Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    नैमिषारण्य में स्थित मारवाड़ी पंचायती धर्मशाला में वृद्धा आश्रम चलाने के नाम पर किया जा रहा अवैध कब्जा

    नैमिषारण्य में स्थित मारवाड़ी पंचायती धर्मशाला में वृद्धा आश्रम चलाने के नाम पर किया जा रहा अवैध कब्जा

    मिश्रित/सीतापुर- उत्तरप्रदेश : 88 हजार ऋषि-मुनियों की पावन तपो भूमि नैमिषारण्य में स्थित मारवाड़ी पंचायती धर्मशाला के प्रबंधक व संचालक आत्मप्रकाश मिश्र ने जिलाधिकारी को शिकायती पत्र देकर आरोप लगाया है कि जनपद के जेल रोड निवासी राजकुमार मुरारिका पुत्र स्व. शिवशंकर लाल मुरारिका के पूर्वजों द्वारा यात्रियों के ठहरने हेतु इस धर्मसाले का निर्माण कराया गया था । पूर्वजों के देहावसान के बाद से वह इस धर्मशाला के मालिक  है। उन्होंने इस धर्मशाला का प्रबंधक आत्मप्रकाश मिश्र को नियुक्त करते हुए संचालन करने का अधिकार दिया है। बीते कुछ समय पहले प्रबंधक ने धर्म कार्य हेतु कुछ दिनों के लिए इस धर्मशाला की इमांरत को सुशील चंद्र त्रिवेदी को वृद्धा आश्रम चलाने हेतु दे दिया था।

    आरोप है कि सुशील चंद्र त्रिवेदी उपरोक्त धर्मशाला को किराए पर दिखाकर प्रत्येक माह समाज कल्याण विभाग से सरकारी धन राशि प्राप्त करके गमन कर रहे है। जबकि धर्मशाला मासिक अथवा वार्षिक किराए से मुक्त है। किराए पर नहीं दिया जा सकता है। प्रबंधक का आरोप है कि सुशील चंद्र त्रिवेदी इस धर्मशाला की 150 वर्ष पुरानी इमारत में अनाधिकृत रूप से कब्जा करने का प्रयास कर रहे है । इमारत में तोड़ फोड़ कराकर क्षति पहुंचा रहे है। धर्मशाला के अंदर लगे सीसीटीवी कैमरे जान बूझकर क्षतिग्रस्त कर दिए है। जिससे प्रबंधक को जान माल का खतरा बना हुआ है । उन्होने जिलाधिकारी से धर्मशाला को शीघ्र कब्जा मुक्त कराने की मांग की थी परन्तु जिलाधिकारी द्वारा आरोपी के विरुध्द कोई कार्यवाही नही की गई इसलिए धर्मशाला के मालिक राजकुमार मुरारिका ने धर्मशाला को खाली कराने हेतु सिविल कोर्ट के अधिवक्ता दीपेंद्र सिंह से नोटिस जारी कराते हुए महामहिम राज्यपाल को मामले का शिकायती पत्र देकर धर्मशाला को अभिलंब खाली कराए जाने की मांग की है|

    संदीप चौरसिया, मिश्रित/सीतापुर- उत्तरप्रदेश
    INA NEWS(Initiate News Agency)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.