Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    स्वास्थ्य विभाग ग्रामीण इलाकों में करे डॉक्टरों की तैनाती, नहीं तो झोलाछाप डॉक्टर को करने दे इलाज : सुनील सेन

    स्वास्थ्य विभाग ग्रामीण इलाकों में करे डॉक्टरों की तैनाती, नहीं तो झोलाछाप डॉक्टर को करने दे इलाज : सुनील सेन

    राजनांदगांव : जिले में स्वास्थ्य व्यवस्था की कमान गांव में तैनात झोलाछाप डॉक्टर ही संभाल रहे हैं। सालों से स्वास्थ्य विभाग ग्रामीण इलाकों में डॉक्टरों की नियुक्ति नहीं कर पाया है, ऐसी स्थिति में ग्रामीणों को स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए झोलाछाप डॉक्टरों पर ही निर्भर रहना पड़ रहा है और इन्हीं डॉक्टरों के भरोसे ग्रामीण इलाके में 90 प्रतिशत स्वास्थ्य सुविधाएं जिंदा है। बावजूद इसके स्वास्थ्य विभाग अब ऐसे डॉक्टरों पर कार्रवाई करके एक तरीके से स्वास्थ्य सुविधा से वंचित कर रहा है।

    विश्व हिंदू परिषद के जिला अध्यक्ष सुनील सेन का कहना है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल स्वास्थ्य विभाग की ओर विशेष ध्यान दें, ताकि महामारी के इस दौर में ग्रामीणों को स्वास्थ्य सुविधाओं से वंचित ना होना पड़े। उनका कहना है कि ग्रामीण स्वास्थ्य व्यवस्था को संभाल रहे झोलाछाप डॉक्टरों को भी स्वास्थ्य विभाग के जरिए ट्रेनिंग दी जाए और उन्हें भी इलाज करने के लिए समुचित व्यवस्था दी जाए, ताकि ग्रामीणों को स्वास्थ्य सुविधाएं मिल सके। उन्होंने कहा है कि मुख्यमंत्री ग्रामीण क्षेत्र में तैनात झोलाछाप डॉक्टरों पर कार्रवाई बंद करने का आदेश दें, इसके साथ ही गांव-गांव में सरकारी कैम्प लगाकर गंभीर बीमारियों के इलाज की व्यवस्था करें।

    **********

    डॉक्टरों की बढ़ती फीस से परेशान जनता...

    उन्होंने कहा है कि वर्तमान में डॉक्टरों की फीस काफी मोटी हो चुकी है। गांव का गरीब किसान डॉक्टरों की फीस और उनकी महंगी दवाइयों को लेने में सक्षम नहीं है, ऐसी स्थिति में कई किसान जब गंभीर बीमारी का शिकार होते हैं, तो उन्हें अपनी जमीन जायदाद से भी हाथ धोना पड़ता है, ऐसी परिस्थितियों को देखकर उन्होंने सरकार से अपील की है कि स्वास्थ्य सुविधाओं को तत्काल बेहतर करने की दिशा में सरकार पहल करें।

    **********

    सालों से कर रहे इलाज...

    उनका कहना है कि सालों से ग्रामीण इलाकों में झोलाछाप डॉक्टर इलाज कर रहे हैं, कई गंभीर बीमारियों का इलाज बेहद कम पैसे में कर रहे हैं। ऐसी स्थिति में उन्हें सरकार अगर ट्रेन करें तो वह ग्रामीण इलाकों में बेहतर सुविधाएं दे सकते हैं। वर्तमान में जिस तरीके से प्राइवेट अस्पतालों में लूट मची है। ग्रामीण सेक्टर में ग्रामीण स्वास्थ्य सुविधाओं को लेने के लिए सक्षम नहीं है, उनका कहना है कि सरकार की यह सबसे बड़ी जिम्मेदारी है कि ग्रामीण इलाके में स्वास्थ्य को बेहतर तरीके से संचालित करें। सुनील सेन ने यह भी आरोप लगाया की प्रदेश मे चरमराई लचर स्वस्थ्य व्यवस्था के वजह से नागरिकों को उचित इलाज नहीं हो पा रहा है, यदि इस कार्यवाही पर अंकुश नहीं लगा तो विश्व हिंदू परिषद बजरंग दल अखाड़ा प्रमुख के नेतृत्व में मुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री को हस्ताक्षर नुमा पत्र प्रेषित किया जायेगा।

    हेमंत वर्मा
    आईएनए न्यूज़ एजेंसी, 
    राजनांदगांव, छत्तीसगढ़

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.