Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कांग्रेस के पार्षदों को निगम के महापौर एवं प्रदेश सरकार पर भरोसा नहीं

    कांग्रेस के पार्षदों को निगम के महापौर एवं प्रदेश सरकार पर भरोसा नहीं

    गौरव पथ का गड्ढा भरने एवं दुकानों की जांच करने के लिए निगम आयुक्त को ज्ञापन सौंपा - शिव वर्मा

    राजनांदगांव- छत्तीसगढ़ : पार्षद दल के प्रवक्ता पूर्व निगम अध्यक्ष शिव वर्मा ने कहां की निगम की सत्ता में बैठे कांग्रेस के महापौर पर कांग्रेस के पार्षदों को ही भरोसा नहीं है। इसलिए जनता के हित में कांग्रेस पार्षदों ने गौरव पथ का गड्ढा भरने निगम आयुक्त को ज्ञापन सौंपा। तथा प्रदेश के सत्ता में बैठे प्रदेश के मुख्यमंत्री को गौरव पथ की दुर्दशा पर सरकार को आईना दिखाया। कांग्रेस के पार्षद बधाई के पात्र हैं। पार्षदों को यह नहीं मालूम कि निगम एक्ट में महापौर का अधिकार क्या है। जबकि महापौर शहर का प्रथम नागरिक हैं।

    वर्मा ने कहा कांग्रेस पार्षदों को ऐसा लगता है कि वे निगम के सत्ता में नहीं है। इसलिए वे कांग्रेस महापौर को ज्ञापन सौंपने के बजाय कांग्रेसी पार्षदों को निगम आयुक्त पर विश्वास करके उन्हें ज्ञापन दिया गया। तथा महापौर को प्रतिलिपि दिया गया। वर्मा ने पूर्व महापौर को बधाई देते हुए कहा कि उन्होंने अपने कार्यकाल में शिक्षित बेरोजगार जरूरतमंद ऐसे लोगों के प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री से चर्चा कर  मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना के अंतर्गत 200 दुकानों की स्वीकृति करा कर अलग-अलग क्षेत्रों में दुकानों का निर्माण कर गरीबों को दुकान दिया गया है। उन्होंने कहा कि अगर कांग्रेस पार्षद को लगता है कि पूर्व महापौर के द्वारा दुकान आवंटन गलत है। तो वे सीधे महापौर से भी बात कर सकते थे फाइल देख सकते थे। कांग्रेस पार्षदों को इसके लिए नाटक नौटंकी कर दुकानों की जांच, गौरव पथ के गड्ढे के लिए निगम आयुक्त को ज्ञापन देना क्या कांग्रेश के पार्षद महापौर का बचाव करना चाहते हैं। इससे साबित होता है कि महापौर गौरव पथ के गड्ढे ही नहीं शहर के अन्य हिस्सों में सड़क का गड्ढा को भर पाने में समर्थ नहीं है।

    वर्मा ने कांग्रेसी पार्षदों से कहा कि प्रदेश में आप की सरकार है तथा आप गरीबों के इतने हितेषी है तो पूर्व महापौर ने 200 दुकान बनवाया आप उसके आधा ही बनवा दो ताकि गरीबों का भला हो सके। महापौर ने अपनी बचाव के लिए पार्षदों के द्वारा ज्ञापन दे रहे हैं। महापौर खुद अधिकारी को बुलाकर निर्देशित करता की गौरव पथका निर्माण किस ठेकेदार के द्वारा किए गए तथा कितने साल तक उनकी देखरेख में हैं उनकी एफडी मनी कितना निगम में जमा है। इसकी चर्चा करने के बजाए। आयुक्त को कांग्रेस पार्षदों के द्वारा ज्ञापन दिलना महापौर की नाकामी है।

    हेमंत वर्मा, राजनांदगांव- छत्तीसगढ़
    INA NEWS(Initiate News Agency)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.