Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    सम्भल। क्या इस बार निकलेगा जुलूस ए मोहम्मदी, मदरसा अजमल उल उलूम में एक बैठक का आयोजन

    सम्भल। जलूस ए मोहम्मदी निकालने को लेकर उलेमाओ ने बैठक कर जिलाधिकारी से मिलकर जलूस निकालने की अनुमति मांगने का फैसला लिया है। उलेमाओ का कहना है कि जब दूसरे समुदाय के धार्मिक आयोजन हो सकते है तो हमारे धार्मिक आयोजनों की प्रशासन को अनुमति देनी चाहिये।

    मुफ़्ती आलम रज़ा नूरी, मुफ्ती ए आज़म सिरसी

    ईद मिलादुन्नबी पर निकलने वाले जुलूस ए मोहम्मदी को लेकर असमंजस की स्थित बनी हुई है। जुलूस 19 अक्टूबर को निकलना है लेकिन कोरोना वायरस की वजह से दो वर्ष जुलूस ए मोहम्मद नही निकल पाया है। जुलूस निकालने के लिए उलेमा भी तैयारियों में जुटे है। जुलूस निकालने को लेकर गुरुवार को मदरसा अजमल उल उलूम में एक बैठक का आयोजन किया गया। जिसमे शहर के उलेमाओ ने शिरकत कर अपने अपने विचार व्यक्त किये। बैठक में फैसला लिया गया कि उलेमाओ का प्रतिनिधि मंडल जिलाधिकारी से मिलकर शर्तो के साथ जलूस निकालने की परमिशन माँगेंगा।उलेमाओ का कहना है कि जब दूसरे समुदाय के प्रोग्राम होने पर कोई रोक नही है तो जलूस ए मोहम्मदी निकालने की भी परमिशन देनी चाहिये। 


    पैगम्बर ए इस्लाम के जन्मदिवस की खुशी में अरबी महीने रबी उल अव्वल की  12 तारीख को (इस वर्ष 19 अक्टूबर) जुलूस ए मोहम्मदी निकाला जाता है। इससे एक दिन पहले जश्न ए चिरागां किया जाता है। इस दौरान घरों व मोहल्लों को सजाया जाता है। जुलूस में हज़ारो अकीदतमंद शिरकत करते हैं। जुलूस का स्वागत करने के लिए जगह-जगह स्टेज लगाये जाते हैं।

    उवैस दानिश

    Initiate News Agency (INA), सम्भल

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.