Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    हरदोई। मनरेगा में कमीशन बाजी को लेकर जेई व एपीओ में मारपीट

    हरदोई। मनरेगा में कमीशन बाजी को लेकर जेई व एपीओ में मारपीट हो गई। एपीओ ने जेई पर मारपीट करने व धमकाने का आरोप लगाते हुए पाली पुलिस चौकी में दरख्वास्त दी है। वहीं जेई ने इस्टीमेट से अधिक भुगतान के पुराने मामले को लेकर झुब्ध एपीओ पर फर्जी दरख्वास्त देने का आरोप लगाया है। मामला भरखनी ब्लॉक का है, एपीओ दीपक गुप्ता ने पाली पुलिस को एप्लीकेशन देते हुए जेई आर ईडी दीपक राजपूत पर मारपीट का आरोप लगाया है। एपीओ ने बताया पहले जेई ने फोन पर धमकाया और गाली गलौच की। उसके बाद ब्लॉक परिसर में ही उसके साथ मारपीट की। वहीं जेई आर ईडी का कहना है, ब्लॉक की ही आमतारा ग्राम पंचायत में नहर खुदाई के एक कार्य में फर्जीवाड़ा कर तीन लाख 40 हजार का इस्टीमेट बनाया गया था। पर मौका मुआयना करने पर वहां काम की आवश्यकता नहीं थी। वहां पहले से ही पर्याप्त मिट्टी होने के कारण इस्टीमेट मात्र दो लाख 20 हजार का ही बनाया गया था। इस पर तत्कालीन बीडीओ प्रमेंद्र पांडे व एपीओ निजी खुन्नस मानते थे। उन्होने उनके पोर्टल पर इस्टीमेट भेजना भी बंद कर दिया था। बीडीओ के ट्रांसफर होने के बाद एपीओ से उनके पोर्टल पर इस्टीमेट भेजने को कहा तो अभद्रता की। मात्र वाद विवाद हुआ और कुछ नहीं।



    जनप्रतिनिधियों का कहना सब कमीशनबाजी का है खेल रामदासपुर के ग्राम प्रधान विनोद कुमार ने बताया सारा खेल कमीशन बाजी का है। इस्टीमेट पर एक प्रतिशत कमीशन जेई को दिया जाता है। इस समय ब्लॉक में जेई एमआईएस नवीन सहगलइस्टीमेट को मंजूरी दे रहे हैं। उनको एक प्रतिशत कमीशन देना होता है, वहीं एपीओ ब्लॉक केनाम पर पांच प्रतिशत कमीशन मांगते हैं। न देने पर काम रुकवा दिए जाते हैं। गौरा उदयपुर ग्रामप्रधान उर्मिला के बेटे ने भी कमीशन बाजी की बात स्वीकारी। कहा ब्लॉक के कर्मचारी मनरेगाके नाम पर इस्टीमेट का छह प्रतिशत लेते हैं साथ ही ग्राम प्रधानों को परेशान करते हैं।

    जेई दीपक राजपूत ने बताया बीडीओ प्रमेंद्र पांडे ने नियम विरुद्ध तरीके से निजी लाभ के लिए मनरेगा में तीन करोड़ से अधिक का भुगतान सामग्री अंश पर किया है। इस दौरान ग्राम पंचायतों में श्रम व सामग्री अंश का ध्यान नहीं रखा गया। जब उनकी मनमानी का विरोध किया तो उनके पोर्टल पर इस्टीमेट भेजना बंद कर दिया। कहा उनकी पहचान उनका काम है, जब काम ही नहीं दिया जाएगा तो उनकी क्या पहचान रह जाएगी।

    विजय लक्ष्मी सिंह

    आई एन ए हरदोई डेस्क


    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.