Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    सुरक्षा की मांग को लेकर देशव्यापी विरोध प्रदर्शन करेंगे डॉक्टर

    सुरक्षा की मांग को लेकर देशव्यापी विरोध प्रदर्शन करेंगे डॉक्टर

    आईएमए के पदाधिकारियों ने प्रेसवार्ता कर पत्रकारों को दी जानकारी

    शाहजहाँपुर- उत्तरप्रदेश : डॉक्टरों के साथ देश के अंदर हो रही हिंसा की घटनाओं को लेकर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन द्वारा आज 15 जून को नेशनल डिमांड डे का आयोजन कर पत्रकारों से वार्ता करते हुए कहा के पूरे देश में डॉक्टरों के साथ हिंसा की जो घटनाएं घट रही हैं उसके विरुद्ध आई एम ए श्वेत पत्र जारी करेगा और 18 जून को देशव्यापी विरोध प्रदर्शन दिवस मनाते हुए सभी डॉक्टर्स व स्वास्थ्य कर्मी काली पट्टी बांधकर विरोध प्रदर्शन करेंगे 14 जून को आई एम ए की वर्चुअल मीटिंग में लिए गए निर्णय के अनुसार आज पत्रकार वार्ता में जनपद के आईएमए अध्यक्ष डॉ बृजेंद्र सक्सेना सेक्रेटरी डॉ दीपा दीक्षित कोषाध्यक्ष डॉक्टर आनंद अग्रवाल सहित डॉक्टर संजीव कनौजिया डॉ पवन अग्रवाल डॉक्टर वसीम उल्ला खान डॉक्टर नीरज ने बताया कि आज के समय में चिकित्सा पेशा से जुड़े लोग सुरक्षित नहीं है  तनाव में रहकर डॉक्टर आखिर इलाज कैसे कर सकता है सरकार द्वारा एमबीबीएस करने के बाद सबसे पहले देहात में सेवा करने का जो फरमान जारी किया है मैं पैसे के लिहाज से तो सही है लेकिन दूरदराज देहाती क्षेत्रों में डॉक्टर की सुरक्षा की क्या गारंटी है आए दिन डाक्टरों पर हमले हो रहे हैं सरकार बिल्कुल ध्यान नहीं दे रही है सरकार की नीतियों के चलते आज देश में नर्सिंग स्टाफ पैरामेडिकल स्टाफ की भारी कमी है आवश्यकता के हिसाब से डॉक्टरों की भी कमी है लेकिन सरकार चिकित्सा की ओर बिल्कुल ध्यान नहीं दे रही है|

    सरकार की गलतियों का खामियाजा चिकित्सा कर्मियों को भुगतना पड़ रहा है आए दिन डॉक्टरों पर हमले हो रहे हैं ऐसी स्थिति में डॉक्टर रोगियों को यह जानते हुए भी कि वह बचाया जा सकता है अपनी सुरक्षा को देखते हुए उसे बाहर के लिए रेफर करने पर मजबूर हो रहे हैं डॉ पवन अग्रवाल ने हाल ही में असम के अंदर डॉक्टर पर हुए हमले का उदाहरण देते हुए कहा कि वहां पर सरकार ने 24 घंटे के अंदर आरोपियों को गिरफ्तार कर डॉक्टर को सुरक्षा प्रदान की उसकी सराहना करते हुए उन्होंने कहा इसी प्रकार प्रदेश सरकार को भी डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए कार्य करना चाहिए डॉक्टर दीपा सक्सेना ने कहा कि जब तक हम और हमारे परिवार सुरक्षित नहीं होंगे तब तक चिकित्सा सेवा में अपेक्षित सुधार संभव नहीं डॉक्टर संजीव सक्सेना ने कहा निजी क्षेत्र में ही नहीं सरकारी अस्पतालों में भी कमोवेश यही हाल है सरकार चिकित्सा उपकरण तो उपलब्ध करा देती है किंतु उसके संचालन के लिए संचालक उपलब्ध नहीं होते हैं जनपद में 3 वेंटीलेटर के स्थान पर आज 60 वेंटिलेटर उपलब्ध हैं किंतु संचालकों के अभाव में वे धूल फांक रहे हैं चूं कि आम लोगों को यह तकनीकी स्थिति का ज्ञान नहीं होता और वह असुविधा होने पर डॉक्टर से लड़ बैठते हैं जबकि उसमें डॉक्टर का कोई दोष नहीं होता डॉक्टर वसीम ने कहा कि यह एक सामाजिक समस्या है हम सब कुछ करने में सक्षम हैं लेकिन सुरक्षा के चलते लाचार हैं डॉक्टर समाज का सबसे शिक्षित वर्ग होता है फिर भी असुरक्षा की भावना तथा अपमान उसे निरंतर झेलना पड़ रहा है यदि यही हाल रहा तो चिकित्सा सेवा का क्षेत्र पंगु होकर रह जाएगा।

    फ़ैयाज़ उद्दीन, शाहजहाँपुर- उत्तरप्रदेश
    INA NEWS(Initiate News Agency)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.