Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    मातृ दिवस पर मां की क्रूरता- मां भगवान होती है , मां एक बहू और सास की भूमिका में यमराज होती है

    मातृ दिवस पर मां की क्रूरता- मां भगवान होती है , मां एक बहू और सास की भूमिका में यमराज होती है 

    आचार्य विष्णुगुप्त......

    आज मातृ दिवस है, सोशल मीडिया में मां की महिमा वाली तस्वीर और लेखन की भरमार है, ऐसा लगता है कि सबके सब मां को भगवान मानने वाले ही है और मां की सेवा करने वाले हैं। पर सच्चाई बहुत ही कड़वी होती है, बेपर्दा करने वाली होती है, रोंगटे खड़े करने वाली होती है।

    .......  अगर सबलोग मां पिता की सेवा करने वाले हैं, मां पिता को भगवान मानते हैं तो फिर वृद्ध आश्रम क्यो है भाई। देश के कोने कोने में वृद्ध आश्रम क्यो खुले हुए हैं। वृद्ध आश्रम में रहने वाले किसके माता पिता है। वृद्ध आश्रम में जाकर देखिए कि एक मां और पिता की कितनी पीड़ा है। हर किसी की मां कभी न कभी बहू और सास की भूमिका में जरूर होती है। एक मां की ममतामई जरूर होती है।

      .....    जब एक मां पहले बहू और उसके बाद सास की भूमिका में होती है तब वह कितनी क्रूर होती है, कितनी  अमानवीय होती हैं , कितनी खतरनाक होती है, यह भी जगजाहिर है। एक मां पहले बहू के रूप में एक बहन से भाई को छीन लेती है, अलग कर देती है, एक भाई से भाई को अलग कर देती है, एक मां और पिता को उसके बेटे से अलग कर देती है, बसा बसाया और खुशहाल परिवार को तोड देती है।

    ......  बुजुर्गो से पूछ लीजिए, एक बहू की करतूत पर उबल पड़ेंगे, थोड़ी सहानुभूति दिखाइए फिर उनके आंखो में आंसुओ की भरमार हो जाएगा, हर कोई का मन दुखी हो जाता है, हमने बड़े शहरो में ही नहीं बल्कि छोटे शहरों और कस्बों में भी बहुओं के सताए और प्रताड़ित बुजुर्गो की खौफनाक कहानियों को देखा है, जाना है।

    .......   एक मां की करतूत सास के रूप में जान लीजिए। जब बहू सास की भूमिका में होती है तब वह दहेज लोभी होती है, बहू पर  क्रूर शासन चलाती है,दहेज प्रताड़ना करती है, बहुओं को जिंदा जलाने और मारने में भी सास की भूमिका होती है।

    ..... अपवाद सच्चाई नहीं होती, गिने चुने और हजारों में एक बहू और सास अपवाद में होती है।

    ........   आदर्श मां तो वह होती है जो एक आदर्श बहू और आदर्श सास भी होती है।

    .......                  मां नहीं बल्कि मै आदर्श मां को मातृ दिवस पर प्रणाम करता हूं।

    लेखक- विष्णु गुप्त(राजनीति विशेषज्ञ/वरिष्ठ पत्रकार)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.