Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    देवबंद: उत्तर प्रदेश को चार भागों में बांटने की मांग को लेकरकिसानों ने निकाली रैली

    --प्रदेश सरकार गन्ने का लाभकारी रेट 600 कुंटल तत्काल घोषित करें: भगत सिंह वर्मा

    देवबंद: किसान संगठन पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष भगत सिंह वर्मा के नेतृत्व में तल्हेडी से ट्रैक्टर ट्रालीयों मोटरसाइकिलों व कारों में बडी तादाद में किसानों के साथ नारेबाजी करते हुए जामिया तिब्बिया कॉलेज के सामने स्टेट हाईवे पर सांकेतिक जाम लगाया और किसानों को संबोधित किया इसके बाद किसान प्रदर्शन करते हुए सराय तलहेडी चुंगी मंगलौर चैकी मुजफ्फरनगर चुंगी मजनू वाला रोड सुभाष चैक होते हुए पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा का जुलूस जोरदार नारेबाजी और प्रदर्शन करते हुए गन्ना समिति देवबंद पहुंचा यहां आकर पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा ने विशाल किसान महापंचायत की। 

    गन्ना समिति में विशाल किसान महापंचायत को संबोधित करते हुए पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष भगत सिंह वर्मा ने कहा कि पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा पिछले दो दशक से उत्तर प्रदेश को चार भागों में बांट कर पृथक पश्चिम प्रदेश निर्माण की लड़ाई लड़ रहा है उत्तर प्रदेश देश ही नहीं दुनिया का सबसे बड़ा राज्य है इसलिए उत्तर प्रदेश को चार भागों में बांट कर पृथक पश्चिम प्रदेश का निर्माण जरूरी है भगत सिंह वर्मा ने कहा कि उत्तर प्रदेश बड़ा राज्य होने के कारण पूरा प्रदेश गरीबी महंगाई भ्रष्टाचार बेरोजगारी व अव्यवस्था की चपेट में है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 26 जिलों 6 मंडलों 8 करोड जनसंख्या 137 विधानसभा क्षेत्रों 27 लोकसभा क्षेत्रों का पृथक पश्चिम प्रदेश निर्माण होने तक पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा का संघर्ष जारी रहेगा। 

    महापंचायत का संचालन करते हुए पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय महासचिव रविंद्र चैधरी गुर्जर ने कहा कि आज देश और प्रदेश का अन्नदाता किसान काफी परेशान और घाटे में है। केंद्र और प्रदेश सरकार किसानों को उसकी फसलों का लाभकारी मूल्य नहीं दिला रही है। 

    रैली में  यासीन रवि कांत त्यागी सुभाष त्यागी सुनील बाटला प्रवीण त्यागी नीरज सैनी प्रधान रविंद्र चैधरी प्रधान हाजी सुलेमान बुद्धू हसन चैधरी केसर आलम मोहम्मद याकूब हरपाल सिंह जोगेंद्र सिंह रफल सिंह सचिन कुमार अभिषेक चैधरी आकाश कुमार अरविंद चैधरी चैधरी राजपाल सिंह सहित हजारों किसानों ने भाग लिया और अपने बीच में एस सी डी आई डिप्टी एके ओझा व गन्ना सचिव प्रेम चद चैरसिया व उप जिलाधिकारी देवबंद राकेश कुमार को धरने प्रदर्शन में अपने बीच बैठाए रखा। और किसानों ने कहा कि इस बार यदि चीनी मिल में घट तो ली पाई गई तो चीनी मिल मालिक प्रबंध तंत्र प्रशासन व गन्ना विभाग इसके लिए सीधा-सीधा जिम्मेदार होगा।


    Initiate News Agency (INA)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.