Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    देवबंद: उत्तर प्रदेश सिख फोरम ने की गुरूपर्व व शहीदी पर्वों की धार्मिक व सरकारी कैलेंडर की तिथियों को एक करने की मांग की

    देवबंद: उत्तर प्रदेश सिख फोरम की बैठक में गुरूओं के प्रकाशोत्सव व शहीदी पर्व की पंथक व सरकारी तिथियों में अंतर होने की निंदा करते हुए शिरोमणि कमेटी की कार्यप्रणाली पर रोष व्यक्त किया गया। फोरम पदाधिकारियों ने अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार को पत्र भेजकर गुरूपर्वों की तिथियों का मिलान सरकारी कैलेन्डर से कराने की मांग की है।

    रेलवे रोड़ स्थित कार्यालय पर आयोजित बैठक में फोरम के चेयरमैन मनमोहन सिंह ने कहा कि पंथ की सर्वोच्च कमेटियों की लापरवाही के कारण वर्षों से सरकारी कैलेंडर व पंथ के धार्मिक कैलेंडर में गुरूपर्वों व शहीदी पर्वों की तिथी में अंतर आ रहा है। सरकारी अवकाश सरकारी कैलेंडर की तिथियों के अनुसार होते है जबकि गुरूद्वारों में यही पर्व अन्य तिथियों में मनाये जाते है जिससे गुरूपर्वों व शहीदी पर्वों की महत्ता प्रभावित हो रही है।

    फोरम महामंत्री गुरजोत सिंह सेठी ने कहा कि शिरोमणि गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी केवल सिर्फ आपसी खींचतान में उलझी है जबकि असली धार्मिक मसलों पर कमेटी को कोई ध्यान नही है। कहा कि सरकारी कैलेंडर से धार्मिक कैलेंडर की तिथियों का मिलान न होने के कारण उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बीते 24 नवम्बर को हिंद की चादर श्री गुरू तेग बहादुर जी का शहीदी पर्व मनाते हुए सार्वजनिक अवकाश किया जा चुका है जबकि शहीदी पर्व आगामी 8 दिसम्बर को है। 

    इसी प्रकार गुरूपर्वों की तिथियों में अंतर होने से पर्वों को लेकर उत्साह में कमी हो रही है। फोरम पदाधिकारियों ने अकाल तख्त जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह को पत्र भेजकर गुरूपर्वों व शहीदी पर्वों की तिथियां केंद्र व प्रदेश सरकारों के कलैंडर से मिलान कराकर उन्हें एक कराने की मांग की है। इस दौरान सेठ कुलदीप कुमार, हरपाल सिंह कपूर, अवतार सिंह, डा. गुरदीप सिंह सोढी, दिलबाग सिंह, हरजीत सिंह रंगूला, चंद्रदीप सिंह, बलदीप सिंह, शुशविंद्र पाल सिंह टोनी, राजेश अनेजा, हरविंदर सिंह बेदी, लाडी कपूर, अरविंदर सिंह काका आदि मौजूद थे।


    Initiate News Agency(INA)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.