Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    देवबंद: मां लक्ष्मी व कुबेर से प्रार्थना का दिन है आज: संदीप शर्मा

    देवबंद: भगवान श्रीराम जब 14 वर्ष का वनवास पूरा करके अयोध्या लौटे तब अयोध्या वासियों की खुशी का ठिकाना नही था और इस अवसर पर अयोध्या को दुल्हन की तरहा सजाया गया था। जिस दिन भगवान श्रीराम अयोध्या लौटे उसी दिन दीपावली का पावन पर्व मनाया जाता है। दीपावली से पूर्व सर्वप्रथम मनाए जाने वाले पर्व धनतेरस के विषय में उन्होने बहुत सुन्दर तरीके से समझाया ।

    शिव विहार कालोनी स्थित गौरी शिव मन्दिर के पुजारी संदीप शर्मा ने बताया कि आज धनतेरस है अर्थात् दीपावली का मनाया जाने वाला पांच दिनों का पहला दिन। आज के दिन धन की देवी लक्ष्मी और देवता कुवेर की पूजा की जाती है। इस मायारूपी संसार में धन का सबसे अधिक महत्व है। हर कदम पर धन की आवश्कता रहती है, बिना धन के इस संसार में कोई भी कार्य संभव प्रतीत नहीं होता। 

    उन्होने कहा, धन बहुत कुछ तो है किन्तु सब कुछ नहीं है। धन से हम वस्तुएं, ईमान और जमीर, शरीर, झूठा प्यार खरीद सकते हैं, जीवन नही। हमेशा ये याद रखना चाहिए कि धन इंसान की जरूरतों की पूर्ति कर सकता है लेकिन उसकी खुशी, नीद, सुख, चैन और सच्चा प्यार नहीं दिला सकता है, रिश्ते खरीदे नही जा सकते हैं, वह तो केवल आपके व्यवहार से ही प्राप्त हो सकते हैं। 

    उन्होने कहा कि अगर इंसान वास्तव में धनवान बनना चाहता है तो उसे अपनी काबिलियत से वह सब चीज एकत्र करना चाहिए जो धन से नहीं प्राप्त होती हैं। संदीप शर्मा कहते है कि मां लक्ष्मी और कुबेर से आज ये ही प्रार्थना करें कि वह हमें वह सभी संपदा प्रदान करे जो बिना धन के प्राप्त हो सके।


    Initiate News Agency(INA)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.