Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    शाहजहांपुर: विनोबा एक अध्यात्मिक संत थे, उन्हें अध्यात्म की अद्भुत चाह थी :सुरेश खन्ना

    शाहजहांपुर: विनोबा एक अध्यात्मिक संत थे, उन्हें अध्यात्म की अद्भुत चाह थी। वे जीवन को अध्यात्मिक उचाई तक ले जाना चाहते थे। विनोबा के ज्ञान की कोई सीमा नहीं है। उनके संदेश को सम्पूर्ण समाज में फैलाने की आवश्यकता है। उक्त विचार मुख्य अतिथि प्रदेश के वित्त, संसदीय कार्य एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने बरतारा स्थित विनोबा सेवा आश्रम परिसर में विनोबा जयंती समारोह के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम के दौरान कही। 

    इस अवसर पर उन्होंने विनोबा की प्रतिमा पर पुष्पांजलि एवं माल्यार्पण किया। कहा कि विनोबा के कार्यो की सुगन्ध शहीद नगरी शाहजहांपुर को विनोबा सेवा आश्रम के कारण मिलती रही है। विनोबा गांव के विकास के प्रबल पक्षधर थे। मनुष्यराधा के जीवन का कुछ अंश व्यक्तिगत होता है, लेकिन बहुत सा अंश सामाजिक ही होता है। व्यक्तिगत अंश आकार में छोटा होता है, लेकिन गहराई ज्यादा होती है। 

    सामाजिक अंश का आकार बहुत बड़ा, लेकिन गहराई उतनी ही जितनी व्यक्तिगत जीवन की रहती है। कुछ महात्मां ऐसे भी होते हैं, जिन्होंने व्यक्तिगत जीवन की गहराई कुछ सामाजिक जीवन की गहराई से ज्यादा होती है। कैबिनेट मंत्री ने विनोबा सेवा आश्रम द्वारा चालीस में की गई तपस्या का भी जिक्र किया। उन्होने विनोबा के विचार गांव-गांव तक पहुंचाने का आवाहन किया।

    विशिष्ट अतिथि पूर्व सांसद एंव अखिल भारतीय हरिजन सेवक संघ के उपाध्यक्ष नरेश यादव ने अपने उद्ववोधन में कहा कि बाबा का ग्राम स्वराज्य ग्राम सशक्तीकरण महत्वपूर्ण है। उन्होंने आहवाहन किया कि हम सब गांव की तरफ लौटे और उसे बेहतर बनाने में अपना जीवन लगायें। गांव के बचने से देश और समाज बचेगा। उन्होने ग्राम स्वराज्य की कल्पना को मूर्त रूप देने का संकल्प यहीं से लेने का आवाहन किया।

    लखनऊ से पधारे संयुक्त सचिव सचिवालय प्रशासन और राष्ट्रीय युवा योजना के चिंतक अजय पाण्डेय ने कहा कि स्वामी विवेकानन्द ने पद यात्रा और विचार से देश और दुनिया को नई दिशा दी थी। उन्होंने इस अवसर पर रमेश की भूरी भूरी प्रसंशा करते हुए कहा कि बाबा के विचार और काम को सामान्य जन तक पहुंचा रहे हैं वह अतुलनीय है।

    विश्व युवक केन्द्र दिल्ली के मुख्य कार्यकारी अधिकारी उदय शंकर ने युवाओं का आवाहन गांधी विनोबा के पथ पर चलने के लिए किया। कहा कि आज युवा जिस दिशा में जा रहा उसे रचनात्मक कामों मे जोड़ने की आवश्यकता है। विनोबा सेवा आश्रम को युवाओं का रचनात्मक प्रशिक्षण केन्द्र बनाने की बकालत की तथा आज की आवश्यकता को देखते हुए पाठ्यक्रम बनाने का आश्वासन दिया।

    उर्मिला बहन सचिव सर्वोदय आश्रम हरदोई ने बाबा के जीवन पथ पर हम सबको मिलकर आगे चलने की बात कही। उन्होने विषय प्रवेश करते हुए बाबा के जीवन की छोटी छोटी घटनाओं के माध्यम से सबको अवगत कराया और प्रेरणा दी।

    कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए सेवाधाम आश्रम उज्जैन के संस्थापक सुधीर भाई गोयल ने कहा कि जिसने विनोबा को न देखा हो वह यहां आकर बाबा के कामों को देखकर शिक्षा गृहण करें। उन्होंने विनोबा के जीवन निर्माण में मां रूकमणि का स्थान सर्वोपरि बताया।

    ज्ञात है कि हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी 11 सितम्बर को विनोबा की 126वीं जन्मतोस्व कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें देश भर से 126 रचनात्मक संस्थाओं के प्रतिनिधि उपस्थित थे। आजादी के अमृत महोत्सव की बात रचनात्मक स्वैच्छिक संस्थाओं के साथ विषयक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। विनोबा जी के व्यक्त्वि और कृतृत्व की चर्चा सभी ने की। कार्यक्रम की अध्यक्षता उज्जैन सेवा धाम से पधारे सुधीर भाई गोयल ने की। आज सुबह आश्रम में सर्वधर्म प्रार्थना, साफ सफाई और श्रमदान कार्यक्रम में सभी द्वारा भाग लिया गया। सुबह 9 बजे से 11 बजे तक पवनार आश्रम द्वारा जन्मोत्सव का सीधा प्रसारण किया गया।

    इस अवसर पर विश्व युवक केन्द्र नई दिल्ली के मुख्य कार्यकारी अधिकारी उदय शंकर सिंह ने नन्हीं पहल कार्यक्रम के अन्तर्गत दिव्यांगजनों को फूड और सैनीटेशन किट वितरण कार्यक्रम का सुभारम्भ कराया। सभी विशिष्ट अतिथियों के कर कमलों से फूड और हाईजन किट दिव्यांगजनों को अर्पित किया गया । ज्ञात है कि विश्व युवक केन्द्र द्वारा देश के 25 राज्यों में यह नन्ही पहल इन्सीएटिव लिया गया है। अपने वक्तव्य में उदय शंकर सिंह ने बताया कि वह किस तरह बाबा के विचारों और कार्यों से प्रभावित होकर युवाओं के बीच काम कर रहे हैं। संजय राय ने महामहिम राज्यपाल उत्तर प्रदेश सरकार आनंदीबेन पटेल द्वारा प्रेषित शुभेच्छा संदेश को पढ़ कर सभी को सुनाया। साथ ही विनोबा विचार प्रवाह का संक्ष्पित प्रस्तुतीकरण दिया।

    इस अवसर वरिष्ठ अधिकारी डॉ. एके शुक्ला, जिला ग्रामोद्योग अधिकारी शाहजहांपुर, हरदोई के नवनीत गुप्ता, उपाध्यक्ष हरिजन सेवक संघ उत्तर प्रदेश, अवधेश मिश्रा, विशम्भर मलिक  राहुल और सिद्दी, पूना से पधारे कृष्णा सिरसार्थ उदयप्रताप सिंह, रविन्द्रपाल सिंह, डॉ आफताब अखतर ने अपनी बात रखी। और रमेश भइया को हम सब को प्रेरित करने और बाबा के विचारों से जोड़े रखने के लिए अभार व्यक्त किया। 

    कार्यक्रम में ओमकार मनीषी, डॉ सुरेश चन्द्र मिश्रा, लखनऊ के राहुल अग्रवाल, अमरीश सक्सेना, डॉ आफताब अखतर को सम्मानित भी किया। कार्यक्रम में सभी का स्वागत रमेश भइया तथा अन्त में विमला बहन सचिव विनोबा सेवा आश्रम ने उपस्थित जनो को आभार व्यक्त किया तथा संजय राय संचालन किया। शाम के सत्र में मुख्य अतिथि पूर्व मंत्री  अवधेश कुमार वर्मा ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि गांव का कल्याण तभी हो सकेगा। जब विनोबा का विचार गांव तक पहुंचेगा।


    फ़ैयाज़ उद्दीन साग़री
    Initiate News Agency (INA), शाहजहाँपुर

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.