Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    नगर पालिका के मुंह पर तमाचा लगा रहे समाजसेवी

    नगर पालिका के मुंह पर तमाचा लगा रहे समाजसेवी

    सम्भल- उत्तरप्रदेश : बदली फिजा तो खुद को बदलना पड़ा मुझे, बुझ गए चिराग तो जलना पड़ा मुझे। कोरोना महामारी के दौर में आज एक ऐसा ही काम जिला संघर्ष समिति के लोग बढ़-चढ़कर कर रहे हैं। हाथों में झाड़ू लेकर शहर की सड़कों पर निकलकर लोगों को बीमारी से बचाने के लिए सफाई अभियान चलाते यह समाजसेवी जनता की सेवा के लिए भीषण गर्मी में जनता के लिए समर्पित हैं। जगह जगह गंदगी की सफाई करते हुए नगर पालिका के मुंह पर तमाचा लगा रहे हैं।

    नगर पालिका ने स्वास्थ्य भारत की कल्पना को साकार करने का निर्णय लिया था, जो आज की तारीख में हवा हवाई साबित हो चुका है। इन दिनों सफाई के लिए समाजसेवियों के हाथों में झाड़ू और फावड़ा दिखाई देने लगा है। सम्भल में एक ऐसी ही तस्वीर देखने को मिली, जिला संघर्ष समिति के पदाधिकारियों में सफाई अभियान को लेकर अजीब सा जुनून देखने को मिल रहा है।

    नगर में सड़कों के किनारे कचरों का अंबार फैला हुआ है। लेकिन नगर पालिका परिषद ने सफाई अभियान को लेकर जितने भी वायदे किये गये सभी ने दम तोड़ दिया और गंदगी के साम्राज्य ने मानो अपना साम्राज्य फिर कायम कर लिया है। सम्भल में आज भी गंदगी का साम्राज्य है और नालियों बजबजा रही है। नगर में स्वच्छता अभियान की पोल सड़क और नालियों के अलावा जमा कूड़े कचरे के ढेर को देखने से पता लग रही है। गलियों और मुहल्ले की बात कौन करे सभी जगह की लगभग वही स्थिति है।

    इस स्थिति को देखते हुए जिला संघर्ष समिति के कार्यकर्ताओं ने बीड़ा उठाया है। जिला संघर्ष समिति के कार्यकर्ता हाथों में झाड़ू व फावड़ा लेकर सड़कों पर गंदगी को साफ करते नजर आ रहे हैं। उनका कहना है कि तमाम शिकायत करने के बाद भी नगर पालिका परिषद इस और कोई सुध नहीं लेती है। अब देखना यह होगा कि इस तमाचे को नगर पालिका की चेयरमैन किस तरह सहन करती हैं।

    उवैश दानिश, सम्भल- उत्तरप्रदेश 
    INA NEWS(Initiate News Agency)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.