Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अयोध्या में बहुत जल्द बहुरेंगे प्रभातनगर- इसौली मार्ग के दिन

    अयोध्या में बहुत जल्द बहुरेंगे प्रभातनगर- इसौली मार्ग के दिन

    सड़क और नाली किसी भी क्षेत्र के विकास की निशानी होती है

    अयोध्या - उत्तरप्रदेश : किसी भी क्षेत्र को देखें तो उसे देखने से ही पता चल जाता है कि क्षेत्र का विकास कितना हो रहा है सड़क नाली और बिजली जिस क्षेत्र में पर्याप्त मात्रा में साफ-सुथरी दिखाई पड़ती है। समझो उस क्षेत्र का विकास हुआ है। किन्तु जहां पर सड़कों का अभाव है, नाली का भाव है, बिजली का भाव है तो वह क्षेत्र पिछड़े हुए क्षेत्र में माने जाते हैं। अयोध्या जनपद की दो सड़कों को प्रमुख जिला मार्ग घोषित किया गया है। इन सड़को का निर्माण होने से यात्रियों को आवागमन की बेहतर सुविधा प्राप्त होगी। खजुरहट, मिल्कीपुर, अमानीगंज, रुदौली, रौजागांव फोरलेन तक 53.9 किमी व प्रभातनगर, शाहगंज, इसौली, अलीगंज देहली 52.1 किमी को प्रमुख जिला मार्ग घोषित किया गया है। इन सड़कों के बेहतर होने से क्षेत्र का विकास होगा। सड़कें किसी क्षेत्र के विकास का पैमाना होती हैं। सड़कों के बेहतर होने से क्षेत्र का चौमुखी विकास होता है। गांवों से मुख्यमार्ग तक बेहतर परिवाहन सुविधा प्रदान करने के लिए जरूरत हैं। जिससे गांवों की अर्थव्यवस्था का आधार काफी मजबूत होगा।  योजनाओं की श्रंखलाओं के माध्यम से अयोध्या का सर्वांगीण विकास किया जा रहा है।

    वहीं क्षेत्रीय लोगों का कहना है कि तीन जिलों को जोड़ने वाले हैरिंग्टनगंज -प्रभातनगर मार्ग की हालत हमेशा जर्जर ही रहती है। कायदे से इस मार्ग को टू-लेन होना चाहिए। लेकिन दुर्भाग्य है कि इसे जिम्मेदार चलने लायक भी नहीं बना पा रहे हैं। विधानसभा बीकापुर और मिल्कीपुर के बीच से निकलने वाला प्रभात नगर- इसौली मार्ग पर चलना दुर्घटना को निमंत्रण देने जैसा है।रेवतीगंज से तीन किलोमीटर उत्तर परसौली गांव के पास और शाहगंज बाजार के दक्षिणी छोर पर तथा बाजार के उत्तरी छोर बैंक ऑफ बड़ौदा शाखा के सामने रोड की हालत इतनी खराब हो गई है कि इस मार्ग से राहगीरों को निकलना काफी मुश्किल भरा काम है। कुछ दिनों पूर्व तो इस मार्ग की हालत इतनी खराब थी कि बाइक सवार उसी कीचड़ और गिट्टी में गिरकर लहूलुहान होकर कीचड़ और पानी में सराबोर हो जाते थे। कई लोग तो अब तक बुरी तरह गिरकर जख्मी हो चुके हैं। ऐसे में आप अंदाजा लगा सकते हैं कि इस मार्ग पर चलना खतरों से खेलने जैसा ही है। लेकिन इसके बावजूद भी इन क्षेत्रों के जनप्रतिनिधि और जिम्मेदार अधिकारी इस रोड की दुर्दशा से मुंह फेरे हुए ही दिखे थे। कारण क्या है ?, लेकिन जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों की उदासीनता का खामियाजा जनता को जरूर भुगतना पड़ रहा है। इस मार्ग को दुरुस्त कराने के बाबत हैरिंग्टनगंज के तत्कालीन जिला पंचायत सदस्य विनय कुमार सिंह ने भी इस मार्ग के दुरुस्तीकरण के लिए कई बार मांग किया गया था। शाहगंज- परसौली और उमरपुर मार्ग की बदहाली की समस्या की ओर भी इंगित किया है। इसके अलावा सोशल मीडिया पर  युवाओं ने मार्ग के दुरुस्तीकरण की आवाज उठाई। लेकिन इसके बावजूद कोई भी अधिकारी इस मार्ग की दुर्दशा पर नजरें इनायत करने को तैयार नहीं हुआ। इस रोड पर बड़े-बड़े गड्ढे होने की वजह से लोगों की गाड़ियां खराब होती रही। कई राहगीर गिर कर काफी चोटिल हो चुके हैं। कई का तो हाथ पैर भी फैक्चर हो चुका है। जरा सी बरसात हो जाए तो परसौली और शाहगंज बाजार में बाइक सवारों को भी निकलना टेढ़ी खीर हो जाता है। ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है कि इस रास्ते पर चलने वाले साइकिल सवार को कितनी दिक्कत झेलनी पड़ती होगी। अब आम लोगों को यह लग रहा है कि आने वाले दिनों में इस मार के दिन भरेंगे तो स्थानीय लोगों को भी सुविधा मिलेगी।

    देव बक्श वर्मा, अयोध्या - उत्तरप्रदेश
    INA NEWS(Initiate News Agency) 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.