Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अधिशासी अभियंता का नया कारनामा, मोबलाईजेशन एडवांस के नाम पर दिए लाखों रुपए

    अधिशासी अभियंता का नया कारनामा, मोबलाईजेशन एडवांस के नाम पर दिए लाखों रुपए

    सांसद के पत्र लिखने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं, आखिर कौन शह दे रहा है अधिशासी अभियंता को

    हरदोई : किसी न किसी कारनामे को लेकर चर्चा में रहने वाले लोक निर्माण विभाग खंड- 2 के अधिशासी अभियंता नीरज सिंह का एक बार फिर नया कारनामा सामने आया है। जिसमें उन्होंने फर्मों को मोबलाईजेशन एडवांस के नाम पर लाखों रुपए जारी कर दिए। असल में जिले के तीन मार्गों के लिए अधिशासी अभियंता ने दो फर्मों को बिना किसी बैंक गारंटी के करीब 30 लाख रुपए मोबलाईजेशन एडवांस के रूप में जारी कर दिए। इस संबंध में उनसे बात करने की कोशिश की गई लेकिन वे कार्यालय में उपस्थित नहीं मिले।

    इससे पहले भी विभाग के कर्मचारियों और ठेकेदारों से मानक से अधिक काम कराने व वर्षों का भुगतान करने के मामले को लेकर अधिशासी अभियंता चर्चा में रहे। शासन के निर्देश पर जिले के नौ मार्गों के लिए वित्तीय स्वीकृति दी गयी थी। इस बीच उत्त्तरदायी फर्मों ने मोबलाईजेशन एडवांस की मांग रख दी। जिसके लिए अधिशासी अभियंता ने बिना किसी बैंक गारंटी के ही फर्मों को रुपये जारी कर दिए। इन मार्गों में कोथावां-अतरौली से रामपुर, हरदोई-सकतपुर, नेकपुर-नेवादा, सांडी-अल्हागंज आदि शामिल हैं।

    ग्रामीण सड़क विकास अभिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने उक्त खंड को करीब 2,60,80,12,172 रुपए जारी किए। दूसरी तरफ, फर्मों द्वारा विभागीय कार्य पूर्ण न कर पाने की दशा में वसूली करने का कोई ठोस प्रावधान नहीं है। बता दें कि इस प्रकार के फंड जारी करने से पहले बैंक किसी ठोस गारंटी पर विचार करती है। फिर आखिर यह राशि क्यों और कैसे दे दी गयी।

    उधर, अधिशासी अभियंता नीरज सिंह की अनुशासनहीनता और विपरीत कार्यशैली को लेकर सांसद ने डिप्टी सीएम को पत्र लिखकर शिकायत कर कार्रवाई करने की मांग की थी लेकिन इस पर भी कोई सुनवाई नहीं हुई। भाजपा सांसद जयप्रकाश और हरदोई कॉन्ट्रैक्टर्स एसोसिएशन के पत्र पर कोई कार्रवाई न होना इस ओर इंगित करता है कि आखिर ऐसा कौन हुक्मरान है जिसकी शह इस अधिशासी अभियंता को मिली हुई है। इतने गलत काम करने के बावजूद भी आखिर इस अधिशासी अभियंता पर कार्रवाई क्यों नहीं हो रही है। अगर सरकार ऐसे भ्रष्ट अफसरों पर कोई सुनवाई नहीं करेगी तो विकास-तंत्र का पहिया टूटना तय है।

    INA NEWS(Initiate News Agency)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.