Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    एडीए हाइट्स काम्प्लेक्स पूरी तरह से मानकविहीन, 15% ग्रीन एरिया भी नहीं छोड़ा गया

    एडीए हाइट्स काम्प्लेक्स पूरी तरह से मानकविहीन, 15% ग्रीन एरिया भी नहीं छोड़ा गया

    • काम्प्लेक्स में अपर्याप्त और गैर कार्यात्मक (बारिश) वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगा हुआ है
    • 650 फ्लैट्स होने के बाद भी, काम्प्लेक्स में निवासियों के लिए कोई भी कम्युनिटी हॉल नहीं

    आगरा- उत्तरप्रदेश : एडीए हाइट्स काम्प्लेक्स पूरी तरह कानून का पालन ना करते हुए बनाया गया है. 15% ग्रीन एरिया भी नहीं छोड़ा गया है. सवाल यह है कि क्या अवैध कॉम्प्लेक्स में लोग रह रहे हैं? फ्लैट ओनर्स की समस्याओं का निवारण अभी तक नहीं हुआ है|

    यह एडीए हाइट्स का पूरा लेआउट प्लान है। एडीए ने सेंट्रल पार्क को ग्रीन एरिया के रूप में दावा किया है। एडीए यह दावा नहीं कर सकता कि यह बिल्डिंग बायलॉज के अनुसार ग्रीन एरिया है क्योंकि पार्क ग्राउंड पार्किंग के तहत ऊपर विकसित हुआ है।

    एडीए जो की आगरा शहर में भवन निर्माण में सरकार के मानकों, लॉ और बयलॉज को पूरी तरह कार्यान्वयन कराने के लिए है, खुद अपने मल्टी स्टोरी काम्प्लेक्स में उनकी धज्जियां उड़ा रही है. जो कष्टकारी और ग़ैरक़ानूनी है.

    एडीए ने एडीए हाइट्स में मानक के हिसाब से 15% ग्रीन एरिया छोड़ने का प्रावधान है, जो कि छोड़ा नहीं गया है. आज के परिवेश में ग्रीन एरिया बहुत जरुरी भी है. एडीए ने काम्प्लेक्स के पुरे लेआउट प्लान में सेंट्रल पार्क जोकि भूमिगत पार्किंग एरिया के ऊपर बना है, उसको ग्रीन एरिया दिखाया हुआ है|

    यह है रेन वाटर हार्वेस्टिंग पिट। एडीए हाइट्स में 32164 वर्ग मीटर भूमि क्षेत्र के लिए ऐसे दो वर्षा जल संचयन गड्ढे हैं। इसके अलावा ये दोनों गड्ढे काम नहीं कर रहे हैं और अपर्याप्त भी हैं।

    जो कि मानक के हिसाब 5640.80 sq मीटर होना चाहिए. काम्प्लेक्स में अपर्याप्त और गैर कार्यात्मक (बारिश) वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगा हुआ है. मौजूदा 32164.16 sq मीटर में नए ब्लाक के 312.88 sq mtr को छोड़ कर सिर्फ दो रेन वाटर हार्वेस्टिंग के रिचार्ज पिट हैं. जो कि अपर्याप्त और निष्क्रिय हैं.

     

    अचम्भे की बात है कि 650 फ्लैट्स होने के बाद भी, काम्प्लेक्स में निवासियों के लिए कोई भी कम्युनिटी हॉल नहीं है. मौजूदा ग्रीन एरिया भूमिगत पार्किंग के ऊपर बना है, जो सरकारी मानकों के हिसाब से अनुमन्य नहीं है.

    फाउंटेन के दोनों ओर रैंप मिलेगा

    फायर फाइटिंग सिस्टम भी गैर कार्यात्मक है. निवासियों को संशय है, कि फायर डिपार्टमेंट से इस का सर्टिफिकेट भी है या नहीं. टावर्स की लिफ्ट भी बड़ी समस्या हैं| रख रखाव ठीक नहीं है. जो मूलभूत जरुरत है, उसको भी मेंटेनेंस चार्ज लेने के बाद भी पूरा नहीं किया गया है.

    *********

    फ्लैट ओनर्स की ये मांगे हैं-

    1. IIT Roorke या किसी भी थर्ड पार्टी, जो कंस्ट्रक्शन क्षेत्र का अनुभव रखती हो, से इंस्पेक्शन करवाया जाये.

    2. जांच की रिपोर्ट आने के बाद टावर्स की मरम्मत करवाई जाये या फ्लैट ओनर्स को इस की भरपाई के लिए पैसे वापस करवाए जाएँ.

    3. फ्लैट बेचते समय जो कहा गया था,उन को सरकारी मानकों के अनुसार पूरा किया जाये.

    4. ग्रीन एरिया मानक के हिसाब से बनाया जाये. फायर फाइटिंग उपकरण ठीक करवाए जायें.

    5. कॉम्प्लेक्स को नगर निगम को हस्तांतरित किया जाये.

    INA NEWS(Initiate News Agency) 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.