Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    देवबंद। मतगणना स्थल के बाहर उमडी लोगों की भीड

    देवबंद। रविवार को त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में डाले गए वोटों की मतगणना समय से लगभग डेढ घंटा बाद शूरू हुई। मतगणना करीब ३६ घंटों तक चलने की संभावना जताई जा रही है। वही शांतिपूर्ण ढंग से मतगणना संपन्न कराने को पुलिस प्रशासन मुस्तैद रहा। वहीं, कोरोना संक्रमण के चलते मतगणना स्थल पर स्वास्थ्य विभाग की टीम भी अलर्ट पर रही।

     मतगणना स्थल के बाहर उमडी लोगों की भीड

    देवबंद ब्लाक क्षेत्र के ६४ ग्राम पंचायतों वाले प्रधान पद के लिए 571, ग्राम पंचायत सदस्य के लिए 851 और क्षेत्र पंचायत सदस्य पद के लिए 443 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला रविवार से शुरू हुई मतगणना से होना है।

    हाईवे स्थित गोकुलचंद रहती देवी कन्या इंटर कालेज में बनाए गए मतगणना स्थल पर वोटों की गिनती के लिए कुल 13 कमरों में 22 टेबल पर मतगणना का कार्य सुबह 8 बजे शुरू होना था। लेकिन कोरोना गाइडलाइन के अनुसार एजेंटों व मतगणना कर्मियों एवं मतगणना स्थल के अंदर तैनात पुलिस कर्मियों की कोरोना जांच होने के चलते मतगणना करीब डेढ़ घंटे विलम्ब से शुरू हो सकी। गतगणना के करीब दो घंटे बाद देवबंद ब्लाक से सबसे पहले ग्राम बास्तम के प्रधान पद का परिणाम घोषित हुआ। देर शाम तक ग्राम प्रधान पद हेतु करीब आधा दर्जन से अधिक गांवों के परिणाम सामने आ चुके थे जबकि मतगणना का कार्य लगातार जारी रहा। वहीं, बीडीसी पद के भी आठ परिणामों की घोषणा चुनाव अधिकारी द्वारा की जा चुकी है। उधर, मतगणना शांतिपूर्ण संपन्न कराने को मतगणना स्थल के अंदर व बाहर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात रहा। एसडीएम राकेश कुमार सिंह व सीओ रजनीश उपाध्याय सुरक्षा की कमान संभााले रहे। प्रभारी निरीक्षक अशोक सोलंकी ने बताया कि सुरक्षा के पुख्ता इंतिजाम हैं। मौके पर प्रयाप्त सुरक्षा बल मौजूद हैं। किसी भी विजयी प्रत्याशी को जुलूस नहीं निकालने दिया जाएगा।

    मतगणना स्थल पर अपनी बारी का इतंजार करते प्रत्याशी के एजेंट

    झलकिया 

    मतगणना स्थल के बाहर उड़ीं सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां, पुलिस बेखबर

    लोगों ने मुंह पर मास्क तो लगाया पर सामाजिक दूरी का पालन करना भूले

    त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की मतगणना के दौरान हाईवे पर भारी भीड़ जमा रही है। जहां लोगों ने वैश्विक महामारी कोरोना वायरस को लेकर शासन प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी गाइडलाइन की जमकर धज्जियां उड़ाईं।

    हाईवे स्थित राजकीय कन्या इंटर कालेज में बनाए गए मतगणना स्थल के बाहर मेले जैसे हालात बने हुए थे। बड़ी संख्या में प्रत्याशियों के समर्थक सड़क के दोनों ओर समूह बनाकर खड़े थे। लोगों में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस को लेकर खौफ कम था, उनमें अपने प्रत्याशी के चुनाव परिणाम जानने को लेकर उत्सुकता ज्यादा दिखाई दे रही थी। कोरोना को लेकर लगातार चलाए जा रहे जागरुकता अभियान से यहां मौजूद लोगों ने मुंह पर मास्क तो जरुर पहना था, लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उड़ाई हुई थीं। जबकि यह बात सबके सामने आ चुकी है कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के मतदान के बाद देहात इलाकों में कोरोना का प्रकोप बढ़ा है। शहरों के मुकाबले ग्रामीण इलाकों में इसका अधिक प्रभाव देखने को मिल रहा है। जिसको देखते हुए साप्ताहिक लॉकडाउन घोषित किया हुआ है। लेकिन उसके बावजूद रविवार को मतगणना स्थल के बाहर लोगों की भारी भीड़ जमा रही।

    पुलिस के लाठी फटकारने से मची भगदड़, कई लोग सड़क पर गिरे


    देवबंद: त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की मतगणना के दौरान पुलिस के लाठी फटकारने से लोगों में भगदड़ मच गई। जिसमें कई लग हाईवे पर गिर गए। गनीमत रही कि लोग जल्द ही संभल गए। वरना बड़ा हादसा हो सकता था।

    पहले लोगों को जमा होने दिया और बाद में पुलिस लाठी फटकार कर उन्हें दौड़ा रही थी। पुलिस की यह सख्ती रविवार को नगर में बड़े हादसा का सबब बन सकती थी। दरअसल हाईवे पर लोगों की भारी भीड़ जुटी थी। इसी के बीच से परिवहन विभाग की बसें, ट्रक और अन्य वाहन भी गुजर रहे थे। पुलिस व्यवस्था बनाती उससे पहले ही लोगों ने स्वयं ही वाहनों के गुजरने के लिए बीच की जगह खाली छोड़ी हुई थी और दाएं-बाएं लोग सड़क किनारे खड़े थे। इसी दौरान एक अधिकारी हाथों में डंडा और आरएएफ के जवानों को साथ लिए वहां पहुंचे और बिना कुछ सोचें समझे जमीन पर लाठी फटकारनी शुरु कर दी। जिससे वहां भीड़ में भगदड़ मच गई। इस दौरान कई लोग भागते समय सड़क पर गिर गए। इस दौरान कई लोग तो वहां से गुजर रहे गन्ने से लगी ट्रैक्टर ट्राली की चपेट में आने से भी बच गए। गनीमत यह रही कि कुछ दूर भागने पर लोग रुक गए, वरना पुलिस की लाठी फटकारने वाली हरकत से जानी नुकसान हो सकता था।

    महारे वाला ही जीतेगा, बढ़िया वोट पड़ी

    मतगणना स्थल के बाहर खड़े प्रत्याशियों के समर्थकों का अपना ही तर्क होता है। रविवार को हर कोई अपने-अपने प्रत्याशी की जीत का दावा करते दिख रहा था। मतगणना स्थल के बाहर खड़ा एक प्रत्याशी का समर्थक दूसरे से कह रहा था म्हारे वाला ही जीतेगा, वोट बहुत बढ़िया पड़ी हुई है।

    वीकेंड लॉकडाउन में दुकानें बंद, माला वाला मतगणना स्थल पर पहुंचा

    वैश्विक महामारी कोरोना वायरस की चैन तोड़ने के लिए जनपद में वीकेंड लॉकडाउन लगाया गया है। जिसकी वजह से दुकानें बंद है, एसे में विजयी प्रत्याशियों के लिए फूलों की माला तलाश करने के लिए मारे मारे फिर रहे समर्थकों को उस समय राहत मिली जब एक फूल वाला रेहड़े में मालाएं लेकर लोगों के बीच पहुंचा तो लोगों ने हाथों हाथ मालाएं खरीद लीं।  

    बहरुपिये का भी मतगणना स्थल के बाहर रहा जलवा

    मतगणना स्थल के बाहर पुलिस तो कम ही दिखाई दे रही थी। लेकिन वहां खाकी वर्दी में घूम रहे एक बहरुपिये का जलवा धूम मचा रहा था। दोनों हाथों में डंडे, बदन पर खाकी वर्दी और गले में मला पहने यह बहरुपिया पुलिस की ड्यूटी करते दिखाई दिया। सड़क के बीच खड़े लोगों को बहरुपिया डंडा मारकर हटा रहा था। जबकि पुलिस भीड़ में कहीं दिखाई ही नहीं दे रही थी।


    शिब्ली इक़बाल 

    Initiate News Agency (INA), देवबंद 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.