Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कासगंज। खबर चलाने से बौखलाए ग्राम प्रधान के गुर्गों ने पत्रकार के घर में बोला धाबा, गांव में जमकड तड़तड़ाई गोलियां

    कासगंज। उत्तर प्रदेश में हो रहे पत्रकारों और उनके परिजनों पर हो रहे जानलेवा हमलों के बाद भले ही इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सरकार को पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर चेताया था, और अपराधियों पर कड़ी कार्रवाई करने को निर्देशित किया था।

    लेकिन सूबे में पत्रकारों की सुरक्षा रामभरोसे ही प्रतीत हो रही है, अपराधी बेखौफ होकर पत्रकार और उनके परिजनों के साथ वारदातों को अंजाम देकर खाकी को खुली चुनौती दे रहे हैं।ताजा मामला जिले की पटियाली कोतवाली क्षेत्र का है, जहां के रहने वाले अतुल यादब स्थानीय न्यूज चैनल के जिला प्रतिनिधि हैं।

    अतुल का आरोप है कि विगत 14 मई को सिढ़पुरा बिकास क्षेत्र की ग्राम पंचायत नौरी के प्रधान बलबीर सिंह यादव की कोविड नियमों को तार तार करती एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी।जिसपे थाना पटियाली पुलिस ने स्वतः संज्ञान लेते हुए आरोपी प्रधान बलबीर सिंह और उसके भाई समेत आधा दर्जन लोगों पर महामारी एक्ट में मुकद्दमा दर्ज किया गया था।

    दर्ज हुए मुकद्दमे की खबर अतुल ने भी अपने चैनल पर प्रसारित की थी, जिसको लेकर आरोपी प्रधान बौखला गया था, और रंजिश मानने लगा था।आरोपी प्रधान बलबीर सिंह के भाई प्रेमबीर उर्फ भूरे ने अपने साथियों संग पत्रकार के पिता रामरहीस को देख लेने की भी धमकी दी थी।

    अतुल ने इसकी शिकायत क्षेत्राधिकारी पटियाली दीप कुमार पंत को दी, जिसपे उन्होने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई का भरोसा दिया था।इसी बीच शनिवार की शाम लगभग 4 बजे ग्राम प्रधान के गुर्गे सतीश, बीरपाल, कल्याण सिंह, देव सिंह और विपन समेत आधा दर्जन से अधिक लोगों ने पत्रकार के घर पर हमला बोल दिया और उनके परिजनों के साथ मारपीट की।

    बाद में बौखलाए ग्राम प्रधान के गुर्गे सतीश ने  पत्रकार के दादा जुगेंद्र सिंह के ऊपर जान से मारने की नीयत से ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी, जिसमें वो बाल बाल बच गए ।फायरिंग कर भाग रहे आरोपी सतीश को वहां मौजूद ग्रामीणों  ने मय तमंचे व करतूतों के दबोच लिया और पुलिस को सूचना दी।

    इसी बीच ग्राम प्रधान का भाई प्रेमबीर उर्फ भूरा अपने साथियों सत्यबीर एवं मुनीश को लेकर अपने घरों की छतों पर चढ़ गए और आरोपी सतीश को छुड़ाने के लिए अंधाधुंध गोलियां चलाने लगे।फायरिंग होते देख पत्रकार के परिजन घरों में जान बचाने के लिए घुस गए, इस बीच उक्त आरोपी तमंचा लहराते हुए आरोपी सतीश को छुड़ा ले गए।

    सूचना पर पहुंची थाना पुलिस एवं डायल 112 ने आरोपी के नाजायज तमंचे और करतूतों को अपने कब्जे में ले लिया, लेकिन सभी आरोपी भागने में सफल रहे।बाद में थाने पहुंचकर पत्रकार अतुल यादव ने अपने परिजनों के साथ हुई वारदात की तहरीर दी, जिसपर थाना पुलिस ने त्वरित कार्यवाही करते हुए संबंधित धाराओं में मुकद्दमा पंजीकृत कर  आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास शुरू कर दिए हैं।

    इनबॉक्स 

    फोरेंसिक टीम ने घटनास्थल का किया निरीक्षण

    कासगंज: जिले में हुए पत्रकार के परिजनों पर हमले के बाद पटियाली पुलिस हरकत में आ गयी, उसने तुरंत फोरेंसिक टीम को घटना स्थल पर जांच के लिए रवाना किया।वहीं पत्रकार के परिजनों पर हुए इस हमले के बाद जिले के पत्रकार भारी तादात में पटियाली कोतवाली पर एकत्रित हो गए और आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की।


    अतुल यादव 

    Initaite News Agency(INA), कासगंज 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.