Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    जयपुर। क्षत्रिय युवक संघ के हीरक जयंती कार्यक्रम में 5 लाख से अधिक क्षत्रिय और क्षत्राणियां शामिल हुए।

    क्षत्रिय युवक संघ के 75 वर्ष पूर्ण

    क्षत्रिय युवक संघ की संस्कार निर्माण की पाठशाला अनवरत चलती रहनी चाहिए: गजेन्द्र सिंह शेखावत

    क्षत्रिय युवक संघ लगातार संवैधानिक रूप से समाज के मुद्दों को सरकारों के सामने उठाता रहा

    अन्य समाजों के लोग बडे हृदय के साथ संघ से जुडते हैं और संघ भी बाहें पसार कर सभी का स्वागत करता है

    विजय लक्ष्मी सिंह 

    एडिटर-इन-चीफ 

    जयपुर। राजस्थान के श्री क्षत्रिय युवक संघ के 75 वर्ष पूर्ण होने पर जयपुर में हीरक जयंती समारोह का आयोजन किया गया। जयंती के अवसर पर राजधानी जयपुर में क्षत्रिय युवक संघ के लाखों क्षत्रिय और क्षत्राणियां एकत्र हुए। राजधानी के सीकर रोड स्थित भवानी निकेतन में आयोजित इस कार्यक्रम में बीजेपी और कांग्रेस समेत अन्य पार्टियों से जुड़े राष्ट्रीय स्तर के नेताओं ने शिरकत की। आसपास कई किलोमीटर तक सडकों पर केसरिया साफा पहने क्षत्रिय और केसरिया ओढने के साथ क्षत्राणियों का रैला नजर आया।

    इस समारोह के चलते पूरी गुलाबी नगरी केसरिया रंग में रंगी नजर आई। देशभर से क्षत्रिय समाज के लोग यहां पहुंचे। इस समारोह के जरिए राजपूत समाज ने जहां आगामी विधानसभा चुनाव की बिसात पर अपनी उपस्थित दर्ज कराई है वहीं अनुशासन का पाठ पढ़ाने वाले इस संगठन के बहाने एकजुटता का संदेश भी दिया है। देश और प्रदेश भर से बड़ी संख्या में राजपूत समाज के लोग इस कार्यक्रम में शामिल होने जयपुर पहुंचे। 

    कार्यक्रम के दौरान सभी कोविड गाइड लाइन का पालन करते नजर आए,  राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, मध्यप्रदेश, गुजरात के अलावा दक्षिण भारत के कई राज्यों से एक साथ बडी संख्या में लोग इस कार्यक्रम में सम्मालित हुए। उपस्थित लोगों पर हेलीकॉप्टर से फूलों की वर्षा कर स्वागत किया गया। बिना किसी राजनीतिक मकसद के पहली बार प्रदेश में इतनी भारी संख्या में एक ही समाज के लोग शामिल हुए। यह देश भर में चर्चा का विषय बना हुआ है।

    बीजेपी और कांग्रेस समेत अन्य पार्टियों से जुड़े राष्ट्रीय स्तर के नेता हुए शामिल 

    इस संगठन के संघ प्रमुख के तौर पर वर्तमान में लक्ष्मण सिंह बेण्यांकाबास और संरक्षक भगवान सिंह रोल साहब सर के सानिध्य में युवाओं ने पूरी व्यवस्थाओं को इतना प्रभावी ढंग से निभाया कि हर कोई दंग रह गया। प्रताप फाउण्डेशन और वरिष्ठ स्वयं सेवक महावीर सिंह सरवडी ने संघ की शुरूआत से लेकर आज तक संघ कार्यों पर प्रकाश डाला। सरवडी ने बताया कि चाहे भूस्वामी आंदोलन हो या चैपासनी का मुद्दा। 

    आरक्षण का विषय रहा हो या सामाजिक चेतना की कोई और बात। क्षत्रिय युवक संघ लगातार संवैधानिक रूप से समाज के मुद्दों को सरकारों के सामने उठाता रहा है। क्षत्रिय युवक संघ की कार्यशैली की विशिष्टता के चलते ही अन्य समाजों के लोग बडे हृदय के साथ संघ से जुडते हैं और संघ भी बाहें पसार कर सभी का स्वागत करता है। सरवडी ने कई उदाहरणों के माध्यम से यह बताया कि किस तरह से सभी समाज संघ का सहयोग करते हैं। 

    सरवडी ने प्रताप फाउण्डेशन, प्रताप युवा शक्ति और क्षत्रिय पुरुषार्थ फाउण्डेशन के माध्यम से किए जाने वाले कार्यों पर भी माध्यम से पारीवारिक उन्नति का मार्ग दिखाने वाला कहा। उन्होंने कहाकि बच्चे को जन्म देने से ही मातृत्व परिपूर्ण नहीं होता। बल्कि वह परिपूर्ण होता है संतानों को संस्कार युक्त करने से। क्षत्रिय युवक संघ माताओं में आत्मविश्वास भरता है कि हम अपने बच्चों को संस्कार निर्माण की इस पाठशाला में उच्च संस्कार देकर क्षत्रिय से महा मानव और युग पुरुष बनाने के मार्ग पर भेज सकते हैं। 

    क्षत्रिय सुरक्षा का भाव देता है। भय का नहीं। 

    उन्होंने कहा कि जब दुनिया में रक्त क्रांतियां हो रही थी। तब राजपूतों ने लोकतंत्र के लिए अपनी रियासतें त्याग दी। तन सिंह ने आजादी के लिए आन्दोलन किया। राजस्थान में पहला अहिंसक आंदोलन भूस्वामी आंदोलन तनसिंह के नेतृत्व में किया। उस आंदोलन ने समाज को एक नई दिशा दी। क्षत्रिय युवक संघ संस्कारों के निर्माण के लिए वर्ष भर प्रयास करता। हैं शिविर और शाखाओं के माध्यम से व्यक्तित्व निर्माण, चरित्र निर्माण। और राष्ट्र निर्माण की बात करने वाले क्षत्रिय युवक संघ जैसा कोई संगठन। और कहीं नजर नहीं आता। आरक्षण का यदि कोई जनक है तो वह क्षत्रिय युवक संघ है। हमारे पूर्वजों ने हमें जो विरासत दी है। उसे आगे बढ़ाना हमारा। कर्तव्य है। 

    केन्द्रीय जलशक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने कहा कि क्षरण के प्रवाह के विपरीत समय में समाज में चरित्र निर्माण और संस्कारों के निर्माण के लिए काम कर रहे क्षत्रिय युवक संघ की स्तुति की जानी चाहिए। शेखावत ने कहा पूर्वजों के प्रेरक गुणों त्याग, बलिदान, तेज, शौर्य, धैर्य, पर दुख कारता, धर्म, श्रेष्ठता की रक्षा व ईश्वरीय भाव को धारण करना चाहिए। उन्होंने कहा कि पूरा विश्व ऐसे गुणों को धारण करने वाले लोगों को नमन करता है। ये गुण डीएनए के माध्यम से पीढी दर पीड़ी स्थनांतरित होते हैं। 

    संगठन के बहाने एकजुटता का संदेश 

    क्षत्रिय युवक संघ इन संस्कारों को उपर्युक्त वातावरण देकर युवा पीड़ी में पोषित करता है। यह यात्रा निश्चित रूप से कठिन है। परन्तु तनसिंह का यह मार्ग जो संस्कारमयी कर्म प्रणाली का मार्ग है। यह नई उर्जा के साथ समाज में चेतना जागरण का काम करता है। यहां उपस्थित लाखों लोग इस बात का गवाह है कि दुष्कर कार्य को यथेष्ट रूप से पूरा करने में क्षत्रिय युवक किस तरह से अपनी महत्ती भूमिका निभाई है। जलशक्ति मंत्री ने कहा कि इस आयोजन में बिना राजनीतिक भेदभाव के क्षत्रिय के कल्याण के लिए सब सारे भेद भुलाकर एकत्र हुए ताकि विश्व कल्याण का मार्ग प्रशस्त हो सके। अधिकारों को भुलाकर कर्तव्य की बात पर संघर्षरत रहने वाले लोगों को दुनिया याद रखती है। क्षत्रिय युवक संघ की संस्कार निर्माण की पाठशाला अनवरत चलती रहनी चाहिए। उन्होंने संस्कारों से जुडने और क्षत्रिय युवक संघ की साधना का हिस्सा बनने का आह्वान किया।


    ये लाखों राजपूत आज हिंदुस्तान के सभी राजनीतिक और सामाजिक संगठनों के लिए हजारों सवाल छोड़ गए....

    • क्या राजपूत आज भी इतने अनुशासनात्मक है ?
    • क्या यह जयपुर में सिर्फ जयंती मनाने आए थे ?
    • लाखों की संख्या में पधारी क्षत्राणियों ने आज भी परंपरा की ओढ़नी से अपना सर ढक रखा था ।
    • इतनी बड़ी संख्या होने के बावजूद भी किसी प्रकार की कोई राजनीतिक या सामाजिक मांग नहीं की गई
    • लगातार 4 घंटे के कार्यक्रम में भी किसी क्षत्रिय के भाल से केसरिया साफा टस से मस नहीं हुआ ।
    • कार्यक्रम स्थल के भीतर पुलिस का एक भी जवान मौजूद नहीं था फिर यह अनुशासन कैसे संभव हो पाया ?
    • हजारों गाड़ियों का आगमन और विसर्जन हुआ लेकिन क्या किसी एक भी दुकानदार को या किसी ठेले वाले को कोई परेशानी हुई ?

    अगर ऐसा नहीं हुआ तो इसका मतलब यह है कि राजपूत आज तक मिडिया और फिल्मों के द्वारा सिर्फ दुष्प्रचार का शिकार होता आया है।  उसने हमेशा जनहित में  रक्षा ,त्याग , तप और बलिदान का अनुसरण किया है और आज भी उसी मार्ग पर अग्रसर है।

    कई समाजों के प्रतिनिधि जयंती समारोह में शामिल 

    इस आयोजन में भारी संख्या में अन्य समाजों के लोग और प्रतिनिधि शामिल हुए। सीएम अशोक गहलोत, पूर्व सीएम वसुन्धरा राजे ने अपने शुभकामना संदेश भेजे। केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, जयपुर सांसद रामचरण बोहरा, सांसद कुमारी सांसद, सीपी जोशी, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया, मंत्री भंवर सिंह भाटी और सुखराम बिश्नोई भी कार्यक्रम में पहुंचे। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनीया, जयपुर के सांसद रामचरण बोहरा, राजसमंद की सांसद दिया कुमारी, प्रदेश सरकार के मंत्री भंवर सिंह भाटी, महेश जोशी, सुखराम विश्नोई, पूर्व मंत्री पुष्पेन्द्रसिंह राणावत, कार्यक्रम में पूर्व मंत्री अरुण चतुर्वेदी, पूर्व मंत्री गजेन्द्र सिंह खिंवसर, विधायक चन्द्रभान सिंह आक्या, विद्या धरनगर के विधायक नरपतसिंह राजवी, विधायक मीना कवर, बाली के विधायक गिर्राज सिंह मलिगा, भी विधायक जोराराम कुमावत, छगनसिंह राजपुरोहित, पूर्व राज्यपाल पूर्व विधायक राजपाल सिंह शेखावत, आरएसएस के हनुमान सिंह, विधानसभा के पूर्व उपाध्यक्ष राव राजेन्द्र सिंह, बीजेपी के संगठन मंत्री चन्द्रशेखर, पूर्व विधायक घनश्याम तिवारी, पूर्व विधायक मानवेंद्र सिंह जसोल, विश्व हिन्दु परिषद के नरपत सिंह शेखावत, भाजपा की राष्ट्रीय मंत्री अलका गुर्जर, सिवाणा के विधायक हम्मीर सिंह भायल, जैसलमेर के विधायक रूपाराम धनदेव, मकराना के विधायक रूपराम, विधायक डॉ. मूलसिंह शेखावत, देवीसिंह शेखावत बानसूर, पुनीत कर्नावट जयपुर डिप्टी महापौर, नोखा के विधायक बिहारी विश्नोई, गुजरात सरकार मंत्री मंत्री प्रवीण सिंह वाघेला, आदि लोग शामिल हुए। 

    Initiate News Agency (INA) ,  जयपुर, राजस्थान

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.