Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    लखीमपुर खीरी: विधानसभा लखीमपुर क्षेत्र का लोकप्रिय नेता मोहन बाजपेई

    लखीमपुर खीरी: उत्तरप्रदेश में नज़दीक आ रहे विधान सभा चुनाव में दावे दारी ठोकने के लिए तथाकथित नेताओं ने अपने अपने दाव पेंच शुरू कर दिए है, उन्हेें लुभाने की तरह तरह की स्कीमें बनने लगी है,बांटो और राज करो की जहां एक तरफ  नीतियों को चरम पर उठाने की कोशिशें शुरू हो रही है वहीं दूसरी तरफ़ नागरिकों के वर्षों पुराने ज़ख्मों को भरने का मरहम लगाने वाले भी सच्चे देश भक्त हमेशा की तरह अपने पथ पर आगे बढ़ रहे है।

    हर दौर में समाज और इंसानियत को खोखला करने की कोशिशें होती रही हैं पीढ़ियों को बर्बाद करने की उनकी  नापाक साजिशों और एकता को खंडित करने वाली उनकी मीठी छुरी को राष्ट्र और देशवासियों की भलाई का दर्द रखने वाले सच्चे देशभक्तों ने ना सिर्फ उन देश के लिए लुटेरों के मंसूबों पर पानी फेरा है बल्कि देश की आबोहवा को स्वच्छ बनाने का प्रयास भी किया है।

    और देश और देश वासियों के गहरे जख्मों को भरने में अहम भूमिका भी निभाई है, वह चाहे देश की आजादी का दौर हो या आजादी के बाद देश को संभालने का मामला हो ।राष्ट्र और नागरिकों के प्रति प्यार दिखाने का नाटक करने वालों की दो मुही  हरकतों ने आज भी भारत वर्ष को विकासशील देश की श्रेणी से निकलने नहीं दिया। 

    राज करने की नीति अपनाने वाले सफेदपोश न सिर्फ देश को लूटते रहे बल्कि भारतीय सभ्यता को गर्त में ढकेल ते रहे हैं। जहां एक तरफ देश में राजनीति करने वाले लोग धर्म- मजहब, हिंदू - मुस्लिम  के जाल में उलझा कर देशवासियों के दिलों में नफरत का बीज बोते रहे वहीं दूसरी तरफ शास्त्री और बाबा साहब के आदर्शों पर चलते हुए कुछ देशवासी देश की तरक्की और देशवासियों की भलाई का संदेश देते रहे। 

    राजनीति के इस बिगड़ते परिवेश में जब देश में लोग मंदिर मस्जिद, धर्म मजहब के नाम पर खून के प्यासे हो रहे हैं ऐसे बदबूदार माहौल में उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले की धरती पर भारत माता ने एक ऐसा  सुगंधित फूल पैदा कर दिया जो ना सिर्फ इस घिनौने वातावरण को समाप्त करने केपथ  पर तेजी से फल-फूल रहा है बल्कि अपनी सुगंध से माहौल को सुगंधित भी कर रहा है ।

    विधानसभा क्षेत्र लखीमपुर की जनता के दिलों में दिनोंदिन लोकप्रिय होता जा रहा है ।भारत माता का लाडला जिसके दरवाजे पर आने वाले लोग सम्मान पाकर गौरवान्वित होते हैं एक ऐसा व्यक्ति जो लोगों की समस्याओं को महसूस करके उन्हें दुरुस्त करता है बल्कि जनता के काम आना अपना सौभाग्य समझता है ।

    मोहन बाजपेई नाम का उगता हुआ सूरज बहुत जल्द ही उचाई पर पहुंचकर इस अंधकार भरे माहौल को प्रकाश में बनाने वाला है ,मोहन बाजपेई की स्नेह भरी कार्यशैली से क्षेत्र की जनता के दिलों में एक खास जगह बनाने में सफलता हासिल की है।क्षेत्रवासी मोहन बाजपेई को अब अपना नेता के रूप में देख रहे हैं मोहन बाजपेई अपने  दरवाजे पर आने वाले हर व्यक्ति को समान रूप से सम्मान देते हैं महिलाओं का सम्मान करना उनके संस्कारों की अनूठी मिसाल है ।

    "तेरे दर्द से रहे बेखबर मेरे दिल की  कब ये मजाल है"यह लाइन तब चरितार्थ होती नजर आई जब उनके दरवाजे पर अपना दर्द लेकर पहुंची एक गरीब महिला को उन्होंने ना सिर्फ सम्मान के साथ अपने पास बिठाया,उनका काम किया,और उस महिला के पैर छूकर उसे विदा भी किया ।इस तरह के संस्कार जिस व्यक्ति में भी पाए जाते हैं वही व्यक्ति समाज का सच्चा मार्गदर्शक होना चाहिए ।

    क्षेत्र में मोहन बाजपेई की बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए आगामी विधानसभा चुनाव में मोहन बाजपेई के  भारी जीत के आसार माने जा रहे हैं, क्षेत्र की जनता को यह एहसास हो चुका है कि वर्षों से दर्द से कराह रही क्षेत्र की जनता की आवाज विधानसभा में अब पूरी शक्ति के साथ गूंजेगी।


    Initiate News Agency(INA)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.