Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    बीट सिपाही की संदिग्ध परिस्थितियों में अपनी ही सर्विस रिवाल्वर से गोली लगने से हुई मौत

    बीट सिपाही की संदिग्ध परिस्थितियों में अपनी ही सर्विस रिवाल्वर से गोली लगने से हुई मौत

    देवबंद/सहारनपुर उत्तरप्रदेश : भायला पुलिस चौकी पर तैनात बीट सिपाही की संदिग्ध परिस्थितियों में अपनी ही सर्विस रिवाल्वर से गोली लगने से मौत हो गई। जिस समय सिपाही की मौत हुई, वह परिवार के साथ अपने घर पर ही मौजूद था। सिपाही की मौत की सूचना मिलने पर अधिकारियों में हड़कंप मच गया। पुलिस ने प्रथम दृष्टया आत्महत्या मामला मान कर जांच कर रही है। जानकारी मिलने पर एसपी देहात अतुल शर्मा भी देवबंद पहुंच गए थे।

    बागपत जनपद में पड़ने वाले छपरौली के बदरखां गांव निवासी धीरज चौधरी पुत्र धर्मपाल सिंह बीए तक पढ़ाई पूरी करने के बाद वर्ष 2011 में पुलिस में भर्ती हुए थे। कोतवाली नगर सहारनपुर से 19 जनवरी 2021 को धीरज को देवबंद थाना में भेजा गया था। वर्तमान में वह भायला पुलिस चौकी पर तैनात थे, और पत्नी व पांच वर्षीय बेटी के साथ नगर की विवेक विहार कालोनी में मकान किराये पर लेकर रह रहे थे। बृहस्पतिवार की शाम धीरज कुमार की संदिग्ध परिस्थितियों में अपनी ही सर्विस रिवाल्वर से गोली लगने से मौत हो गई। गोली की आवाज सुनकर आस पडोस के लोग दौड़कर वहां पहुंचे तो धीरज लहुलुहान फर्श पर पड़े थे।

    गोली मुहं के जबड़े से होते हुए सिर के आरपार लगी हुई थी। मौके ही दो खाली खोखे भी पड़े हुए थे। सूचना मिलने पर सीओ रजनीश कुमार उपाध्याय और इंस्पेक्टर अशोक सोलंकी मौके पर पहुंचे और सिपाही को उठाकर सरकारी अस्पताल ले गए। जहां चिकित्सकों ने जांच के बाद उन्हें मृत घोषित कर दिया। सीओ रजनीश कुमार उपाध्याय का कहना है कि प्रथम दृष्टिया मामला आत्महत्या का लग रहा है। मामले की जांच शुरु कर दी गई है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। वहीं, धीरज की अचानक हुई मौत से उनकी पत्नी सदमे में है। जबकि उनकी पांच वर्षीय बेटी को आस पडोस के लोग संभाल रहे हैं। 

    **********

    धीरज मुझे बता रहे थे गोली कैसे चलती है...

    अस्पताल में बदहवाल हालत में बैठे सिपाही धीरज कुमार की पत्नी रोते हुए कह रही थी की धीरज उसे गोली किस तरह चलती है यह बता रहे थे। अचानक तेज आवाज हुई और धीरज फर्श पर पड़े हुए दिखाई दिए। जिस समय गोली चली उस समय पांच वर्षीय बेटी भी धीरज के पास बैठी खिलौनों से खेल रही थी।

    सिपाही धीरज कुमार बेहद खुशमिजाज थे। हर दिन वह कोतवाली के सामने एक चाय की दुकान पर बैठकर चाय पीते थे। उनके आसपास रहने वाले लोग बताते हैं कि धीरज चाय पीते समय कभी चुटकुले तो कभी इस तरह की बात करते थे कि सभी हंसकर लोटपोट हो जाते थे।

    शिबली इक़बाल, देवबंद/सहारनपुर उत्तरप्रदेश
    INA NEWS(Initiate News Agency)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.