Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कोरोना की दूसरी लहर में भी मज़दूरों के सामने रोज़ी रोटी का संकट

    कोरोना की दूसरी लहर में भी मज़दूरों के सामने रोज़ी रोटी का संकट

    सम्भल-उत्तर प्रदेश : कोरोना की दूसरी लहर ने फिर से डरावनी कहानी लिखनी शुरू कर दी है। आज भी पहली लहर के मंजर लोगों के दिलों को झकझोर देता है। मजदूरों की तस्वीरों को देखकर आज फिर से आत्मा सिहर जाती है। कोरोना काल में मजदूरों ने जो झेला है वह असहनीय दर्द रुला देता है। लेकिन मजदूरों की सुध कोई नहीं लेने वाला है। कोरोना की दूसरी लहर फिर मज़दूरों को डराने लगी है। पहली लहर से खतरनाक मंजर एक बार फिर दूसरी लहर में देखने को मिल रहा है। मजदूर फिर से अपने परिवार का पालन पोषण करने को मजबूर है। बेरोजगारी का आलम ये है। लोग पूरी तरह टूट चुके है। सरकार है कि दावे तो बहुत करती है लेकिन आर्थिक मदद सिर्फ कागजों पर ही दिखती है। लॉकडाउन ने तो मजदूरों की कमर ही तोड़ कर रख दिया है। कुछ हालात संभलें ही थे की दूसरी लहर ने आर्थिक परिस्तिथियों को फिर से ऐसे मोड़ पर लाकर खड़ा कर दिया कि मज़दूरों के सामने बेबसी का आलम फिर से है।

    कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए उत्तर प्रदेश में पिछले 10 दिनों से लॉकडाउन जारी है। इससे प्रतिदिन मजदूरी कर अपनी आजीविका चलाने वाले मजदूरों के सामने रोजी रोटी की समस्या उत्पन्न हो गई है। मज़दूरो को काम करने के बाद जो मजदूरी प्राप्त होती है, उससे परिवार का गुजर-बसर चलता है लेकिन अब इन्हें काम नहीं मिल रहा है, तो मज़दूर अपने घर का लालन पालन करने के लिए बेबस नज़र आ रहे है। सम्भल जिले में भी कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर इन्हीं मजदूरों को परेशान किए हुए है।

    जिले में हजारों मजदूर बेरोजगार होकर घर बैठने को मजबूर हैं। कोरोना की दूसरी लहर खतरनाक होने पर वीकेंड कर्फ्यू के बाद बाजार बंद होने से मजदूरों का काम छिन गया हैं। हालात यह हैं कि कई मजदूर आस-पास के लोगों से उधार लेकर घर खर्च चला रहे हैं। मजदूर इतने बेबस है कि सरकार से गुहार लगाकर सहायता की उम्मीद कर रहे है। उनका कहना है कि मजदूर वर्ग के लोगों को बिजली, गैस जैसी चीजों में सरकार को कमी करनी चाहिये। मज़दूरो के खातों में पहली की तरह पैसे डालने चाहिये। मज़दूरो ने कहा कि सरकार को लगभग पांच हजार रुपये मज़दूरो के खातों में डालने चाहिये साथ ही जिस तरह पहली लहर में कम्यूनिटी किचन शुरू किया था। सरकार को जल्द से जल्द कम्युनिटी किचन शुरू करना चाहिये।

    उवैश दानिश
    आईएनए न्यूज़ एजेंसी, सम्भल-उत्तर प्रदेश 

    बाइट - सालिम हुसैन


    बाइट - अनवर अशरफी


    बाइट - अज़रा

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.