Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    शाहजहांपुर। रोजा थाना पुलिस ने नकली शराब बनाकर बेचने वाले गिरोह का किया खुलासा

    शाहजहांपुर। रौजा थाना पुलिस ने बीती शाम को आबकारी विभाग की टीम के साथ मुखबिर की सूचना पर रोजा रेलवे कालोनी मे पुराने खण्डर नुमा मकान में औचक छापेमारी कर अंशू, पवन कुमार उर्फ रवि, सोनू सिंह को अपमिश्रित नकली शराब बनाते हुए गिरफ्तार किया। वही मौके से 02 अभियुक्त भाग गए। पुलिस को मौके से अल्कोहल व स्प्रिट तथा यूरिया के मिश्रण से बनाई जा रही नकली 40 पेटी (1800 क्वार्टर) अवैध शराब सोल्जर ब्रान्ड, तीन ड्रमों मे लगभग 150 ली. रेक्टीफाईड स्प्रिट, एक जरीकेन मे लगभग 100 ली. अपमिश्रित शराब, एक प्लास्टिक के डब्बे मे लगभग 10 ली. बनी हुई अपमिश्रित शराब, 95 अदद नकली ढक्कन, 64 अदद नकली क्यू आर कोड, एक बोतल में लगभग 600 मी.ली. कैरेमेल कलर, सोल्जर के रैपर लगे 195 खाली क्वार्टर, एक बोरी मे लगभग 8 कि.ग्रा. यूरिया व एक बुलेट मोटरसाईकिल बिना नम्बर की बरामद की।

    पूछताछ–  

    थाना रोजा पुलिस के फोर्स तथा आबकारी टीम की संयुक्त छापेमारी की गयी तो रोजा रेलवे कालोनी मे स्थित एक पुराने खण्डहर मकान के अन्दर तीन व्यक्ति स्प्रिट, एल्कोहल तथा कलर व यूरिया के मिश्रण से नकली शराब बनाते हुए पकड़े गये । जो कि अपमिश्रण करके शराब को सोल्जर ब्रान्ड के क्वार्टर मे पैकिंग कर उन्हे शराब की पेटियों मे बन्द कर रहे थे । उक्त नकली शराब की मौके पर तैयार 40 पेटी जिनमे 1800 क्वार्टर बरामद हुआ। क्यू आर कोड चैक किया गया तो फर्जी पाया गया तथा क्वार्टर भी पुराने इस्तेमाली प्रतीत हुए । मौके पर दो व्यक्ति तैयार शराब की पेटियों को मोटरसाईकिल पर लाद कर सप्लाई करने जा रहे थे । 

    जो कि पुलिस पार्टी को देखकर अंधेरे का लाभ उठाकर भागने मे सफल रहे । मौके पर पकड़े गए उपरोक्त तीनो व्यक्तियों से पूछताछ मे बताया कि गिरोह का सरगना अंशू गुप्ता है जो कि अत्यन्त शातिर किस्म का अपराधी है तथा विगत कई वर्षों से अल्कोहल, यूरिया , स्प्रिट , थिनर व कलर द्वारा नकली मिश्रित शराब बनाई जा रही है । उक्त मिश्रित शराब को यह लोग सोल्जर ब्रान्ड के क्वार्टर मे भर कर असली के रूप मे बार कोड व रैपर लगाकर ढक्कन को सील किया जाता है तथा ठेकों से सोल्जर ब्रान्ड के गत्ते प्राप्त करके उन्ही गत्तों मे पैक कर गांव देहात मे बाजार से कम दाम पर (60-70 रू0 मे) बेंच दिया जाता है। 

    पूछताछ मे यह भी ज्ञात हुआ कि गिरोह का सरगना अंशू गुप्ता बदायूं से स्प्रिट, थिनर व कैमिकल आदि लाता है तथा फरार अभियुक्त जीतू नकली रैपर व बारकोड की व्यवस्था करता है। फरार रामजी गुप्ता गिरोह का फाइनेन्सर है जो कि काम मे पैसा इनवेस्ट करता है। सोनू ठेकों से इस्तेमाली क्वार्टर की व्यवस्था करता है जो कि 400 रू0 मे 1000 क्वार्टर बेंचता है। उल्लेखनीय यह भी है कि गिरोह के सदस्य अत्यन्त शातिर किस्म के हैं जनपद व अन्य सीमावर्ती जनपदों मे जगह बदल-बदल कर शराब बनाते हैं । 

    इसके लिये यह लोग प्रायः एकांत मे खाली पड़े खन्डहर मकान का चयन करते हैं और एक जगह पर मात्र एक ही बार काम करते हैं। उसके बाद ग्राहक तय होने पर अपना ठिकाना बदल देते हैं। इस प्रकार काफी समय से काम करने के बावजूद भी यह लोग कभी पकड़े नही गये । पूछताछ मे यह भी बताया कि 200 रू0 ली0 के हिसाब से कैमिकल खरीदते हैं और एक लीटर कैमिकल मे 5 क्वार्टर बनाते हैं। इस प्रकार प्रति लीटर लगभग 200 रू0 तक बचत होती है। 

    उल्लेखनीय यह भी है कि घटना मे संलिप्त सोनू सिंह व पवन उर्फ रवि शराब के ठेकों पर पूर्व मे सेल्समैन भी रह चुके हैं तभी इन्हे नकली शराब बनाने व विक्रय करने मे आसानी रहती है । बदायूं से कैमिकल सप्लाई करने वाले व्यक्ति के बारे मे विवरण इकट्ठा कर विधिक कार्यवाही की जायेगी। जबकि घटना मे फरार रामजी गुप्ता व जीतू की गिरफ्तारी  हेतु टीम रवाना है । 

    पुलिस ने आरोपियों विरुद्ध अभियोग पंजीकृत कर जेल भेज दिया। खुलासा करने बाली पुलिस टीम में जय शंकर सिंह रोजा प्रभारी, आबकारी निरीक्षक ज्ञान प्रकाश गुप्ता, व.उ.नि. सुदीश सिंह सिरोही, उ.नि. राजेश बाबू मिश्रा, उ.नि. नीरज कुमार सिह, हे.का. विजय सिंह, अजमेर सिंह, का. हर्ष मौजूद रहे।


    फ़ैयाज़ उद्दीन 

    Initiate News Agency(INA), शाहजहाँपर

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.