Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कानपुर। BJP के मजबूत किले को भेदने की तैयारी, SP कानपुर- बुंदेलखंड से करेगी विजय रथ यात्रा की शुरुआत

    कानपुर। यूपी विधानसभा चुनाव 2022 की चुनावी रणनीति बनाने में सभी राजनीतिक पार्टियां जुटी हैं। समाजवादी पार्टी की नजर बीजेपी के सबसे मजबूत किले को भेदने की है। कानपुर-बुंदेलखंड बीजेपी का सबसे मजबूत गढ़ है। सपा मुखिया अखिलेश यादव मंगलवार को कानपुर-बुंदेलखंड से विजयरथ यात्रा की शुरूआत की है। अखिलेश की यात्रा कानपुर से शुरू होगी और हमीरपुर होते हुए पूरे कानपुर-बुंदेलखंड में संवाद स्थापित करेगी। उत्तर प्रदेश में कानपुर-बुंदेलखंड बीजेपी का सबसे मजबूत किला है। बीजेपी ने पिछले 2017 के विधानसभा चुनाव में कानपुर-बुंदेलखंड की 52 विधानसभा सीटों में से 47 सीटों पर कमल खिलाया था। इसके बाद 2019 के लोकसभा चुनाव में कानपुर-बुंदेलखंड की 10 लोकसभा सीटों में से 10 सीटों पर शानदार जीत दर्ज की थी। सपा मुखिया अखिलेश जानते हैं कि 2022 में सरकार बनानी है तो कानपुर-बुंदेलखंड के किले को जीतना पड़ेगा। 

    2017 में 5 सीटों पर हारी थी बीजेपी

    बुंदलेखंड में बीजेपी को समाजवादी पार्टी के गढ़ की दो सीटें और कानपुर की तीन सीटों पर हार का सामना करना पड़ा था। जिसमें से इटावा की जसवंतनगर विधानसभा सीट शामिल है। जसवंतनगर सीट से प्रसपा मुखिया शिवपाल सिंह यादव जीते थे। ये सीट मुलायम की परिवारिक सीट मानी जाती है। इसके बाद कन्नौज सदर विधानसभा सीट पर समाजवादी पार्टी ने जीत दर्ज की थी। सदर विधानसभा सीट सपा का गढ़ है। यूपी विधानसभा चुनाव में 2022 में अखिलेश के कंधो पर अपना गढ़ बचाने की भी जिम्मेदारी है। 


    विजय रथ यात्रा लेकर निकलें अखिलेश

    सपा मुखिया अखिलेश यादव ने आज कानपुर से विजयरथ यात्रा की शुरूआत की। अखिलेश यादव का गंगापुल पर कार्यकर्ता जोरदार स्वागत किया। नौबस्ता चौराहे से अखिलेश यादव हजारों कार्यकर्ताओं के साथ विजयरथ यात्रा लेकर घाटमपुर की तरफ बढ़ेंगे। इस दौरान उनका जगह-जगह स्वागत किया जाएगा। इस दौरान अखिलेश लोगों से संवाद भी स्थापित करेंगे। अखिलेश यादव घाटमपुर में एक जनसभा को संबोधित करेंगे। इसके बाद सपा मुखिया की विजयरथ यात्रा हमीरपुर की तरफ बढ़ जाएगा। 

    क्लीन स्पीप की तैयारी में बीजेपी

    बीजेपी कानपुर-बुंदेलखंड में क्लीन स्वीप करने की तैयारी कर रही है। बीजेपी दावा कर रही है कि 2022 के विधानसभा चुनाव में कानपुर-बुंदेलखंड की 52 में से 52 सीटों पर कमल खिलाएंगे। बीजेपी उन सीटों पर सबसे ज्यादा मेहनत कर रही है, जिसमें 2017 के विधानसभा चुनाव में हार का सामना करना पड़ा था। 2016 में नोटबन्दी के दौरान पैदा हुए खजांची ने अखिलेश यादव के साथ हरी झंडी दिखा कर विजय यात्रा के रथ को आगे बढ़ाया।

    इब्ने हसन ज़ैदी

    Initiate News Agency (INA) , कानपुर

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.