Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    जिला चिकित्सालय के पास नही है पीआईसीयू का इंतेजाम

    जिला चिकित्सालय के पास नही है पीआईसीयू का इंतेजाम

    कोरोना की तैयारी लहर से है बच्चों को ज्यादा खतरा, सवा लाख बच्चों की जान लगी दांव पर

    बैतूल- मध्यप्रदेश : मध्यप्रदेश के बैतूल में जिला चिकित्सालय के पास बच्चों के लिए पीआईसीयू का कोई इंतेजाम नही है और ऐसे में कोरोना की तीसरी लहर को लेकर अनेक कुशंकाएँ है। खासतौर पर इसमे बच्चो के प्रभावित होने की आशंका व्यक्त की जाती रही है। ऐसे में इससे निपटने की तैयारियो पर दावे और वादे भी सामने आते रहे है।

    लेकिन जमीनी हकीकत इससे अलग है। बैतूल में इससे बचने न तो पीआईसीयू है और न कोई जरूरी इंतेजाम ।ऐसे में एक लाख 30 हजार नौनिहालों का भविष्य दांव पर लगा हुआ है। बैतूल जिले में 0 से 6 साल की उम्र के  एक लाख 30 हजार बच्चे है।

    लेकिन उन पर एक भी पीआईसीयू नही है। यहां तक कि निजी क्षेत्र में भी इसकी कोई व्यवस्था नही है। इसके लिए या तो 200 किमी दूर भोपाल या फिर इतनी ही दूर नागपुर में व्यवस्थाएं है। ऐसे में जब सरकार थर्ड वेव से निपटने की तैयारियां करने का दावा कर रही है।

    डॉ. नितिन देशमुख

    पीडियाट्रिक ICU का न होना बड़ा सवाल पैदा कर रहा है। शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ नितिन देशमुख की माने तो तीसरी लहर अगर आती है तो यह खासतौर पर बच्चो पर असर डाल सकती है।ऐसे में सांस लेने तकलीफ जैसी समस्याएं सामने आती है। जिसके लिए पीडियाट्रिक आई सी यू की बेहद जरूरत है।क्योंकि बच्चे जितनी जल्दी गंभीर स्तिथि में पहुच जाते है। उतने ही जल्दी रिकवर भी करते है।

    डॉ. अशोक बारंगा

    लेकिन जरूरी यही है कि उन्हें रिकवरी के लिए आवश्यक संसाधन मिले। लेकिन बैतूल में यह उपलब्ध नही है। इसके लिए 200 किमी दूर नागपुर या भोपाल कर अस्पतालों पर निर्भरता है। गंभीर होने पर अगर समय पर पीआईसीयू नही मिला तो यह मौत का कारण भी बन सकता है।

    इधर जिला अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ अशोक बारंगा का कहना है कि उनके पास वयस्को के लिहाज से तो आईसीयू है।लेकिन बच्चो के लिए कोई व्यवस्था नही है।चूंकि बच्चो के पीआईसीयू में हर उपकरण बच्चो के डील डौल के लिहाज से होता है। शासन ने उनसे जानकारी मांगी है कि यहां क्या व्यवस्था या उपकरण है। लेकिन हमारे पास न कोई व्यवस्था है और न उपकरण। जैसे ही शासन से उपकरण प्राप्त होते है।हम पीआईसीयू बनाकर चलाने की स्तिथि में होंगे।

    शशांक सोनकपुरिया, बैतूल- मध्यप्रदेश
    INA NEWS(Initiate News Agency)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.