Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    शादी अनुदान और पारिवारिक लाभ योजना में घोटाले का मामला, जाँच में फर्जी लाभार्थी मिले

    शादी अनुदान और पारिवारिक लाभ योजना में घोटाले का मामला, जाँच में फर्जी लाभार्थी मिले

    कानपुर- उत्तरप्रदेश : उत्तर प्रदेश के कानपुर में शादी अनुदान और पारिवारिक लाभ योजना में घोटाला की खबर सामने आई थी. जिसमे करीब साढ़े छह करोड़ रुपये का फर्जीवाड़ा सामने आया है. शादी अनुदान योजना में, 1079 और पारिवारिक लाभ योजना में 1444 लाभार्थी जांच में फर्जी पाए गए थे. डीएम ने इस बाबत कार्रवाई के आदेश भी दिया था जांच टीम ने कई लेखपालों को इसमें सम्म्लित पाया है वही जिन लोगो ने इस योजना का लाभ उठाया है उनसे रिकवरी के लिए भी टीम बनाई जा रही है। वही जब योजना में बड़ा फर्जीवाड़ा पकड़ा गया तो ऊपर के अधिकारियों ने पात्रों को भी अपात्र घोषित कर दिया।

    कानपुर के नारामऊ ब्लॉक के गाँव होरा बांगर में रहने वाली महिला राम श्री को पारिवारिक लाभ योजना के तरह 30 हजार रुपये की रकम उसके बेटे के मरने पर लेखपाल द्वारा जांच के बाद राम श्री को दिए गए थे आपको बता दे कि राम श्री के पति एलिंको में चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी थे पति की मौत के बाद राम श्री को 1060 रुपये महीने पेंशन के रूप में मिल रहे है मगर घर की दयनीय हालात ठीक नही है जिसमे जांच के बाद लेखपाल को दोषी मानते हुए उसके ऊपर जांच बैठा दी गई है। जिससे साफ तौर पर ये भी कहा जा सकता है कि बड़े अधिकारियों को बचाने के लिए नीचे के अधिकारियों पर गाज गिराई जा रही है। वही निर्दोष लेखपाल को फसाने की कोशिश की जा रही है।जांच टीम ने लेखपाल प्रीति दीक्षित को भी निलंबित कर दिया है 

    दोनों योजनाओं में फर्जीवाड़ा..

    शादी अनुदान और पारिवारिक लाभ योजना के पैसों में खूब फर्जीवाड़ा हुआ है. दोनों योजनाओं के 2523 लाभार्थी फर्जी पाए गए हैं. राजस्व और समाज कल्याण विभाग के अधिकारियों की मिलीभगत से 6 करोड़ से ज्यादा इन अपात्रों को बांट दिए गए. इसका खुलासा 51 अफसरों की बनाई गई जांच कमेटी की रिपोर्ट में हुआ है. अब फर्जी तरीके से योजनाओं का लाभ पाने वाले इन 2523 लोगों से रिकवरी की योजना है. जांच कमेटी ने सत्यापन करने वाले अधिकारी और कर्मचारियों को अपनी पड़ताल में दोषी पाया है.


    डीएम ने दिए कार्रवाई के निर्देश...

    डीएम ने इस बाबत कार्रवाई के आदेश दिए हैं. सबसे बड़ा फर्जीवाड़ा कानपुर की सदर तहसील में हुआ. शादी अनुदान के नाम पर मिलने वाले 20 हजार रुपये और पारिवारिक लाभ योजना के तहत मिलने वाले 30 हजार रुपये पाने के लिए अपात्रों को अफसर और कर्मचारियों ने पात्र बता दिया


    जांच अफसरों की कमेटी में खुलासा...

    51 अफसरों की जांच कमेटी में खुलासा हुआ है कि 1076 शादी अनुदान और 1444 पारिवारिक लाभ योजना में फर्जी लाभार्थी पाए गए हैं. अफसरों और कर्मचारियों ने अपात्रों को पात्र बना दिया. जांच में सामने आया कि बिना शादी हुए ही शादी अनुदान दिया गया. परिवार में किसी की मौत नहीं हुई और बिना मौत के पारिवारिक लाभ मिला. जांच में कई लाभार्थियों के नाम पते भी गलत निकले हैं.

    वही जब इस मामले को लेकर हमारी टीम ने गांव जाकर जांच की और वहाँ के पूर्व प्रधान से बात की गई तो उनका कहना है कि महिला को सरकार द्वारा जो पारिवारिक लाभ योजना मिली है वो पूरी तरह से सही है क्योंकि बुजुर्ग महिला पात्र की श्रेणी में आती है और महिला की तबियत भी सही नही रहती है । वही परिवार कल्याण योजना का लाभ महिला को तब दिया गया जब उसके बेटे की मौत हो गई थी।

    इब्ने हसन ज़ैदी, कानपुर- उत्तरप्रदेश
    INA NEWS(Initiate News Agency) 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.