Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    श्रावस्ती। कुदरत की दोहरी मार से पीड़ित है तराई के लोग।

    श्रावस्ती। लगातार बारिश होने के कारण राप्ती नदी का जलस्तर बड़ा किसानों की हजारों बीघा धान पानी में समाहित हो गए तो वही राप्ती नदी के जलस्तर बढ़ने से सैकड़ो बीघा फसल तबाह हो गया, राप्ती नदी खतरे के निशान से अभी भी 50 सेंटीमीटर ऊपर बह रहा है। 


    नजदीकी गांव पानी से घिर गए हैं जैसे बीरपुर लौकिहा पिपरा हवा हरिहरपुर करनपुर अशरफ नगर शाईपुर ओरी पुरवा, चहलवा नारायनापुर ,गंगाभागड़ गजोबरी दुर्गा पुरवा, लक्ष्मणपुर सेमरहनिया समेत दर्जनों गांव राप्ती नदी के बाढ़ के पानी से घिर गए हैं किसानों के धान पानी में समाहित हो गए हैं और यहां किसानों का बुराहाल है।

    बाढ़ पीड़ित किसान

    श्रावस्ती जिले के मल्हीपुर थाना क्षेत्र के लक्ष्मनपुर कोठी के पास स्थित चौधरी चरण सिंह राप्ती बैराज पर राप्ती नदी का जलस्तर खतरे के निशान 127.70 से बढ़कर 128.20 पर पहुँच गया जिससे किसानों की धड़कने और तेज हो गई है। 


    पानी भरने से किसानों की धान की फसल नष्ट हो गई और उधर सरकार की महंगाई की मार से किसान परेशान खाने को भी मोहताज उधर कुदरत का करिश्मा इधर सरकार की करिश्मा से परेशान है किसान। इसीलिए कहते है कि किसानों पर दोहरी मार पड़ने से किसान तबाह हो गया है।

    सर्वजीत सिंह 

    Initiate News Agency (INA),  श्रावस्ती

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.