Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कानपुर। आईआईटी मेट्रो स्टेशन में सिस्टम उपकरण लगना शुरू; प्रयॉरिटी कॉरिडोर के बाक़ी 8 स्टेशनों में फ़ॉलो होगा यही मॉडल

    कानपुर। कानपुर में आईआईटी से मोतीझील के बीच मेट्रो परियोजना के प्रयॉरिटी कॉरिडोर का निर्माण कार्य जारी है। लगभग 9 किमी. लंबे इस कॉरिडोर में 9 मेट्रो स्टेशन बनने हैं। कॉरिडोर पर सिविल निर्माण के साथ-साथ फ़िनिशिंग का काम भी आगे बढ़ रहा है और कॉरिडोर के पहले स्टेशन आईआईटी पर विभिन्न सिस्टमों के उपकरण लगने का काम शुरू हो गया है।


    आईआईटी में लगाए गए सिग्नलिंग-टेलिकॉम उपकरणों के सैंपल

    आईआईटी मेट्रो स्टेशन, प्रयॉरिटी कॉरिडोर के अन्य 8 एलिवेटेड मेट्रो स्टेशनों के लिए मॉडल स्टेशन होगा। सिग्नलिंग और टेलिकॉम के जो उपकरण अभी इस स्टेशन पर लगे हैं, वे सैंपल के तौर पर लगाए गए हैं। इनके डिज़ाइन फ़ाइनल होने के बाद सभी स्टेशनों पर इसी सेटअप को दोहराया जाएगा। जल्द ही इनके डिज़ाइन पर फ़ाइनल अप्रूवल लेकर इन्हें इन्स्टॉल करने का काम तेज़ी के साथ शुरू किया जाएगा।

    कानपुर में सिग्नल्स के डिज़ाइन के साथ भी नया प्रयोग किया गया है। आमतौर पर सिग्नल का डिज़ाइन आयताकार होता है, जबकि कानपुर में इस डिज़ाइन को अंडाकार या ओवल किया गया है।

    लाइट-एसी लगाने का काम भी शुरू हुआ

    इसके अलावा, इलेक्ट्रिकल उपकरणों की फ़िटिंग भी शुरू हो गई है। रोड लेवल पर मेट्रो स्टेशनों के नीचे लाइटें लगने लगी हैं। इन लाइटों को हाई-बे (High-bay) बोला जाता है। जल्द ही कॉनकोर्स लेवल पर भी लाइट्स लगाने का काम शुरू होगा। रोड लेवल पर स्टेशनों की वायरिंग काम रावतपुर तक पूरा हो गया है।

    वहीं, आईआईटी के टेक्निकल रूम्स में एसी लगाने का काम चल रहा है। इसके अलावा, आईआईटी, कल्याणपुर और एसपीएस के कॉनकोर्स लेवल में केबल ट्रे लगाने का काम पूरा हो चुका है।

    इस संबंध में बात करते हुए प्रबंध निदेशक कुमार केशव ने कहा, “यूपीएमआरसी के विभिन्न विभागों ने कानपुर मेट्रो के प्रयॉरिटी कॉरिडोर पर सिस्टम उपकरणों के सेटअप का काम समानान्तर रूप से शुरू कर दिया गया है और धीरे-धीरे हम ट्रायल रन के लिए तैयार हो रहे हैं। लाइट्स के सैंपल फ़ाइनल किए जा चुके हैं और उन्हें लगाने का काम जारी है, वहीं आईआईटी पर लगे सिग्नलिंग-टेलिकॉम के उपकरणों के डिज़ाइन जल्द ही फ़ाइनल कर दिए जाएँगे। डिज़ाइन फ़ाइनल होने के बाद बचे हुए 8 स्टेशनों पर आईआईटी के सेटअप को दोहराने में ज़्यादा समय नहीं लगेगा।


    इब्ने हसन ज़ैदी 

    Initiate News Agency (INA), कानपुर 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.