Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अलीगढ़। मशाल ए जुलूस, मशाल जुलूस निकाल किसान आंदोलन में शहीद हुए 700 से ज्यादा किसानों को युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने दी श्रद्धांजलि

    अलीगढ़। उत्तर प्रदेश के जनपद अलीगढ़ में रेलवे रोड स्थित कांग्रेस कार्यालय से युवा कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष के नेतृत्व में तीनों कृषि कानूनों के दौरान आंदोलन करते हुए किसान आंदोलन के दौरान शहीद हो गए थे।जहां किसान आंदोलन के दौरान शहीद हुए 700 से ज्यादा किसानों को श्रद्धांजलि देने के लिए कांग्रेस के उपाध्यक्ष द्वारा अपने युवा साथियों के साथ मिलकर मशाल जुलूस का एक आयोजन किया गया था। कांग्रेस के युवा कार्यकर्ताओं ने हाथों में जली हुई मशाले और बैनर ले सड़कों पर निकल गए। जिसके बाद कांग्रेस युवा कार्यकर्ताओं ने किसान आंदोलन में शहीद हुए 700 से ज्यादा किसानों को भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित की गई हैं।


    जानकारी के अनुसार अलीगढ़ के रेलवे रोड स्थित कांग्रेस कार्यालय से युवा कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष गौरांग देव चौहान के नेतृत्व में कांग्रेस के युवा कार्यकर्ताओं ने हाथों में बैनर लेकर किसान आंदोलन में शहीद हुए 700 से अधिक किसानों को श्रद्धांजलि देते हुए मशाल जुलूस का आयोजन किया गया। मशाल ए जुलूस के दौरान युवा कांग्रेस उपाध्यक्ष गौरांग चौहान ने कहा के केंद्र सरकार ने जबरन किसानों पर तीन काले कृषि कानून थोपे गए थे। जिसके विरोध में देशभर का किसान दिल्ली की सरहदों पर मुस्तैदी से इस काले फिर से कानून का पिछले 14 महीने से विरोध कर रहा था। जिसमें 350 दिनों में लगभग 700 से अधिक किसानों ने सर्दी,गर्मी, चाहें वर्षा हो उसमें लगातार इस सरकार की जनविरोधी किसान विरोधी नीति का जमकर विरोध किया गया था। जिसका आज परिणाम है कि देश के प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कल उन तीनों काले कानूनों को वापस लिया और देश के अन्नदाता के सामने अपनी गलती मानी है।

    जबकि सरकार के द्वारा यह काले कानून किसानों को बर्बाद करने के लिए लाए गए थे और उन किसानों की शहादत में देश के तमाम किसान अपनी जान की परवाह न करते हुए शहीद हुए। उन सभी शहीद किसानों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कांग्रेस के युवा कार्यकर्ताओं ने आंदोलन में शहीद हुए किसानों को मशाल जुलूस के जरिए श्रद्धांजलि देते हुए उनके जज्बे को सलाम किया। इसके साथ ही मांग भी की कि जो किसान इस आंदोलन के तहत शहीद हुए हैं। उनके परिजनों को सरकार द्वारा आर्थिक सहायता भी दी जाए। क्योंकि इस आंदोलन में केंद्र सरकार की मनमानी के चलते जो भी शहीद हुए उन्होंने अपने अपने घरों को चलाने का जिम्मा भी ले रखा था।

    गौरांग देव चौहान युवा कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष

    इस दौरान गौरांग चौहान ने कहा के उन सभी सामाजिक संगठनों का किसान संगठनों का और राजनीतिक दलों का भी धन्यवाद जिन्होंने लगातार किसानों की आवाज बनने का काम किया और इस लड़ाई में किसानों को जिस तरह से भी मदद कर सकते थे उनके सहायक बने।

    अजय कुमार

    Initiate News Agency (INA), अलीगढ़

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.