Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अलीगढ़। अखिलेश और जयंत पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह की जयंती पर अलीगढ़ के इगलास विधानसभा में आज करेंगे शक्ति प्रदर्शन

    अलीगढ़। विधानसभा इगलास में आज किसानों के मसीहा पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह की जयंती पर इगलास के मंडी रोड स्थित मैदान में सपा-रालोद की संयुक्त रैली होने जा रही है। इस रैली में रालोद के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयंत 11 बजे व सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव 12 बजे पहुंचेंगे। दोनों अपने-अपने निजी हेलीकॉप्टरों से आएंगे। हेलीकॉप्टरों के लिए प्रशासन की अनुमति के बाद हेलीपैड बनाया गया है। इसके अलावा 140 बीघा के मैदान में यह रैली होगी। जिसमें लाखों की भीड़ जुटाने का दावा सपा और रालोद के पदाधिकारियों की ओर से किया जा रहा है। 

    टिकट के दावेदारों के लिए यह रैली अग्निपरीक्षा है। रैली के मंच पर सपा से 35 और रालोद से 35 नेताओं को स्थान दिया जाएगा। इसमें राष्ट्रीय, प्रदेश, जिला स्तर के वरिष्ठ पदाधिकारियों सहित पूर्व जनप्रतिनिधि शामिल रहेंगे।

    रैली के जरिये जाटलैंड की मजबूत सीट मानी जाने वाली इगलास विधानसभा सहित पूरे वेस्ट यूपी को सपा-रालोद शक्ति प्रदर्शन की तैयारी में है। चौधरी चरण सिंह के नाम पर रालोद जाटों को और सपा अन्य बिरादरियों को साधने की कोशिश करेगी। रैली को सफल बनाने के लिए दोनों पार्टियों के पदाधिकारियों ने एड़ी चोटी का जोर लगा दिया है। जाटलैंड की सियासत के महत्वपूर्ण पायदान के तौर पर पहचानी जाने वाली इस विधानसभा सीट पर तीन माह पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी जनसभा कर चुके हैं। उन्होंने राजा महेंद्र प्रताप सिंह के नाम पर राज्य विवि की नींव रख जाटों को भाजपा पक्ष में करने की कोशिश की है। ऐसे में सपा-रालोद चौधरी चरण सिंह की जयंती के सहारे जाट दबदबे वाली इस सीट पर फिर से कब्जा करने की तैयारी में है।

    सबको इंतजार, दादा चौधरी चरण सिंह की कर्मस्थली में कितना प्रभाव दिखा पाएंगे जयंत

    पूर्व पीएम चौधरी चरण सिंह के लिए इगलास उनका कर्मस्थली क्षेत्र रहा है। उनकी पत्नी गायत्री देवी व बेटी डा. ज्ञानवती भी इस विधानसभा से विधायक रह चुकी हैं। उनके खास रहे चौधरी राजेंद्र सिंह भी कई बार विधायक रहे हैं। मगर, 2017 में मोदी-योगी लहर में इस सीट को रालोद ने गंवा दिया था। चार लाख के करीब वोटर संख्या वाली इस सीट पर 1.10 लाख के करीब जाट वोटर हैं। जयंत के सामने सबसे बड़ी चुनौती अपनी दादा की विरासत को आगे बढ़ाकर जाटों को फिर से अपने पाले में करने की होगी।

    पूरे पश्चिम यूपी को तगड़ा संदेश देने की तैयारी

    सपा-रालोद शीर्ष नेतृत्व जाट बाहुल्य इगलास व खैर विधानसभा में विरोधी दलों को अपनी ताकत का अहसास कराना चाहता है। जयंती के बहाने रालोद इस क्षेत्र में अपना शक्ति प्रदर्शन करने जा रहा है। रैली के मंच पर कई बड़े चेहरे रालोद की सदस्यता लेने की फिराक में हैं। अखिलेश यादव व जयंत चौधरी पूरे वेस्ट यूपी में सियासत को गरमाने की तैयारी में हैं। रालोद जाट वोट बैंक को एक सूत्र में बांधकर अपने पक्ष में करने की कोशिश करेगी। वहीं, सपा अन्य जातियों को साधने की कोशिश करेगी। अगर, यह फार्मूला सफल हुआ तो विपक्षियों के लिए खतरा पैदा हो जाएगा। दरअसल, भाजपा ने किसान आंदोलन के बाद वेस्ट यूपी के जाटों को साधने के लिए अलीगढ़ में राजा महेंद्र प्रताप सिंह के नाम पर राज्य विवि की नींव रखी है। इससे रालोद के माथे पर चिंता की लकीरें हैं। अब रालोद चौधरी चरण सिंह के सहारे जाटों को फिर से अपने पाले में करने की कोशिश में है। वहीं, बसपा लगातार ब्राह्मण कार्ड खेल रही है। इगलास सीट पर 80 हजार के करीब ब्राह्मण वोटर भी हैं, ऐसे में सपा इनको साधने की कोशिश करेगी। सपा-रालोद रैली में तीन से पांच लाख की भीड़ जुटाई जा रही है। 11 बजे जयंत और 12 बजे अखिलेश यादव आएंगे। दो घंटे का उनका भाषण रहेगा। मंच पर कुल 70 नेताओं को स्थान मिलेगा।

    अजय कुमार

    Initiate News Agency (INA), अलीगढ़

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.