Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    बच्चों को मजबूत बनाएं , विटामिन ए पिलाएं:एडीएम

    बच्चों को मजबूत बनाएं , विटामिन ए पिलाएं:एडीएम

    • बच्चों को  निमोनिया और डायरिया से  लड़ने की ताकत देती है विटामिन-ए 
    • बाल स्वास्थ्य पोषण माह का हुआ शुभारंभ 

    शाहजहाँपुर- उत्तरप्रदेश : बाल स्वास्थ्य पोषण माह का शुभारंभ एडीएम प्रशासन रामसेवक दुवेदी द्वारा अजीजगंज रामलीला मैदान में आयोजित टीकाकरण सत्र पर बच्चों को विटामिन-ए की दवा पिलाकर एवं फीता काटकर किया गया l बाल स्वास्थ्य पोषण माह एक माह तक चलेगा| इस दौरान 9 माह से  5 वर्ष तक के बच्चों  को बुधवार, शनिवार को टीकाकरण सत्र पर नियमित टीकाकरण में मिजिल्स रूबेला का टीका लगवाने वाले बच्चों को  विटामिन-ए दवा भी पिलाई जाएगी|

    एडीएम प्रशासन रामसेवक दुवेदी ने कहा कि बाल स्वास्थ्य पोषण माह के दौरान जनपद के 9 माह से 5 वर्ष तक के शत प्रतिशत बच्चों को नियमित टीकाकरण के साथ विटामिन-ए की दवा अवश्य पिलाएं l विटामिन-ए की दवा   पिलाने से बच्चे की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है जिससे बच्चा डायरिया ,निमोनिया और रतौंधी जैसी गंभीर बीमारियों से लड़ने के लिए सशक्त और मजबूत हो जाता है l  कोरोना की तीसरी लहर को संज्ञान में रखते हुए बच्चों को सशक्त और मजबूत बनाएं हर बच्चे को विटामिन-ए की दवा पिलाएं|

    डॉ .पुष्पेंद्र कुमार जिला प्रतिरक्षण अधिकारी ने बताया कि बच्चों में विटामिन-ए की कमी से शरीर में  हल्‍की थकान, रूखी त्‍वचा, रैशेज, एक्‍ने, रूखे बाल, बाल झड़ने, बार-बार इंफेक्‍शन होना, एनीमिया का अधिक खतरा, धीमा विकास होना, गले और छाती में इंफेक्‍शन, घाव न भरने जैसे संकेत मिलते हैं। यदि गंभीर रूप से विटामिन-ए की कमी हो तो आंखों में धुंधलापन, तेज रोशनी से आंखें चुंधियाना, आंखों के सफेद हिस्‍सों पर पैचेज, रात में दिखाई न देना, आंखों में गंभीर रूप से ड्राईनेस जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। बच्‍चे में विटामिन-ए की कमी के संकेत दिखने पर बाल रोग चि‍कित्‍सक को दिखाएं। बच्‍चे को आप चिकित्सक की सलाह पर सप्‍लीमेंट भी दे सकते हैं। यदि डायट से बच्चों के आहार में विटामिन-ए की पूर्ति न हो पाए तो सप्‍लीमेंटस से इसे पूरा किया जा सकता है |

    डॉ.लक्ष्मण सिंह अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि बाल स्वास्थ्य पोषण माह  के तहत 9 माह से  5 वर्ष तक के बच्चों को मिजिल्स रूबेला टीकाकरण के साथ  टीकाकरण सत्र पर विटामिन-ए की दवा भी  पिलाई जाएगी| बाल स्वास्थ्य पोषण माह के दौरान जनपद के लगभग  4 लाख 39 हजार 902 बच्चों को विटामिन-ए की दवा पिलाने का लक्ष्य है। 9 माह से 12 माह तक के बच्चों को 1 लाख आई.यू (सूक्ष्म माप आधा चम्मच )तथा एक वर्ष से 5 वर्ष तक के बच्चों को 6 -6  माह के अंतराल 2 लाख आई.यू (सूक्ष्म माप 1 चम्मच ) अर्थात बच्चे को 9 माह से 5 वर्ष तक 9 बार मे  कुल 17 लाख  ई.यू विटामिन-ए  पिलाई जाती है|

     इस दौरान युगुल किशोर सांगुडी परियोजना अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग , डॉ .कुमार गुंजन एसएमओ डब्लूएचओ, हुदा जेहरा डीएमसी  यूनिसेफ, नवीन कुमार  वर्मा डीएफपीएस यूपीटीएसयू आदि लोग उपस्थित रहे|

    फ़ैयाज़ उद्दीन, शाहजहाँपुर- उत्तरप्रदेश
    INA NEWS(Initiate News Agency)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.