Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    प्रेमी युगल को पुलिस और बीजेपी नेता से जान का खतरा, प्यार में रोड़ा बनी बिरादरी

    प्रेमी युगल को पुलिस और बीजेपी नेता से जान का खतरा, प्यार में रोड़ा बनी बिरादरी

    शादी के बाद फरार रहने को मजबूर, मुख्यमंत्री से लगाई गुहार, प्रेमी युगल का वीडियो वायरल

    कानपुर- उत्तरप्रदेश : ये इश्क नही आसान बस इतना समझ लीजिए ,एक आग का दरिया है और डूब के जाना है। दुनियां की तारिख शाहीद की मोहब्बत करने वालों को एक होने के लिए लाखों जतन करने पड़ते है और जान का जोखिम भी उठाना पड़ता है, इश्क जब जात बिरादरी की दहलीज पर करता है तो उसके जान के दुश्मन भी तमाम होते है कुछ ऐसा हुआ है कानपुर देहात में ।

    इस तस्वीर में दूल्हा और दुल्हन बने इस जोड़े को मोहब्बत करना इनकी मौत का सबब बन गया है ये कहानी कानपुर देहात की है जहां एक ही गांव में रहने वाले उमाकांत और शानु एक दुसरे को बे इन्तेहाँ प्यार करने लगे और प्यार जब परवान चढ़ा तो शादी में बदल गया दोनों ने साथ जीने और मरने का इरादा कर लिया ,शादी कानपुर के एक आर्यसमाज मंदिर में हुई और कानपुर कचहरी परिसर में शादी को रजिस्टर भी कराया गया । लेकिन जैसे ही इसकी खबर गांव में लगी तो मानो लड़के और लड़की के ऊपर मौत मंडराने लगी दरअसल गांव में उमाकान्त और शानु की शादी के आगे उनकी जात आ गई ,एक दूसरे के साथ उम्र भर साथ रहने वाले ये प्रेमी अब मौत के डर से दर बदर भटक रहे है

    ******************

    प्रेमी युगल का वायरल वीडियो...

    प्रेमी जोड़े के वायरल वीडियो ने उनके इस डर के पीछे की कहानी खोल कर रख दी| वीडियो में ये जोड़ा पहले तो अपने अपने परिवार पर ही उंगली उठा रहे है कि उनका परिवार उन दोनों की हत्या करा सकता है हालाकि 400 परिवारों का ये गान जिसमे सिर्फ  396 परिवार ऊंची जाति के है जिस जाति की लड़की है बाकी के 4 परिवार दलित समुदाय के है जिसमे से एक घर मे उमाकान्त रहता हैबात साफ है कि विरोध किस बात का है । अब सुनिए आगे की कहानी जिसमे इस जोड़े ने कानपुर देहात की पुलिस  की कार्य शैली और उनकी सांठ गांठ की बात बोली है इसके बाद उन्होंने अपनी जान के खतरे को लेकर बीजेपी के किसी नेता का भी ज़िक्र कर डाला है हालांकि की पुलिस ने लड़के के ऊपर मुकदमा दर्ज कर दिया है और इस प्रकरण में लड़के के चाचा को 2 दिन से थाने में बैठा रखा है। अंर्तजाति विवाह भले ही समाज के कुछ हिस्से में अभी भी गलत माना जाता हो लेकिन हमारा कानून इसे पूरी तरह से इजाज़त देता है लेकिन जब कानून के रखवालों पर आरोप लगने लगे तो कोई क्या करे अब देखना है कि मौत के साये से भागते ये दोनों अपने गांव कैसे आएंगे।

    इब्ने हसन जैदी, कानपुर- उत्तरप्रदेश
    INA NEWS(Initiate News Agency) 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.