Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अयोध्या। अयोध्या में रामायण कान्क्लेव का समापन मुख्यमंत्री ने किया

    ...... ......3 नवंबर को दीपोत्सव मुख्य कार्यक्रम की समीक्षा किया और आवश्यक दिशा निर्देश दिया

    अयोध्या। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रामकथा पार्क में विगत 29 अगस्त 2021 को शुरू किये गये रामायण कान्क्लेव का समापन किया गया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री  ने कहा कि भगवान राम सबके राम है और सभी के राम है और सभी हमारा भारत समाज राममय है। इसी परम्परा को आगे बढ़ाते हुये  मैं इस कान्क्लेव का समापन कर रहा हूं।


    इस अवसर पर  3 नवम्बर  को होने वाले पंचम दीपोत्सव 2021 के तैयारी की समीक्षा करने आया हूं।  इस अवसर पर  अयोध्या के पूज्य संतों का आर्शीवाद भी लेने आये है। उनका दर्शन भी करने आये है। मुख्यमंत्री ने कहा कि  प्रधानमंत्री  जी को अफगानिस्तान के काबुल शहर की एक लड़की ने भगवान राम को अर्पित करने के लिए काबुल नदी का जल भेजा था उसको हमारे प्रधानमंत्री जी ने कहा कि आप  इसको रामलला के जन्मस्थान/गर्भगृह में अर्पित किये।  रामलला का दर्शन करने के बाद गर्भगृह स्थान में अर्पित किया। अयोध्या का अफगानिस्तान से गहरा सम्बंध है। महाराजा दशरथ की एक महारानी एवं पूज्य भरत जी की माता कैकेयी अफगानिस्तान की है, कैकेई राज्य/गन्धार से सम्बंध था। जिनके पिता श्री अश्वपति का अनेक जगहों पर उल्लेख मिलता है। मुख्यमंत्री जी द्वारा इस कार्यक्रम अयोध्या शोध संस्थान द्वारा प्रकाशित पुस्तक का विमोचन भी किया गया।


    योगी  जी ने कहा कि इस पुस्तक का साधु संतों को भी भेंट करें तथा रामायण कांक्लेव का दीप प्रज्जवलित कर शुभारम्भ किया। इस अवसर पर प्रदेश के पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री एवं जनपद के प्रभारी मंत्री डा0 नीलकंठ तिवारी द्वारा रामायण कान्क्लेव पर विस्तृत प्रकाश डाला गया तथा संस्कृति विभाग का विशेष कार्यक्रम आम जनमानस को भगवान राम के चरित्र से जोड़ने का उद्देश्य बताया गया।


    मुख्यमंत्री श्रीराम लला का दर्शन पूजन किया तथा गर्भगृह का भी अवलोकन किया। काबुल से आये हुये जल को अर्पित किया।


    राम की पैड़ी कार्यक्रम में भाग लिया गया तथा अयोध्या के कार्यक्रमों एवं दीपोत्सव आदि को सफल बनाने हेतु सभी से सहयोग मांगा गया। रामकथा पार्क/संग्रहालय में दीपोत्सव के तैयारियों की समीक्षा की तथा सभी तैयारियां पूरा करने के निर्देश दिये गये। 


    रामायण एवं रामकथा की व्याप्ति सम्पूर्ण विश्व में है जिसके असंख्य अनुयायी मर्यादा पुरूषोत्तम श्रीराम के द्वारा स्थापित आध्यात्मिक, नैतिक एवं सांस्कृतिक मूल्यों का अनुकरण कर अपना पथ प्रशस्त करते है और अपने भविष्य की आधारशिला भी रखते है। रामकथा की इसी वैश्विक व्याप्ति के दृष्टिगत उ0प्र0 पर्यटन विभाग द्वारा गत वर्ष से रामायण कान्क्लेव के आयोजन का क्रम प्रारम्भ किया था जिसे इस वर्ष संस्कृति विभाग के संयुक्त तत्वावधान में अयोध्या शोध संस्थान द्वारा उ0प्र0 के 16 प्रमुख शहरों में श्रृंखलाबद्व आयोजनों के माध्यम से मूर्त रूप प्रदान करने का प्रयास किया गया है।

    देव बक्श वर्मा 

    Initiate News Agency (INA), अयोध्या

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.