Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    शादी अनुदान योजना समिति की बैठक सांसद की मौजूदगी में संपन्न

    शादी अनुदान योजना समिति की बैठक सांसद की मौजूदगी में संपन्न

    योजना का व्यापक प्रचार - प्रसार की आवश्यकता- राजेश वर्मा

    सीतापुरउत्तरप्रदेश : शादी अनुदान योजनान्तर्गत जनपद स्तर पर स्वीकृत समिति की बैठक विकास भवन सभागार, सीतापुर में आहूत की गयी। बैठक में अन्य पिछड़ा वर्ग की संसदीय समिति के चेयरमैन सांसद सीतापुर  राजेश वर्मा ने शादी अनुदान योजना के व्यापक प्रचार-प्रसार पर जोर दिया। समिति के उपाध्यक्ष, जनपद के मुख्य विकास अधिकारी अक्षत वर्मा ने सांसद एवं अन्य विधायकगण का स्वागत करते हुए समिति की बैठक का संचालन सदस्य सचिव, जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी, सीतापुर रवि शंकर गिरि को करने के लिए आदेशित किया। सदस्य सचिव, जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी रवि शंकर गिरि द्वारा शादी अनुदान की पात्रता, शादी अनुदान हेतु आवश्यक सलंग्नक पत्रालेख जैसे कि आय प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र, उम्र प्रमाण पत्र आदि शासनादेश के प्राविधान समिति के सदस्यों के सामने प्रस्तुत किये। जिसमें पिछड़ा वर्ग (अल्पसंख्यक पिछड़े वर्ग को छोड़कर) शादी अनुदान की पात्रता के अनुसार आवेदक की आय शहरी क्षेत्र हेतु रू0 56,480/-तथा ग्रामीण क्षेत्र हेतु रू0 46,080/- प्रतिवर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए। वृद्धावस्था पेंशन, निराश्रित विधवा पेंशन, विकलांग पेंशन तथा समाजवादी पेंशन पाने वाले आवेदको को आय प्रमाण पत्र की आवश्यकता नही होगी। विवाह हेतु किये गये आवेदन में पुत्री की आयु शादी की तिथि को 18 वर्ष या इससे अधिक होनी अनिवार्य है। पति की मृत्यु के उपरान्त निराश्रित महिला अथवा विकलांग आवेदक को वरीयता प्रदान की जायेगी। एक परिवार से अधिकतम 02 पुत्रियों की शादी हेतु अनुदान अनुमन्य होगा। 

    सदस्य सचिव, जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी, सीतापुर  रवि शंकर गिरि द्वारा यह भी अवगत कराया गया है कि शादी अनुदान योजना प्रथम आवत-प्रथम पावत के सिद्धान्त से लाभार्थियों को शादी अनुदान के लाभ से लाभान्वित कराया जाता है। इस योजना का लाभ लेने हेतु आवेदक शादी की तिथि से 90 दिन पूर्व तथा 90 दिन बाद आवेदन कर सकता है तथा सत्यापन की प्रक्रिया सम्बन्धित खण्ड विकास अधिकारी/उपजिलाधिकारी के स्तर से की जाती है। सदस्य सचिव, जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी, सीतापुर  रवि शंकर गिरि द्वारा यह भी बताया गया कि पति की मृत्यु के उपरान्त निराश्रित महिला अथवा विकलांग आवेदक को वरीयता देने का प्राविधान शासनादेश के अनुसार है।

    जिलाधिकारी/मुख्य विकास अधिकारी, सीतापुर के मार्गदशन में जनपद सीतापुर का वित्तीय वर्ष 2020-21 के लाभ हेतु अन्य पिछड़ा वर्ग (अल्पंसख्यक पिछड़े वर्ग को छोड़कर) आवंटित बजट का शतप्रतिशत लक्ष्य को पूर्ण किया गया तथा जनपद सीतापुर टॉप 10 में रहा। बैठक के दौरान सांसद सीतापुर  राजेश वर्मा, मुख्य विकास अधिकारी अक्षत वर्मा, जिलाध्यक्ष  अचिन मेहरोत्रा, जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी रवि शंकर गिरि सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

    शरद कपूर,  सीतापुरउत्तरप्रदेश
    INA NEWS(Initiate News Agency)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.