Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    मरीजों को मिल रहा पारिवारिक माहौल, श्री ओम चिकित्सालय से 6 मरीज हुए डिस्चार्ज

    मरीजों को मिल रहा पारिवारिक माहौल, श्री ओम चिकित्सालय से 6 मरीज हुए डिस्चार्ज

    बैतूल- मध्यप्रदेश : मध्यप्रदेश के बैतूल में ,सेवा ही कर्म है ,इसी सूत्र को लेकर कोरोना मरीजों का श्री ओम चिकित्सालय भारत भारती में इलाज हो रहा है। पारिवारिक माहौल में मरीजों के मन से कोरोना का डर दूर हो जाता है और वो जल्द ठीक हो जाते है। शनिवार को श्री ओम चिकित्सालय भारत भारती में भर्ती कोरोना मरीज कोरोना को मात देकर ठीक हुए 6 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया। अस्पताल प्रबंधन ने इन मरीजों को पौधे भेंट कर उनके स्वास्थ्य कामना के साथ तालियां बजाकर उनका उत्साहवर्धन किया। ठीक हुए मरीजों में राजकुमार पेंद्राम, पार्वती बारस्कर, मंगला बारस्कर, कीर्ति, सुरेन्द्र सागरे शामिल है।

    अस्पताल से छुट्टी होने पर मरीजों ने खुशी का इजहार करते हुए कहा कि हम लोग यहां 15 से 20 तक भर्ती रहे यहां अस्पताल जैसा नहीं परिवार जैसा माहौल मिला। अस्पताल के स्टाफ ने देखरेख में कोई कमी नहीं रखी। दवाईयों के साथ योगा, म्यूजिक थैरेपी और आयुर्वेदिक काढ़ा भी दिया गया, जिससे उनकी बीमारी से जल्द निजात मिल गई और अब पूर्ण रूप से स्वस्थ है। पूरा इलाज भी नि:शुल्क किया गया। ना ऑक्सीजन के पैसे लगे, ना दवाईयों के। श्री ओम चिकित्सालय के संचालक सोनू पाल ने बताया कि मानव सेवा ही हमारा फर्ज है, उसे हम निभा रहे है। हमारी कोशिश रहती है कि मरीज को ऐसा माहौल मिलें कि वो जल्द ठीक हो जाए। डॉ. संदीप पाल ने बताया कि मरीजों की देखभाल के लिए पूरा स्टॉफ तत्पर रहता है। मरीजों को किसी भी तरह की दिक्कत ना हो, इसका भी ध्यान रखा जाता है।

    आज छ: लोगो ने कोरोना को मात देते हुए अपने परिजनों के साथ अस्पताल से स्वस्थ एवं प्रसन्न  हो कर रवाना हुए इस अवसर पर डा. संदीप पाल , डा. मंगेश घोटे , डा. अनंत वर्मा ,डा.रीता घोटे , डा. नरेन्द्र नरवरे , डा. शोएब दीवान एवं डा. विजय ताण्डिलकर , डां कुवर सिंह आहके ,शादमा खान एवं स्टाफ  ने कोरोना की जंग जीत चुके लोगो को पौधे दे कर तालियों की गड़गड़ाहट के बीच रवाना कर उनके उज्जवल एवं स्वस्थ भविष्य की कामना की।

    शशांक सोनकपुरिया, बैतूल- मध्यप्रदेश
    INA NEWS(Initiate News Agency)

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.