Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    लखीमपुर खीरी। ब्लाक मितौली के रेवाना गांव पहुंचे डीएम, देखा ग्रीन डिजिटल स्मार्ट विलेज

    ....... डीएम बोले, सीडीओ व उनकी टीम की अनूठी पहल से रेवाना में हुआ बेहतरीन काम

    लखीमपुर खीरी। डीएम महेंद्र बहादुर सिंह ने सीडीओ अनिल कुमार सिंह व डीएम संजय कुमार सिंह के साथ ब्लाक मितौली के पीएम आवास योजना (ग्रा) के तहत क्लस्टर आवासीय परिसर ग्रीन डिजिटल स्मार्ट विलेज रेवाना पहुंचे। 


    डीएम ने कहा कि सीडीओ अनिल कुमार सिंह के नेतृत्व में बीडीओ चंदन देव पांडेय व उनकी पूरी टीम ने एक अनोखी पहल के तहत ग्रीन डिजिटल स्मार्ट विलेज की परिकल्पना को जमीनी स्तर पर साकार किया है। इस इंटीग्रेटेड आवासीय परिसर के संबंध में सीडीओ ने बताया कि 30 योजनाओं को समेकित करते हुए इस आवासीय परिसर को विकसित किया गया है। उन्होंने सामुदायिक टीवी कक्ष का फीता काटकर ग्राम वासियों को समर्पित किया। इसी परिसर में इंडियन बैंक ने ग्रामीणों की सुविधा हेतु बड़ा आरो प्लांट भी लगवाया। वही आवासीय परिसर के लाभार्थियों से बातचीत कर बधाई दी। उन्होंने इंटीग्रेटेड साउंड सिस्टम के जरिए ग्राम वासियों उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं दी। 


    उन्होंने कहा कि गांव का एक एक व्यक्ति को सुख समृद्धि मिले। इस दौरान डीएम ने गांव में लगे 16 सीसीटीवी कैमरों का कंट्रोल रूम एवं मॉनिटरिंग कक्ष देखा।  इस दौरान उन्होंने मिनी सचिवालय सामुदायिक शौचालय, एनआरएलएम समूह से समृद्धि की ओर दोना मेकिंग सेंटर एवं कपड़ा छपाई केंद्र भी देखा। एन आर एल एम समूह की महिलाओं से उत्पाद के विपणन के संबंध में जानकारी ली। नारायण प्रेरणा स्वयं सहायता समूह की महिलाओं द्वारा तैयार किए गए मसाले को भी देखा। उन्होंने सीडीओ को निर्देश दिए कि विकास भवन में इन समूहों के काउंटर स्थापित करके समूहों की न केवल ब्रांडिंग करते हुए इन्हें स्वावलंबी बनाने में मदद की जाए।

    इसके बाद उन्होंने आवासीय परिसर में कैटल शेड, वर्मी कंपोस्ट, ग्रे वाटर ट्रीटमेंट, पेयजल आपूर्ति हेतु पानी टंकी, कैच द रेन प्रोजेक्ट के तहत तालाब निर्माण आदि विकास कार्य देखें। उन्होंने कहा कि सीडीओ और उनकी पूरी टीम ने पूरी शिद्दत से इस गांव को विकसित करने में जुटी रही, जिसका परिणाम आज सबके सामने है।


    रेवाना गांव का हुआ डिजिटलाइजेशन, बैंकों के चक्कर काटने का झंझट खत्म बीसी सखी के जरिए ग्रामीणों के घरों तक पहुंची बैंक सुविधाएं गांव में बीसी ने खोले 950 खाते, डीएम ने बाटे 190 लाभार्थियों को बैंक पासबुक एवं एटीएम कार्ड डीएम महेंद्र बहादुर सिंह ने रेवाना गांव में 190 लाभार्थियों को बैंक पासबुक एवं एटीएम कार्ड वितरित किए। आज बीसी के जरिए ग्रामीणों ने अपने खाते से लेन-देन भी किया। एलडीएम वीएस राणा ने बताया कि सीडीओ की पहल पर उन्होंने गांव में बैंक सखी की तैनाती करके अभियान चलाया और 950 खाते खोले, अब किसी को भी बैंक जाने की जरूरत नहीं है। बैंक संबंधी सभी काम बीसी के जरिए गांव में ही किए जाएंगे।


    • डीएम ने किया सोलर पावर प्लांट का शिलान्यास

    डीएम महेंद्र बहादुर सिंह ने सीडीओ अनिल सिंह व एडीएम संजय सिंह के साथ रेवाना गांव में टाटा कंपनी द्वारा सीएसआर फंड से बनाए जा रहे सोलर पावर प्लांट का शिलान्यास किया। इस प्लांट के जरिए इस गांव में न्यूनतम दर पर लगभग मुफ्त सोलर बिजली मिलेगी। 


    • डीएम ने प्राथमिक विद्यालय रेवाना में बच्चों को बांटी पाठ्य पुस्तकें एवं चेयर

    रेवाना गांव में संचालित प्राथमिक विद्यालय में पहुंच कर डीएम ने बच्चों से पहाड़े सुनें। सीडीओ एवं एडीएम के साथ डीएम ने बच्चों को पाठ्य पुस्तकें एवं बैठने के लिए चेयर भी वितरित की। इस दौरान उन्होंने बच्चों से ढेर सारी बातचीत की। इसके बाद उन्होंने नवनिर्मित पशु चिकित्सालय  देखा।

    • इन अफसरों की रही मौजूदगी :

    अग्रणी जिला प्रबंधक वीएस राणा, पीडी के के पांडेय,डीसी  एनआरएलएम राजेंद्र श्रीवास, डीसी मनरेगा प्रेम प्रकाश त्रिपाठी, खंड विकास अधिकारी चंदन देव पांडेय, सहित उनकी पूरी टीम मौजूद रही।

    • इन सुविधाओं से लैस हो रहा रेवाना गांव

    इस गांव को सरकार की विभिन्न लोककल्याणकारी योजनाओ को आपस में जोड़ते हुए व विभिन्न विभागों से समन्वय से मूलभूत सुविधाओं के साथ साथ शहरी सुविधाएं भी उपलब्ध कराई जा रही है, जो की सतत विकास के लक्ष्य पर आधारित है। मूलतः गांव में ही रोजगार की उपलब्धता , सौर्य ऊर्जा को बढ़ावा देना (अन्तरराष्ट्रीय सौर गठबन्धन - International Solar Alliance 2015 पर आधारित जो की मा. पीएम के आत्मनिर्भर भारत तथा ग्रीन एनवायरनमेंट से सम्बंधित है ) स्वयं सहायता समूहों को आत्मनिर्भर बनाना , डिजिटल लेनदेन को प्रमोट करना , पारदर्शिता तथा लोकल स्तर पर समस्याओ का त्वरित निराकरण करना (ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से ), बच्चो तथा वयस्कों के लिए पार्क तथा ओपन जिम की सुविधा, भारत सरकार के  “कैच द  रेन “ प्रोग्राम के तहत रूफ टॉप तथा सरफेस वाटर को हार्वेस्ट करना , ग्रे वाटर ट्रीटमेंट के जरिये गांव की नालियों को फ़िल्टर कर  के डिस्पोस करना सभी को स्वास्थ्य सुविधाएं , कोविड टीकाकरण , आयुष्मान भारत आदि राज्य तथा केंद्र सरकार की योजनाओ से आच्छादित करना है।  गांव की सुरक्षा हेतु सीसीटीवी कैमरा से पूरे गांव को जोड़ना , इसके साथ ही सेंट्रल अनाउंसमेंट सिस्टम के जरिये एक साथ सूचना का त्वरित प्रसारण गांव में करना इस ग्रीन स्मार्ट विलेज का एक लक्ष्य है। गांव के बच्चो को बेहतर शिक्षा की मूलभूत  सुविधा का भी विशेष रूप से ध्यान रखा गया। शाम को सामाजिक परस्परता को बढ़ावा देने हेतु आपसी सहयोग से कॉमन कम्युनिटी हाल का भी निर्माण कराया गया है जिसमे टेलीविजन, पत्र पत्रिका आदि की भी व्यवस्था की गयी। जिससे गांव के लोग आपस में भाई चारा को बढ़ा सकें। विभिन्न सरकारी तथा गैर सरकारी संस्थाओ के माध्यम से कुछ विशेष सुविधाएँ रेवाना गांव को दी गयी है जैसे गांव में सोलर पावर प्लांट का स्थापना टाटा सोलर पावर की तरफ से उपलब्ध कराई गयी है जो सिर्फ मैंटेनस चार्ज पर आधारित है।  इंडियन बैंक द्वारा गांव के लोगो को फाइनेंसियल सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है, ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी , कैशलेस कार्ड्स ,बैंक मित्र  इन्शोरेन्श आदि की भी सुविधा इंडियन बैंक द्वारा सहयोग के रूप में प्रदान की जा रही है।  गांव के लोगो को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध हो सके इसके लिए भी बैंक द्वारा त्व् की सुविधा  उपलब्ध कराया गया है। पीएम आवास योजना (ग्रा) के तहत ब्लॉक मितौली के ग्राम पंचायत रेवाना में क्लस्टर आवासों का निर्माण कार्य कराया जा रहा है। ब्लॉक स्तर पर संचालित लगभग 30 योजनाओ से समन्वय स्थापित कर के इस आवासीय क्लस्टर को विकसित किया जा रहा है। यह विकास सिर्फ आवासीय क्लस्टर का ही नहीं बल्कि पुरे गांव का विकास है।


    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.