Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अयोध्या। 1200 एकड़ में बसेगी नव्य अयोध्या, 81 देशों के धार्मिक दूतावास भी बनेंगे नव्य अयोध्या के विकास का खाका तैयार

    अयोध्या। मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम की धर्म नगरी अयोध्या दिन प्रतिदिन विकास के पथ पर अग्रसर है। एक तरफ जहां राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट द्वारा जमीन का खरीद औरविस्तारीकरण का कार्य चल रहा है। वहीं दूसरी तरफ आरोप-प्रत्यारोप भ्रष्टाचार का भी बोलबाला है। और अयोध्या में जमीने इतनी महंगी हो गई है कि राम मंदिर फैसला आने के बाद 10 गुना तक जमीन के दाम बढ़ गए हैं। अयोध्या में नेता अधिकारी व्यापारी प्रतिष्ठान वाले कारोबार करने वाले ही नहीं जमीन की खरीद-फरोख्त करने वाले सस्ते में जमीन लेकर महंगे में बेचने का अच्छा धंधा कर रहे हैं।

    सरकार प्रशासन द्वारा मंदिर निर्माण के साथ-साथ अयोध्या के संपूर्ण विकास के लिए केंद्र व प्रदेश सरकार प्रतिबद्ध है। अयोध्या का संपूर्ण विकास कैसे हो इसके लिए विजन डॉक्यूमेंट भी तैयार किया जा रहा है। अयोध्या के साथ-साथ गोंडा व बस्ती जिले के कुछ क्षेत्र अयोध्या के विकास के लिए भी समाहित किए जा रहे हैं। अयोध्या में आवास विकास परिषद 1200 एकड़ में नव्य अयोध्या बनाने जा रही है। जिसमें 81 देशों के धार्मिक व सांस्कृतिक दूतावास बनाए जाएंगे। आवास विकास परिषद भारत के सभ्यता व संस्कृति से जुड़े देशों को नव्य अयोध्या में 81 प्लाट एलाट करेगा। जो देश धार्मिक दूतावास खोलने के लिए आवेदन करेगे उनको आवास विकास परिषद धार्मिक दूतावास के रूप में प्लाट को एलाट करेगा।

    अमेरिका, इंग्लैंड, जापान, कोरिया, इंडोनेशिया, मलेशिया, म्यांमार व श्रीलंका समेत 81 देशों को धार्मिक दूतावास के रूप में जगह दी जाएगी। जहां पर विदेशी श्रद्धालुओं को सुविधा मिलेगी। अयोध्या विकास प्राधिकरण के सचिव आरपी सिंह ने बताया कि आवास विकास परिषद द्वारा एक नए रूप में टाउनशिप विकसित की जाएगी, जिसे वैदिक सिटी के रूप में जाना जाएगा। नव्य अयोध्या हाईवे के बगल माझा में 1200 एकड़ में डेवलप किया जायेगा। वैदिक सिटी के रूप में यह टाउन सिटी डेवलप की जाएगी। अयोध्या टाउन सिटी में उन देशों के दूतावास होंगे जो भारतीय संस्कृति सभ्यता के परंपरा से जुड़े होंगे। नव्य अयोध्या का भावी वैभव का जब सृजन हो जाएगा तब विभिन्न देशों के श्रद्धालु अयोध्या पहुंचेंगे। उनको सुविधाएं दी जाएंगी। विदेशी धार्मिक दूतावास भारतीय संस्कृति तथा सभ्यता के सेतु के रूप में  काम करेंगे।

    नव्य अयोध्या में धार्मिक सांस्कृतिक दूतावास को जगह दी जाएगी ताकि अयोध्या का वैभव सभ्यता व संस्कृति विदेशों तक पहुंच सके। ऐसे में अयोध्या नव्य सिटी के रूप में विकसित होकर विश्व के मानचित्र पर स्थापित होगी और दुनिया भर के श्रद्धालु अयोध्या आकर भगवान श्री राम के दर्शन करेंगे।


    देव बक्श वर्मा 

    Initiate news Agency(INA), अयोध्या 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.