराक लिए हुए 09 माह या इससे अधिक हो गया है या नहीं। 

    उन्होंने निर्देश दिया कि 60 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के गंभीर रोग से ग्रसित वैसे नागरिक, जिनके द्वारा कोविड-19 टीका का दोनों खुराक ले लिया गया है एवं दूसरा खुराक लिए जाने के 9 महीने की अवधि पूर्ण कर ली गई है तथा किसी न किसी बीमारी से ग्रसित हैं एवं चिकित्सक द्वारा उन्हें कोविड-19 का प्रिकॉशनरी डोज लिए जाने का सुझाव दिया गया हो, वैसे लाभार्थी द्वारा टीका कर्मी को किसी प्रकार के प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने की आवश्यकता नहीं होगी। 

    जिला पदाधिकारी ने बताया कि जिले में लगभग 29,000 लोगों को चिन्हित किया गया है, जिनकी आयु 60 वर्ष से अधिक है, उन्हें प्रिकॉशनरी डोज के लिए 65 विशेष टीकाकरण सत्र स्थल बनाए गए हैं, जो प्रखंड मुख्यालय, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में है। उन्होंने सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी को निर्देश दिया कि वे अपने-अपने प्रखंडों के अनुसार टीकाकरण सत्र स्थल बनाना सुनिश्चित करेंगे। जिस प्रखंड में अधिक लाभुक है, वहां अधिक टीका कर्मी/वैक्सीनेटर की प्रतिनियुक्ति करेंगे। 

    जिला पदाधिकारी ने डीपीएम जीविका, डीपीओ आईसीडीएस को निर्देश दिया कि वह अपने अपने कर्मियों यथा जीविका दीदी, सेविका/सहायिका कल अपने अपने क्षेत्रों के लोगों को टीका लेने हेतु प्रेरित करेंगे एवं उन्हें टीका दिलवाएंगी। साथ ही उन्होंने निर्देश दिया कि 15 से 18 आयु वर्ग के बच्चों का टीकाकरण कार्य, जो विद्यालय में चलाया जा रहा है, वह यथावत कार्यरत रहेगा। 

    उन्होंने जिला शिक्षा पदाधिकारी को निर्देश दिया कि वे अपने स्तर से सभी विद्यालयों के प्रधान शिक्षक एवं शिक्षकों को निर्देशित करें कि संबंधित विद्यालय के बच्चे जो 15 से 18 आयु वर्ग के हैं, उन्हें टीका दिलवाए। उन्होंने वैसे प्रखंड, जहां टीकाकरण की उपलब्धि कम है, के प्रखंड विकास पदाधिकारी को निर्देश दिया कि वे प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी के साथ बैठक कर टीकाकरण की प्रतिशत को बढ़ाना सुनिश्चित करें। 

    जिला पदाधिकारी सभी अनुमंडल पदाधिकारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी, प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को निर्देश दिया कि वे अपने अपने अनुमंडलीय अस्पताल, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, जहां पूर्व से कोरोना कक्ष बनाया गया था, उसे पुनः शुरू करना सुनिश्चित करें। साथ ही आरटीपीसीआर कोरोना जांच का सैंपल उसी दिन जांच केंद्र में भेजवाना सुनिश्चित करेंगे। जिलाधिकारी ने स्पष्ट निदेश दिया कि जो भी कंप्यूटर ऑपरेटर कोविड रिपोर्ट अपलोडिंग कार्य मे लगे हुए हैं, उन्हें ससमय मानदेय का भुगतान करना सुनिश्चित करेंगे। 

    वरीय पुलिस अधीक्षक, गया आदित्य कुमार ने पुलिस उपाधीक्षक, सभी थानाध्यक्ष को निर्देश दिया कि मुख्य चौक चौराहों, बाजार, हाट में मास्क जांच लगातार करें। साथ ही ऐसे स्थानों पर माइकिंग के माध्यम से मास्क का उपयोग एवं सामाजिक दूरी का अनुपालन हेतु प्रचार प्रसार करावें। उन्होंने निदेश दिया कि जो भी लोग बिना मास्क के पकड़े जाते हैं, उन्हें जुर्माना अवश्य वसूले। वरीय पुलिस अधीक्षक ने निदेश दिया कि जिस अपराधी को जेल की सजा होती है, जेल जाने के पूर्व संबंधित का कोविड टेस्ट अवश्य करवा लें। 

    वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में जिलाधिकारी के साथ डिप्टी कमांडेंट, एसएसबी, बीएमपी, सहायक पुलिस अधीक्षक, सिविल सर्जन, ज़िला पंचायत राज पदाधिकारी, ज़िला शिक्षा पदाधिकारी, ज़िला आपूर्ति पदाधिकारी, ज़िला प्रतिरक्षण पदाधिकारी, अनुमंडल पदाधिकारी, सदर, विशेष कार्य पदाधिकारी, डीपीएम स्वास्थ्य, जीविका सहित अन्य संबंधित पदाधिकारी एवं चिकित्सक शामिल थे।


    प्रमोद कुमार यादव

    Initiate News Agency(INA)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.