Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अलीगढ़। पति को रुपये दे शराब लेने भेज दिया, फिर छत पर मौजूद दो लोगों ने पत्नी के साथ कर डाला था बलात्कार

    अलीगढ़। उत्तर प्रदेश के जनपद अलीगढ़ में दोस्ती को दागदार करते हुए दो शराबी लोगों द्वारा अपने दोस्त को शराब के लिए 1000 देकर शराब की दुकान से शराब लेने के लिए भेज दिया। जिसके बाद किराए के घर की दूसरी मंजिल के कमरे में मौजूद दो शराबियों ने अपने दोस्त की पत्नी को पकड़ कर बारी बारी से उसके साथ जबरन बलात्कार की सनसनीखेज वारदात को अंजाम दिया गया था। पीड़ित महिला ने बलात्कार की वारदात के 10 दिन बाद थाना टप्पल पहुंचकर बलात्कार की घटना को अंजाम देने वाले दोनों हवस के भूखे भेड़ियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के लिए बलात्कार की शिकार पीड़िता की तरफ से लिखित में तहरीर दी गई थी। तो वही बलात्कार की शिकार महिला का आरोप है कि जब दोनों हवस के भूखे भेड़ियों द्वारा उसको बारी बारी से अपनी हवस का शिकार बनाया जा रहा था। तब उसके पेट के अंदर 2 माह का गर्भ पल रहा था। पेट में पल रहा 2 महीने का गर्भ बलात्कार की वारदात से पेट में हुए दर्द के बाद इस दुनिया में जन्म लेने से पहले ही खंडित हो गया। लेकिन उसके साथ हुए बलात्कार की घटना के करीब 2 महीने बाद भी अलीगढ़ पुलिस बलात्कार करने वाले आरोपियों को गिरफ्तार करना तो दो पकड़ नहीं सकी है। जबकि अलीगढ़ के एसएसपी कलानिधि नैथानी द्वारा अलीगढ़ में किसी भी प्रकार के अपराधी को पकड़ने के लिए कई तरह के अभियान चलाकर वाहवाही लूटी जा रही है। लेकिन एक महिला के साथ हुए बलात्कार की घटना के बाद उन आरोपियों को पकड़ने में एसएसपी के सारे ऑपरेशन नाकाम साबित हो रहे हैं। जो अपने आप में बलात्कार जैसी वारदात के बाद आरोपियों को ना पकड़ पाना अलीगढ़ पुलिस पर एक सवालिया निशान खड़ा करता है। तो वही पीड़ित महिला ने अलीगढ़ के एसएसपी से मिलकर सड़कों पर खुलेआम घूम कर मुकदमे में समझौता करने की धमकी देने वाले बलात्कार के दोनों शिकारियों को गिरफ्तार करने की मांग की गई है।

    जानकारी के अनुसार उत्तर प्रदेश के जनपद अलीगढ़ के थाना टप्पल इलाके के गांव निवासी एक पति अपनी पत्नी को साथ लेकर अलीगढ़ पलवल हाईवे कस्बा जट्टारी के पेट्रोल पंप स्थित किराए पर एक मकान लेकर किराएदार के रूप में मकान की दूसरी मंजिल पर रह रहा था। पीड़ित पति की पत्नी के साथ ही बलात्कार की घटना दिनांक 10 अक्टूबर की देर शाम करीब 4:00 बजे की है। जब पीड़ित व्यक्ति के गांव के रहने वाले दो लोग उसके पति से मिलने के लिए उसके किराए के घर की दूसरी मंजिल पर पहुंच गए। जहां उसकी पत्नी को घर में देख मिलने के लिए पहुंचे दोनों लोगों की नियत खराब हो गई। जिसके बाद मकान की दूसरी मंजिल पर रह रहे परिवार की हकीकत को भाप लिया। उसके बाद उसके पति को बातों में उलझा लिया गया। मौके की नजाकत का नाजायज फायदा उठाते हुए दोनों लोगों ने उसके पति को जेब से निकालकर 1000 रुपये दारू की बोतल नमकीन सिगरेट के लिए देकर जट्टारी कस्बे में शराब के ठेके पर दारू लेने के लिए भेज दिया। पति को बाजार में शराब लेने के लिए भेज देने के बाद दोनों हवस के भूखे भेड़ियों ने मौका पाकर घर में अकेला देख जबरन उसकी पत्नी को दबोच लिया। जिसके बाद दोनों ने एक बेबस अबला नारी के साथ हवस के भूखे भेड़िए नामर्द लोग हैं अपनी मर्दानगी दिखाते हुए बारी बारी से बलात्कार की घटना को अंजाम दे दिया गया। बलात्कार की शिकार पीड़ित महिला ने बाजार से दारू और सामान लेकर लौटे पति को दोनों दरिंदों द्वारा उसके साथ की गई दरिंदगी की पूरी वारदात सुनाई गई। जिसके बाद घर में मौजूद दोनों दरिंदों ने उसके पति को जेल जाने भिजवाने को लेकर डराते हुए धमकी दी गई तो वही जेल से आने को लेकर मौत की नींद सुलाने की धमकी दी गई। हवस के भूखे भेड़ियों द्वारा दोनों पति-पत्नी को मौत का डर और दहशत दिखाते हुए मुंह कर दिया गया। जिसके चलते दरिंदों के डर से पत्नी 10 दिन तक बलात्कार का दंश झेलते हुए अपने पति के साथ किराए के मकान में हर पल मौत के साए में घुट घुट कर अपनी जिंदगी के गुमनाम दिन गुजार रहे थे। जिसके बाद दोनों पति पत्नी ने हिम्मत दिखाते हुए दोनों दरिंदों के खिलाफ थाना टप्पल पहुंचकर 23 अक्टूबर को बलात्कार की तहरीर देते हुए दोनों दरिंदों के खिलाफ बलात्कार का मुकदमा दर्ज करा दिया गया था। लेकिन पीड़ित महिला के साथ हुई बलात्कार की घटना के बाद बलात्कार करने वाले दोनों आरोपियों को पुलिस द्वारा गिरफ्तार नहीं किया गया जिसके चलते अलीगढ़ पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी बलात्कार जैसे संगीन घटना के बाद गिरफ्तारी न करना सवालिया निशान खड़े करता है।

    दरअसल अलीगढ़ के थाना टप्पल क्षेत्र में जहां दो दोस्तों ने मिलकर दोस्ती के पाक रिश्ते को नापाक करते हुए दोस्त की पत्नी के साथ हैवानियत की सारी हदें पार कर दी गई थी। जिसके कारण गर्भवती महिला का 2 महीनों का बच्चा भी खंडित हो गया था। पीड़ित महिला के द्वारा कप्तान दरबार में मदद की गुहार लगाते हुए आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की है। पूरे मामले में पुलिस के द्वारा आरोपियों के खिलाफ बलात्कार का मुकदमा भी दर्ज कर लिया है। लेकिन अभी तक गिरफ्तारी नहीं की गई। इसके बावजूद पीड़िता को आरोपियों के द्वारा लगातार धमकी दी जा रही है। जिसके कारण पीड़िता के द्वारा कप्तान दरबार में मदद की गुहार लगाई गई और इलाका पुलिस की कार्यशैली पर सवालिया निशान खड़े की है। पीड़िता का कहना है मुकदमा दर्ज होने के बाद भी आरोपी खुलेआम घूम रहे हैं।जबकि साथ ही आज तक उसके बयान भी पुलिस के द्वारा दर्ज नहीं करवाए गए। जिसके कारण उसे जान माल का खतरा भी सता रहा है। अब देखना यह होगा क्या महिला को न्याय मिल पाएगा या नहीं।


    Initiate News Agency (INA), अलीगढ़

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.