Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अयोध्या: आस्था का केंद्र विद्या कुंड अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रहा है

    अयोध्या: आस्था का केंद्र विद्या कुंड अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रहा है 

    अयोध्या - उत्तरप्रदेश : मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम की धर्मनगरी अयोध्या वर्तमान में अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति और विश्व के मानचित्र पर स्थापित करने के लिए मोदी और योगी सरकार कृत-संकल्पित है। अयोध्या का चतुर्दिश विकास किया जा रहा है। लेकिन दीपक तले अंधेरा की कहावत चरितार्थ हो रही है। अयोध्या में विद्या कुंड अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रहा है। प्रदेश में और केन्द्र में भाजपा सरकार ने अयोध्या के विकास को लेकर तमाम योजनायें लाने की घोषणा भी कर रखी है।

    अभी हाल ही में अयोध्या रामनगरी के कायाकल्प के लिए करोड़ों करोड़ रूपये के योजना की घोषणा की है। योगी सरकार अयोध्या के स्वरूप को बदलने की योजना बना रही है। अयोध्या की पहचान, रामनगरी की संस्कृति के द्योतक पैराणिक कुंड एवं प्राचीन स्थल उपेक्षा के शिकार बनकर रह गये हैं।

    मान्यता है कि इस कुंड के दर्शन व स्नान से संपूर्ण सिद्धियां सहज में ही प्राप्त होती है। विद्याकुंड अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रहा है। इस कुंड का पुराणों में वर्णन किया गया है। मान्यता है कि इस कुंड के दर्शन व स्नान से संपूर्ण सिद्धियां सहज में ही प्राप्त होती है। विद्याकुंड में स्नान करके विद्यादेवी के दर्शन का लाभ भी बताया गया है। विद्याकुंड पर इष्ट मंत्र का जप करना शीघ्र सिद्धिप्रद है। कुंड की परिक्रमा का भी महत्व बताया गया है। वर्तमान में यह कुंड उपेक्षा की नजीर बन गया है।घास,फूस,झाड झखाड के चलते  कुंड के आसपास गंदगी का साम्राज्य है। कई बार इस कुंड के सौन्दर्यीकरण की मांग उठायी गयी। इस कुंड का सौन्दर्यीकरण करा दिया जाये तो यह श्रद्धाकर्षण का केन्द्र बन सकता है। विद्या कुंड अयोध्या का प्रमुख स्थान है।ज्ञान की देवी विद्या का स्थान है जिसे उपेक्षा के जाल से बाहर निकलना होगा।

    देव बक्श वर्मा, अयोध्या - उत्तरप्रदेश
    INA NEWS(Initiate News Agency) 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.