Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अयोध्या। दबंग विधायक खब्बू तिवारी के राजनीतिक करियर पर लगा ग्रहण! धोखाधड़ी के मामले में अदालत ने दी 5 साल की सजा

    अयोध्या। अयोध्या जनपद के सिविल कोर्ट फैजाबाद में एमपी-एमएलए कोर्ट ने  विधायक खब्बू तिवारी को पांच साल की सजा सुनाई है। छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष फूलचंद यादव और अखिल भारतीय चाणक्य परिषद के संरक्षक कृपा ध्यान तिवारी को भी 5 साल की सजा दी है। सजा सुनाए जाने के बाद उन्हें अयोध्या मंडल कारागार  भेज दिया गया है।

    मामला छात्र जीवन का है। वर्ष 1991 में छात्र जीवन में ही वर्तमान  गोसाईगंज विधानसभा सीट से  विधायक इंद्र प्रताप तिवारी ने अयोध्या के साकेत महाविद्यालय में बीएससी द्वितीय वर्ष में प्रवेश लेने के लिए बीएससी प्रथम वर्ष की फर्जी मार्कशीट का इस्तेमाल किया था। इस मामले में महाविद्यालय के तत्कालीन प्राचार्य द्वारा अयोध्या कोतवाली में धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराया गया था।  

    प्रकरण की सुनवाई के दौरान अयोध्या की एमपी एमएलए कोर्ट की विशेष न्यायाधीश ने  विधायक इंद्र प्रताप तिवारी खब्बू तत्कालीन छात्रसंघ अध्यक्ष फूलचंद यादव और साथी छात्र कृपा निधान तिवारी को 5 वर्ष कारावास की सजा सुनाई है।  

    विधायक के अलावा सजा पाए हुए दो व्यक्तियों पर  सहयोग करने का आरोप न्यायालय ने पाया है। विधायक को सजा मिलने के बाद अयोध्या पुलिस ने तत्काल इंद्र प्रताप तिवारी को हिरासत में लेने के बाद मण्डल कारागार  भेज दिया है।धोखाधड़ी के मामले में कोर्ट ने  5 साल की सजा सुनाई। अब इंद्र प्रताप तिवारी उर्फ खब्बू विधायक व उनके दो अन्य साथियों को उच्च न्यायालय की शरण लेनी होगी। 

    खब्बू तिवारी के अधिवक्ता के अनुसार 30 साल पुराने मामले में न्यायालय से विधायक को सजा मिली है। इस प्रकरण को लेकर हम उच्च न्यायालय की शरण में जाएंगे। विधायक इंद्र प्रताप तिवारी खब्बू के ऊपर अभिलेखों में हेरफेर करने के आरोप मे कार्रवाई की गई है। उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाएंगे।

    निकट भविष्य में विधानसभा का चुनाव चुनाव होना है। अब देखना है कि खब्बू तिवारी का राजनीतिक भविष्य क्या होगा। यद्यपि खब्बू तिवारी अपना दल के टिकट से भाजपा के सहयोग से चुनाव लड़े थे और गोसाईगंज विधानसभा से विधायक निर्वाचित हुए थे।

    जब विधानसभा या लोकसभा के चुनाव आते हैं तो राजनीतिक दल के नेताओं के आरोप-प्रत्यारोप के दौर शुरू हो जाते हैं उत्तर प्रदेश में विधानसभा का चुनाव होना है आरोप-प्रत्यारोप के दौर शुरू हो गए हैं ऐसे में अब खब्बू तिवारी के राजनीतिक भविष्य पर विपक्ष को मिला मुद्दा।

    न्यायालय की इस कार्रवाई को लेकर जिले के सियासी हलके में हड़कंप मच गया है। साल 2022 चुनाव के करीब आने के साथ ही जिले में विपक्षी दल के नेताओं को बीजेपी के खिलाफ एक बड़ा मुद्दा मिल गया है। उम्मीद यही थी कि साल 2022 के विधानसभा चुनाव में भी इंद्र प्रताप तिवारी उर्फ खब्बू  गोसाईगंज विधानसभा सीट से  प्रत्याशी घोषित होगे या नहीं? 

    लेकिन न्यायालय द्वारा सजा मिलने के बाद अब उनके आगे के राजनीतिक भविष्य को लेकर अटकलों का बाजार गर्म हो गया है!साकेत महाविद्यालय में महामंत्री रहते हुए खब्बू तिवारी पर फर्जी अंकपत्र लगाकर बीएसपी द्वितीय वर्ष में प्रवेश लेने का आरोप था।

    फूलचंद यादव उस समय छात्र संघ के अध्यक्ष थे। कृपा निधान तिवारी भी साथ में ही पढ़ते थे। दबंग इंद्र प्रताप तिवारी उर्फ खब्बू तिवारी का दबदबा है।  2007 में समाजवादी पार्टी से और 2012 में  बहुजन समाज पार्टी से चुनाव लड़ें थे और हार गए थे। जब गोशाईगज विधानसभा से चुनाव लड़ें तो पहली बार विधायक बने। 


    देव बक्श वर्मा

    Initiate News Agency(INA), अयोध्या

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.