Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अयोध्या। दर्शनार्थियों की सुविधा बढ़ाएगा मंदिर ट्रस्ट

    ...... रामजन्मभूमि व रामलला दर्शन मार्ग का निरीक्षण, सुविधा के साथ सुरक्षा पर बल

    अयोध्या। मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम की धर्मनगरी अयोध्या मैं राम मंदिर निर्माण का कार्य तेजी के साथ चल रहा है जिसे दिसंबर 2023 तक बनकर तैयार हो जाने के प्रबल आसार हैं। राम मंदिर के साथ राम भक्तों को दर्शन करने वाले मुख्य मार्ग का भी जायजा लिया जा रहा है और उसे चौड़ीकरण किया जा रहा है। अनुमान है कि राम मंदिर बन कर तैयार हो जाने के बाद लाखों राम भक्त रोजाना भगवान राम का दर्शन करेंगे जिसके लिए भी तैयारियां चल रही है।

     सर्किट हाऊस में रामलला के दर्शनार्थियों के लिए सुविधाएं जुटाने पर मथन किया गया।

    अयोध्या  में राममंदिर निर्माण समिति की बैठक में मंदिर निर्माण सीमित के चेयरमैन नृपेंद्र मिश्र की अध्‍यक्षता में पूरे समय रामलला के दर्शनार्थियों की सुविधाओं एवं सुरक्षा को लेकर मंथन होता रहा।  बैठक से पहले समिति ने श्रीरामजन्मभूमि वौ दर्शनमार्गों को निरीक्षण कर उनकी उपयोगिता तय की।

    बैठक राम मंदिर ट्रस्‍ट के पदाधिकारियों, सदस्‍यों व तकनीकी विशेषज्ञों ने मंदिर के 70 एकड परिसर में पहुंचने वाले श्रद्धालुओं की भीड़ के भार को जानने के लिए दर्शन मार्ग मोहबरा से रामजन्मभूमि व सुग्रीव किला से रामजन्मभूमि का पैदल निरीक्षण कियाl पाया गया कि आगामी दिनों से मोहबरा से आने वाले दर्शनमार्ग पर सबसे ज्यादा दबाव होगाl इसे जल्द व गुणवत्ता के अनुरूप बनाया जाना चाहिएl इसके साथ मंदिर परिसर में अग्निशमन की पूरी व्‍यवस्‍था को लेकर विशेषज्ञ टीम के साथ मंथन किया गया।


    बैठक के बाद श्री रामजन्‍मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्‍ट के महासचिव चंपत राय ने बताया कि अग्निशमन के विशेषज्ञों की टीम के साथ पूरे 70 एकड़ क्षेत्र में अग्‍निशमन की व्‍यवस्‍था पर चर्चा हुईl फायर विशेषज्ञों की टीम को मंदिर परिसर का निरीक्षण भी करवाया गया जिससे वे सभी पाईंट की सुरक्षा का प्‍लान बना सकें। इसके अलावा राम मंदिर का दर्शन करने वाली भीड़ का आंकलन करने के साथ यह भी भौतिक तौर पर भ्रमण करके देखा गया कि किन स्‍थानेां व मार्गों पर श्रद्धालुओं का लोड कितना होगा।

    अनुमान है कि करीब 50 हजार रोजाना पहुंचने वाली भीड़ का लोड मोहबरा से राम मंदिर को जोड़ने वाली सडक पर सबसे ज्‍यादा होगा।राम मंदिर को जोड़ने वाली सभी सड़कों पर श्रद्धालुओं की संभावित भीड़ का आंकलन कर पहले से ही उनकी व्‍यवस्‍था कैसे की जाए। इस पर गहन मंथन किया गया। इन सड़कों की लंबाई- चौडाई आदि पर चर्चा की। राम जन्‍म भूमि मंदिर के 70 एकड परिसर के लैंड स्‍केप से लेकर आवश्‍यक जरूरतों का भी आंकलन किया गया। परिसर मे पावर सप्‍लाई, वाटर ट्रीटमेंट प्‍लांट, सीवर ट्रीटमेंट प्‍लांट,की व्‍यवस्‍था व 5 लाख लीटर पानी की अगर जरूरत पड़ी तो वह कहां से मिलेगा आदि बिंदुओं पर भी गहन चर्चा की गई। इस प्रकार राम मंदिर निर्माण के साथ सड़क पानी, आवास बिजली, आदि की व्यवस्थाओं पर भी चर्चा किया गया।

    देव बक्श वर्मा 

    Initiate News Agency (INA), अयोध्या

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.