Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    जंगली जानवर ने किसान के बकरे को बनाया निवाला, ग्रामीणों में दहशत कहीं तेंदुआ तो नहीं,

    जंगली जानवर ने किसान के बकरे को बनाया निवाला, ग्रामीणों में दहशत कहीं तेंदुआ तो नहीं, 

    फारेस्ट आफिसर ने कुत्ते प्रजाति के भेड़िए या लकड़बग्घा जानवर होने की बात कही, तो वहीं दूसरी ओर कासिमपुर थाना प्रभारी ने ग्रामीणों को सतर्क रहने की चेतावनी दी

    बेंहदर- हरदोई : एक किसान के बकरे को एक जंगली जानवर ने अपने मुंह का निवाला बना लिया। ग्रामीणों को लगता है। कि रात में तेंदुए ने आकर गांव में बकरे पर हमला किया है। घटना की सूचना मिलने पर घटनास्थल पर पहुंचे फारेस्ट आफिसर बृजेश सिंह ने तेंदुए की बात को नकारते हुए ग्रामीणों से कहा कि पैरों के निशानों से लगता है। कि कुत्ते प्रजाति के भेडिये या लकड़बग्घा ने किसान के बकरे पर हमला किया है। पदचिन्हों से पता चलता है। कि तेंदुए ने नहीं बल्कि किसी भेड़िए या लकड़बग्घा ने बकरे पर हमला किया है। थाना प्रभारी दीपक सिंह रघुवंशी ने घटनास्थल पर पहुंच कर घटनास्थल का निरीक्षण करते हुए ग्रामीणों से कहा कि आप लोग सावधान रहें। अपने घर से अकेले ना निकलें। और आप लोग सतर्क रहें। 
          बताते चलें कि कासिमपुर थाना क्षेत्र के बकिया खेड़ा में रात के करीब चार बजे के आस-पास सरवन पुत्र हरि प्रसाद किसान के बकरे के ऊपर एक जंगली जानवर ने हमला कर उसे मार दिया। सरवन ने बताया कि हमारा बकरा चार पांच जानवरों के बीच में बंधा था। सुबह करीब 4 बजे के आस-पास देखा तो हमारा बकरा गायब था। परिवार वालों के साथ हम लोगों ने गांव में काफी छानबीन की पर हमारे बकरे का पता नहीं चला। जब गांव के दक्षिण ओर जाकर देखा तो चंद्रपाल के खेत में बकरे का शव क्षत-विक्षत रूप में पड़ा मिला। गांव के ही चंद्रपाल ने बताया कि रात को जब हम खेत की रखवाली कर रहे थे। तो हमारे मक्के के खेत से एक जानवर जमीन से सटकर चल रहा था। हमने टार्च लगाकर देखा। पर वो खेत में घूमकर चला गया। और गांव के सरवन के बकरे की रस्सी काटकर उसे घसीटता हुआ गलियारें में ले जाकर उसे मारकर उसके पेट का मांस खा गया। सुबह करीब सात बजे के आस-पास गांव के ही मंजेश कुमार पुत्र छोटेलाल ने हमारे संवाददाता को फोन के माध्यम से घटना की जानकारी दी।  घटना की जानकारी मिलते ही हमारे संवाददाता ने थाना प्रभारी दीपक सिंह रघुवंशी को घटना की जानकारी दी।
         घटना की जानकारी मिलते ही कासिमपुर थाना प्रभारी दीपक सिंह रघुवंशी ने वन विभाग को सूचना दी। सूचना मिलने पर घटनास्थल पर पहुंचे फारेस्ट आफिसर बृजेश सिंह ने पदचिन्हों की पहचान की। जिसमें उन्होंने पाया कि यहां पर किसी कुत्ते प्रजाति के जानवर ने बकरे पर हमला किया है। तथा उन्होंने कहा कि पदचिन्हों से पता चलता है कि बकरे पर भेड़िए या लकड़बग्घे ने हमला किया है। तथा ग्रामीणों से कहा आप लोग एक दो दिन सतर्क रहें। और रात को देखते रहे कि कौन सा जानवर आता है। और सुबह 5 बजे के आस-पास उठकर घटनास्थल सहित अपने गांव के आसपास पैरों के निशान देखें। और हमें सूचित करें हम दिनांक 21 अगस्त को भी घटनास्थल के आसपास निरीक्षण करने आयेगें। तथा फारेस्ट आफिसर बृजेश सिंह ने बताया कि पदचिन्हों के निरीक्षण में पता चला है। कि यह निशान किसी कुत्ते प्रजाति के जानवर के लगते हैं। और पदचिन्हों से प्रतीत होता है। कि यहां पर भेड़िए या लकड़बग्घे ने घटना को अंजाम दिया है। तथा ग्रामीणों से कहा कि आप लोग सतर्क रहें। और दो तीन दिन तक सुबह उठकर आसपास जानवरों के पदचिन्हों को देखकर सूचना दें। जिससे हम जानवर का पता लगा सकें। कि इस घटना को भेड़िए या लकड़बग्घे के अलावा कहीं तेंदुआ ने तो अंजाम नहीं दिया।
    Initiate News Agency (INA NEWS)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.